जिले के 400 से अधिक प्राइवेट स्कूल क्यों बंद रहे !

0
583

फीस नियंत्रण अधिनियम समेत 1 एकड़ भूमि की अनिवार्यता का किया विरोध

प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन ने मुख्यमंत्री के नाम मांगो को लेकर सौंपा ज्ञापन

पन्ना। रडार न्यूज     मध्य प्रदेश प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन के आह्वान पर मंगलवार 29 अगस्त 2018 को पन्ना जिले के करीब 400 से अधिक निजी स्कूल शासन के विभिन्न नियम-कानूनों के विरोध स्वरुप बंद रहे। इसकी पूर्व सूचना के चलते आज बच्चे आज अपने घरों में ही रहे। फलस्वरूप प्राइवेट स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हुई। प्राइवेट स्कूलों के संचालक लंबे समय से स्कूलों की मान्यता, संचालन और फीस नियंत्रण अधिनियम समेत अन्य प्रावधानों का विरोध कर रहे हैं। इनका कहना है कि सरकार के अव्यवहारिक नियम-कानूनों के कारण प्राइवेट स्कूल संचालित करना बेहद कठिन हो गया। इसके खिलाफ प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन जिला इकाई पन्ना के तत्वाधान में प्राइवेट स्कूलों कें संचालको द्वारा मुख्यमंत्री के नाम जिला कलेक्टर के माध्यम से एक ज्ञापन प्रेषित किया है। रैली के रूप में कलेक्ट्रेट पहुंचे प्राइवेट स्कूलों कें संचालको द्वारा यहां कलेक्टर के प्रतिनिधि को अपना ज्ञापन सौंपा गया। जिसमें मुख्य रूप से फीस अधिनियम 2018 का विरोध, आर.टी .आई के अंतर्गत प्राईवेट स्कूलों में दाखिला लेने वाले बच्चों की फीस की प्रतिवर्ष प्रतिपूर्ति करने, प्राइवेट स्कूल संचालन हेतु मुख्यमंत्री द्वारा घोषित 1 एकड़ भूमि की अनिवार्यता को समाप्त करने सहित अन्य मांगें शामिल हैं। ज्ञापन सौंपने वालों में मुख्य रूप से संघ के अध्यक्ष मनीष यादव, संरक्षक आरबी सिंह सेंगर, नईम खान, सचिव प्रवीण यादव, प्रतिपाल सिंह, आर.बी. पटेल, दिनेश कुमार सिंह, संतराम, लोकेंद्र सिंह, सरोज मिश्रा सहित जिले के सहित के सभी प्राइवेट विद्यालयों के संचालक उपस्थित रहे।