विधुत ठेकेदार की लापरवाही ने ले ली गरीब आदिवासी श्रमिक की जान

0
1514
अमानगंज में शव विच्छेदन गृह के बाहर खड़े शोक संतृप्त परिजन एवं साथी श्रमिक।

विधुत लाइन बंद कराये बगैर हाईटेंशन लाइन के नीचे खड़े करा रहा था पोल

दुखद हादसे की सूचना मिलने के बाद भी मौके पर नहीं आया ठेकेदार

राजदीप गोस्वामी, अमानगंज (पन्ना)। रडार न्यूज    पन्ना जिले के सुनवानी कस्बा में विधुत लाइन के पोल खड़े करते समय करंट लगने से एक गरीब आदिवासी श्रमिक की दर्दनाक मौत होने का मामला प्रकाश में आया है। यह दुखद हादसा कथित रूप से विधुत ठेकेदार गया प्रसाद गर्ग के द्वारा सुरक्षा संबंधी आवश्यक उपायों को ताक पर रखते हुए मनमाने तरीके से हाईटेंशन लाइन के नीचे घोर लापरवाही पूर्वक कार्य कराने के कारण हुआ है। करंट लगने से श्रमिक दमन सिंह गौंड़ पिता खजान सिंह 23 वर्ष निवासी रामपुर मैनहा थाना सलेहा के असमय काल-कवलित की सूचना मिलने के बाद ठेकेदार गया प्रसाद गर्ग न तो मौके पर आया और ना ही उसने मध्य पूर्व क्षेत्र विधुत वितरण कंपनी के अधिकारियों को इस हादसे की जानकारी देना उचित समझा। शुक्रवार 21 सितम्बर 2018 की शाम करीब 4 बजे हुई इस घटना पर अमानगंज थाना पुलिस ने शून्य पर मर्ग कायम किया है। शनिवार को शव का पोस्टमार्टम होने के बाद पुलिस ने शव को मृतक के परिजनों को सौंप दिया।

जबरन ले जाते थे काम पर


मृत श्रमिक की पत्नी मनोज गौंड़।

प्राप्त जानकारी के अनुसार ठेकेदार गया प्रसाद गर्ग ने विधुत लाइन सुदृढ़ीकरण का कार्य का ठेका लिया था। शुक्रवार को ठेकेदार के लोग दमन सिंह गौंड़ व कुछ अन्य श्रमिकों को सुनवानी के समीप काम पर ले गए। अजमेर सिंह पिता उमराव सिंह ने बताया कि ठेकेदार के ड्राइवर सुखलाल ने उन्हें बताया था कि लाइट के तार कटे हुए हैं इसलिए काम करने में कोई खतरा नहीं है। जिसके चलते वे सभी लोग निर्भीक तरीके से कार्य करने में जुटे थे। 11 हजार केव्ही की लाइन के नीचे दो खंभे लगाने के बाद तीसरा खंभा खड़ा करते समय अचानक उसमें करंट उतर आया जिसकी चपेट में आने से दमन सिंह गौंड़ पिता खजान सिंह की मौके पर ही मौत हो गई। इस हादसे की खबर मिलने के बाद से मृतक की पत्नी और परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। मृतक की पत्नी मनोज गौंड़ ने ठेकेदार पर जबरन जोखिम भरे तरीके से कार्य करवाने का गंभीर आरोप मीडिया कर्मियों से चर्चा में लगाया है। मनोज गौंड़ के अनुसार उसके पति को ठेकेदार के कर्मचारी जबरन घर से काम पर ले जाते थे। शुक्रवार को जहां काम कराया जा रहा था ठेकेदार ने नियानुसार वहां की विधुत सप्लाई बंद नहीं कराई थी। फिर उसके पति व अन्य श्रमिकों से यह बात छिपाते हुए विधुत प्रवाह बंद होने की झूठी जानकारी दी गई, जिसके कारण यह दुखद हादसा हुआ।

इनका कहना है-

“श्रमिक की मौत की सूचना मुझे वितरण केंद्र सिमरिया के जेई रवि सोनी ने दी थी, उन्होंने बताया था कि हादसा गया प्रसाद की साइट पर हुआ है। विधुत लाइन सुदृढ़ीकरण का कार्य सुरक्षात्मक तरीके से कराने के लिए ठेकेदार के द्वारा नियमानुसार विधुत लाइन बंद कराने की सूचना नहीं दी गई थी। इस मामले प्रथम दृष्टया ठेकेदार की घोर लापरवाही परिलक्षित होती है। संबंधित जेई और एई से इस हादसे की जांच कराकर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।”

ओपी सोनी, कार्यपालन अभियंता पूर्व क्षेत्र विधुत कंपनी पन्ना।