रेंज ऑफिस का घेराव कर कांग्रेसियों के साथ ग्रामीणों ने किया प्रदर्शन

0
1370

कचनारी ग्राम में पन्ना टाईगर रिज़र्व की कार्रवाई से उपजा आक्रोश

वन अमले ने गरीबों के झोपड़े तोड़े और वर्षों से काबिज भूमि से किया बेदखल

अमानगंज। रडार न्यूज     पन्ना टाईगर रिज़र्व का वन परिक्षेत्र अमानगंज बफर इन दिनों सुर्खियों में है। यहां पिछले दिनों ग्राम कचनारी में निर्मित गरीबों के झोपड़ों को वन भूमि में अतिक्रमण बताकर बगैर नोटिस दिए बारिश के मौसम में तोड़ने की कार्रवाई से उपजा आक्रोश अभी पूरी तरह शांत भी नहीं हुआ था कि इस बीच ग्राम मोहार निवासी केशव बंजारा के विरुद्ध नीलगाय के शिकार का कथिततौर पर फर्जी प्रकरण बनाये जाने से नाराज ग्रामीण सड़कों पर उतर आये हैं। वन परिक्षेत्र अमानगंज बफर से सटे ग्रामों के वाशिंदों का आरोप है कई दशकों से वे जिस भूमि में रह रहे या खेती कर रहे हैं उससे बेदखल करने की सुनियोजित साजिश के तहत उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है। पीटीआर के इस अत्याचार के खिलाफ नगर कांग्रेस कमेटी अमानगंज के नेतृत्व में वन क्षेत्र के ग्रामों से सटे रहवासियों और प्रभावित लोगों ने गत दिनों पुलिस थाना अमानगंज और फिर अगले दिन रेंज ऑफिस का घेराव कर जमकर प्रदर्शन किया।

डिप्टी रेंजर के खिलाफ दर्ज हो प्रकरण 

हल्ला बोल रैली निकलकर कांग्रेस नेताओं के साथ रेंज ऑफिस अमानगंज पहुंचे ग्रामीणों ने वहां डिप्टी रेंजर आरपी प्रजापति और कुछ वनकर्मियों पर उनके साथ मारपीट करने फर्जी वन अपराध दर्ज कर प्रताड़ित करने के गंभीर आरोप लगाते हुए तीखी नारेबाजी की गई। नगर पंचायत अध्यक्ष अमानगंज हक्कुन दहायत ने मांग है कि ग्रामीणों के विरुद्ध दर्ज फर्जी मामले वापिस लिए जायें और उनके साथ मारपीट करने वाले डिप्टी रेंजर आरपी प्रजापति और वनकर्मियों के खिलाफ आपराधिक प्रकरण दर्ज किया जाये। रेंज ऑफिस में प्रदर्शन के दौरान चुनाव अभियान समिति सदस्य शिवजीत सिंह ने अपने उद्बोधन में संपूर्ण घटनाक्रम को गरीबों के साथ जुल्म करार देते हुए कहा कि एक तरफ मुख्यमंत्री अपने भाषणों में कहते हैं कि उनके रहते हुए कोई भी गरीब की झोपड़ी को हाँथ नहीं लगा सकता। गरीबों को उनके कब्जे की भूमि पट्टा दिया जायेगा। जबकि इसके विपरीत भाजपा सरकार में निरंकुश अफसर कानून का दुरूपयोग कर गरीबों को बेघर करने का अभियान चला रहे हैं।

शिवराज की कथनी-करनी में अंतर

युवक कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष वैभव थापक ने कहा कि गरीबों के हक़ की लड़ाई जिला स्तर पर लड़ी जायेगी, हम सब आपके साथ है। कार्यक्रम का नेतत्व कर रहे नगर कांग्रेस कमेटी के पूर्व अध्यक्ष वसीम खान ने आरोप लगाते हुए कहा कि डिप्टी रेंजर द्वारा ग्राम कचनारी दहशत का माहौल बना कर गरीब लोगों से रुपयों की मांग की जा रही है। रुपये न देने पर मिलने पर रेंजर द्वारा मारपीट एवं फ़र्ज़ी केश बनाकर निर्दोष लोगों को प्रताड़ित किया जा रहा है। यह घोर निंदनीय और आपत्तिजनक है। गरीबों को षड़यंत्रपूर्वक उनके कब्जे की भूमि से बेदखल करने से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और उनकी सरकार की कथनी-करनी के अंतर को गरीब समझ चुके है। आगामी समय में इसका करारा जबाब झूठी सरकार को दिया जायेगा। धरना-प्रदर्शन एवं ज्ञापन सौंपने वालों में में मुख्य रूप से आईटी सेल अमानगंज ब्लाक अध्यक्ष विनय दहायत, नगर कांग्रेस कार्यकारी अध्यक्ष अभिषेक दिवेदी, अजयवीर सिंह, भूपेंद्र सिंह, आशीष बागरी, पूर्व विधायक फुंदर चौधरी, भभूत सिंह, अंगद प्रजापति, सतीश दुबे, अभिषेक दिवेदी, जीतेंद्र दिवेदी सिरी, प्रमोद तिवारी, राधा चौधरी, लक्ष्मी दहायत, सौरभ दुबे, गजराज सिंह, मुन्ना महाराज, संदीप तिवारी, नितेश पांडेय, लक्ष्मी चौबे एवं बड़ी संख्या में ग्रामीण शामिल रहे।

इनका कहना है-   कुछ लोग अपने अतिक्रमण को बचाने के लिए मेरे विरुद्ध झूठे आरोप लगा रहे हैं। भले ही वे वर्षों से भूमि पर काबिज हैं लेकिन उनके पास इसका कोई प्रमाणित साक्ष्य नहीं है। कचनारी की भूमि की वस्तुस्थिति की जाँच हेतु संयुक्त सर्वे के लिए राजस्व को भी लेख किया गया है। केशव के ऊपर संदेह होने पर शिकार का प्रकरण दर्ज किया गया है।

आरपी प्रजापति, डिप्टी रेंजर अमानगंज।

फॉरेस्ट की सीमा चिन्हित है और हर जगह हमारे पक्के मुनारे बने हैं। सिर्फ संदेह के आधार पर किसी के विरुद्ध वन अपराध दर्ज नहीं किया जा सकता है, जब तक कि संबंधित के विरुद्ध ठोस साक्ष्य न हो। क्योंकि दर्ज प्रकरण को न्यालय में सिद्ध करना पड़ता है। इस मामले में डिप्टी रेंजर अमानगंज से बात करूंगा यदि कोई गलती पाई गई तो उनके विरुद्ध नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

के. एस. भदौरिया, सीसीएफ पन्ना टाईगर रिज़र्व।