शराबी पति की हरकतों से परेशान महिला ने बुलाए शूटर, जानिए आगे फिर क्या हुआ !

0
2286
पन्ना कोतवाली थाना पुलिस टीम की अभिरक्षा में कुख्यात बदमाश।

* पुलिस ने तुरंत मौके पर पहुंचकर तीन हथियारबंद बदमाशों को किया गिरफ्तार

* पन्ना कोतवाली थाना के समीपी ग्राम पुरुषोत्तमपुर की घटना

पन्ना। (www.radarnews.in) शराबी पति की हरकतों और प्रताड़ना से एक नवविवाहिता इतनी तंग आ गई कि उसने अपने मायके वालों को सूचना देकर शूटर बुला लिए। हथियारबंद बदमाश किसी बड़ी वारदात को अंजाम दे पाते कि उसके पहले ही पन्ना कोतवाली थाना पुलिस ने तत्परता से कार्रवाई करते हुए घेराबंदी कर तीनों शातिर बदमाशों को धरदबोंचा। यह घटना पन्ना की सीमा से सटे ग्राम पुरुषोत्तमपुर की है। रविवार को पुलिस ने जब वहां से मोटरसाइकिल सवार तीन हथियारबंद बदमाशों को पकड़ा तो आसपास के इलाके में सनसनी फ़ैल गई।
जन चर्चाओं के अनुसार पुरुषोत्तमपुर निवासी एक ठेकेदार का शराबी पुत्र अपनी पत्नी को विवाह के बाद से ही काफी परेशान कर रहा है। दामाद के कृत्यों से नवविवाहिता के परिजन भलीभाँति वाकिफ थे। इसलिए पति की प्रतड़ना से तंग आ चुकी युवती ने जब अपने मायके में सूचना दी तो उसका मामा कथित तौर पर दामाद को जान से मारने की नियत से अपने दो दोस्तों को लेकर पुरुषोत्तमपुर आ गया। मगर तभी कोतवाली थांना पन्ना के निरीक्षक हरी सिंह ठाकुर को मुखबिर के जरिए बदमाशों के संबंध पता चल गया। हथियारबंद बदमाश किसी गंभीर घटना को अंजाम दे पाते कि उसके पहले ही पुलिस टीम ने घेराबंदी कर तीनों अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया। इनकी पहचान धीरेन्द्र सिंह परमार पिता जगत सिंह परमार 29 वर्ष एवं वीरू उर्फ दिग्विजय सिंह ठाकुर पिता मुलायम सिंह ठाकुर 25 वर्ष दोनों निवासी ग्राम पटनाकला थाना सिमरिया तथा राहुल यादव पिता लक्ष्मण यादव 25 वर्ष निवासी ग्राम गहरा थाना कोतवाली पन्ना के रूप में हुई है। तलाशी लेने पर तीनों बदमाशों के कब्जे से एक-एक देशी कट्टा और जिंदा कारतूस बरामद हुए है। पुलिस ने तीनों बदमाशों के खिलाफ आर्म्स एक्ट के तहत प्रकरण पंजीबद्ध कर मामले को जांच में लिया। यह घटनाक्रम समूचे पुरुषोत्तमपुर गांव में चर्चा का विषय बना हुआ है। हालांकि पुलिस अधिकारियों ने अधिकारिक तौर पर इस कहानी की पुष्टि नहीं की है।

कई साल से फरार था कुख्यात बदमाश

पन्ना कोतवाली थाना पुलिस ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर तीनों बदमाशों की गिरफ्तारी के संबंध में जो जानकारी दी है उसके अनुसार पुलिस अधीक्षक पन्ना मयंक अवस्थी द्वारा जिले में अवैध शास्त्रों की धरपकड़ हेतु चलाये जा रहे विशेष अभियान के तहत कार्यवाही करने हेतु सभी थाना प्रभारियों को निर्देश दिये गये थे। इस दौरान रविवार 1 दिसम्बर को मुखबिर से सूचना मिली कि तीन व्यक्ति कट्टा-कारतूस लिए सफ़ेद रंग की अपाचे मोटरसाइकिल से किसी गंभीर घटना को अंजाम देने की फिराक में पहाड़ीखेरा रोड किनारे जनकपुर में निर्माणाधीन रेलवे स्टेशन के पास खड़े है। निरीक्षक हरी सिंह ठाकुर के नेतृत्व में पुलिस की अलग-अलग टीमों ने इलाके की घेराबंदी कर तीनों बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया। इनकी शिनाख्त धीरेन्द्र सिंह परमार एवं वीरू उर्फ दिग्विजय सिंह ठाकुर दोनों निवासी ग्राम पटनाकला थाना सिमरिया तथा राहुल यादव निवासी ग्राम गहरा थाना कोतवाली पन्ना के रूप में हुई है। तलाशी लेने पर पुलिस ने इनके पास से एक-एक 315 बोर का कट्टा-कारतूस बरामद किया है। इसके अलावा अपाचे मोटर साइकिल भी जब्त की है।
उल्लेखनीय है कि आरोपी धीरेन्द्र सिंह परमार पिता जगत सिंह परमार 29 वर्ष निवासी पटना कलाथाना सिमरिया का पूर्व से ही आपाराधिक गतिविधियों में शामिल रहा है। इसके विरुद्ध जिले के पुलिस थाना सिमरिया मे कई प्रकरण दर्ज है। पुलिस थाना सिमरिया के प्रकरण क्रमांक 15/14 धारा 307, 325, 323, 294, 506, 34 ताहि में धीरेन्द्र काफी समय से फरार चल रहा था। एडीजे न्यायालय पवई द्वारा आरोपी के विरुद्ध गैरम्यादी स्थाई वारंट जारी किया गया था। वहीं पुलिस अधीक्षक पन्ना ने धीरेन्द्र की गिरफ्तारी हेतु नगद ईनाम घोषित किया था। इसका साथी राहुल यादव पिता लक्ष्मण यादव 25 वर्ष निवासी ग्राम गहरा थाना कोतवाली पन्ना का कुख्यात आरोपी है। राहुल के विरुद्ध थाना कोतवाली पन्ना मे पूर्व से विभिन्न धाराओं में प्रकरण पंजीबद्ध है।

पुरुष्कृत होगी पुलिस टीम

हरी सिंह ठाकुर, निरीक्षक, कोतवाली थाना पन्ना।
कुख्यात बदमाशों की धरपकड़ की कार्यवाही में पन्ना कोतवाली थाना निरीक्षक हरी सिंह ठाकुर, उप निरीक्षक रवि सिंह जादौन, एमएल यादव, सहायक उप निरीक्षक एसडी सिंह, प्रधान आरक्षक रामकृष्ण पाण्डेय, शिवेन्द्र सिंह, प्रेम लाल पाण्डेय, आरक्षक राजीव मिश्रा, ए. आर. ब्रह्मदत्त शुक्ला, लक्ष्मी यादव, राजेश सिंह, बीरेन्द्र अहिरवार, रामपाल, प्रदीप पाण्डेय, दीप प्रकाश, पुष्पेन्द्र मौर्य, चालक रवि खरे, सुनील मिश्रा एवं सैनिक मुन्नालाल की सराहनीय भूमिका रही। इनके विशेष योगदान को दृष्टिगत रखते हुए पुलिस अधीक्षक पन्ना मयंक अवस्थी ने नकद ईनाम से पुलिस टीम को पुरुष्कृत करने की घोषणा की है।