मोहन्द्रा में चोरों का आतंक | एक ही रात में देवी मंदिर और 11 घरों में हुई चोरी

0
1366

त्योहारों के समय पुलिस की सक्रियता और रात्रि गश्त की खुली पोल

20 से अधिक ताले चटकाकर नकदी और सामान चुरा ले गये अज्ञात शातिर चोर

मोहन्द्रा (पन्ना) । रडार न्यूज    मध्यप्रदेश के पन्ना जिले में त्योहारों के समय सुरक्षा व्यवस्था चुस्त-दुरूस्त होने के दावों और रात्रि गश्त के नाम पर जारी खानापूर्ति की पोल खुल गई है। यहां के सिमरिया थाना अंतर्गत आने वाले मोहन्द्रा ग्राम में 21-22 सितम्बर की दरम्यानी रात अज्ञात शातिर चोर दसाई देवी मंदिर और 11 घरों के ताले चटकाकर नकदी रुपये तथा गृहस्थी का सामान चुरा ले गए। शनिवार सुबह लोग जब नींद से जागे तो घरों में हुई चोरी का नजारा देख उनके होश उड़ गए। मोहन्द्रा में पान मंडी के आसपास के 11 घरों को एक ही रात में निशाना बनाये जाने की घटना से लोगों में स्थानीय चौकी पुलिस की लचर कार्यप्रणाली को लेकर गहरी नाराजगी व्याप्त है। छूट-पुट चोरी की ये घटनायें मोहन्द्रा में चोर-बदमाशों व आपराधिक तत्वों की बढ़ती दुस्साहसिक सक्रियता का प्रमाण है। इन सनसनीखेज घटनाओं ने आम आदमी की परेशानी को बढ़ा दिया है, उसे अब हर समय अपनी जान-माल की चिंता सता रही है। लगातार दूसरे दिन मोहन्द्रा में हुई चोरियों को लेकर पुलिस की भूमिका से असंतुष्ट लोगों का मानना है कि चौकी पुलिस अपने मूल कार्य पर ध्यान न देकर वाहनों से वसूली में मस्त है। जिसका लाभ उठाकर चोर-बदमाश सक्रिय हो गए हैं। शनिवार 22 सितम्बर की सुबह स्थानीय पान मंडी के वासिंदों ने चौकी पुलिस को सूचना दी कि रात्रि में ग्यारह घरों के लगभग बीस ताले तोड़कर अज्ञात अपराधियों ने चोरी की छूट-पुट वारदातों को अंजाम दिया है। यह सूचना पाकर हरकत में आई पुलिस ने मौके में पहुॅंचकर घटना का जायजा लिया। प्राप्त जानकारी के अनुसार मोहल्ले के उन लगभग सभी घरों को निशाना बनाकर कटर से ताला या जंजीर तोड़ी गई जो या तो सूने पड़े थे या फिर उन कमरों से थोड़ी दूर घर के लोग सो रहे थे। हालांकि घनी बस्ती में एक-एक कर दर्जन भर मकानों के ताले टूटना पुलिस के लिये उस समय और भी अधिक चुनौतीपूर्ण हो जाता है जब एक दिन पूर्व भी पुलिस चौकी के ठीक सामने चोरी की घटना हुई हो। यही नहीं, बीते एक माह के अंदर मोहन्द्रा में चोरी की यह तीसरी घटना है। मोहल्ले के लोगों ने यह भी दावा किया कि मोहन्द्रा के एक पूर्व बस संचालक के नशेड़ी बेटे सहित बस्ती के कुछ आपराधिक प्रवृत्ति के युवा और दनवारा, पिपरहा, बरतला, गुड़मनिया, पटना खम्परिया व सिमरा गांव के असमाजिक तत्वों का मेलजोल होना भी मोहन्द्रा की छवि को लगातार दागदार बना रहा है। इन्हीं लोगों की वजह से मोहन्द्रा में कुछ न कुछ अपराध होते रहते है।

इनके घरों के टूटे ताले

मोहन्द्रा की पान मंडी इलाके में जिनके घरों-दुकानों के ताले चटकाकर अज्ञात बदमाशों द्वारा चोरी की गई उनमें रामजी चौरसिया व सिया नामदेव की दुकानों के अलावा, दिलीप चौरसिया, अंगद चौरसिया, द्वारका चौरसिया, रामअवतार चौरसिया, रामरतन बब्बा जू, मनीष चौरसिया, रामस्वरुप चौरसिया, रम्मू चौरसिया का मकान शामिल है। इसके अलावा चोरों ने स्थानीय लोगों की आस्था के केंद्र दसाई माता के मंदिर को भी नहीं बख्शा। मंदिर की दान पेटी का ताला तोड़कर शातिर चोर चढ़ोत्री के करीब पांच हजार रुपये चुरा ले गए।

चौकी में नहीं पर्याप्त पुलिस बल

सिमरिया थाना कि पुलिस चौकी मोहन्द्रा के अंतर्गत 28 गांव आते है। विस्तृत क्षेत्र होने के बाबजूद यहां कई वर्षों से पर्याप्त पुलिस बल न होना भी लचर सुरक्षा व्यवस्था का एक बड़ा और अहम् कारण है। चौकी में जब भी किसी वरिष्ठ पुलिस अधिकारी का आगमन होता है तो स्थानीय लोगों द्वारा पुलिस बल के रिक्त पदों को भरने की मांग प्रमुखता से की जाती है। लेकिन इस मामले में अधिकारियों से अब तक सिर्फ कोरे आश्वासन ही मिले। परिणामस्वरूप अपराधियों के सक्रिय होने से इलाके में हालत तेजी से खराब हो रहे हैं। वर्तमान में पुलिस चौकी मोहन्द्रा में एक एएसआई, एक प्रधान आरक्षक, एक हवलदार और दो सैनिक पदस्थ है। यहां तीन हवलदारों के पद पिछले कई सालों से रिक्त पड़े है, जिन्हें अब तक भरा नहीं जा सका है। गौर करने वाली बात यह कि उक्त पद कई दशक पूर्व स्वीकृत हुए थे। जब जनसंख्या और चुनौतियां दोनों ही अपेक्षाकृत कम थीं। समय के साथ न तो स्वीकृत पदों में वृद्धि की गई और न ही पूर्व स्वीकृत रिक्त पदों को भरा गया। इसलिए गिनती के पुलिस कर्मियों के रहते हुए अपराधों की प्रभावी रोकथाम होना संभव नहीं है। कोई भी कर्मचारी 24 घंटे ड्यूटी नहीं कर सकता है, यह बात समझते हुए वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को व्यवस्था बेहतर बनाने के लिए रिक्त पदों को भरने लिए गंभीरता से ध्यान देने की जरुरत है