कोरोना के “हाई रिस्क विलेज़” समेत 8 गाँवों में बीमार व्यक्तियों के सर्वे में जुटीं स्वास्थ्य विभाग की टीमें

0
1183
ग्राम देवरी में सर्वे कार्य की जानकारी प्राप्त करते हुए देवेन्द्रनगर तहसीलदार दिव्या जैन एवं बीएमओ देवेन्द्रनगर डॉ. अभिषेक जैन।

* बीमार व्यक्तियों की जानकारी प्राप्त कर मुहैया कराया जा रहा है उपचार

रमेश अग्रवाल, राजेन्द्र कुमार लोधी- देवेन्द्रनगर/पन्ना।(www.radarnews.in) जिले में प्रवासियों की वापसी के चलते कोविड-19 संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ने के मद्देनजर इस संक्रमण की प्रभावी रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग का अमला पूरी मुस्तैदी के साथ आवश्यक कार्रवाई करने में जुटा है। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र देवेन्द्रनगर अंतर्गत आने वाले छोटे से गाँव बरबसपुरा में कोरोना हॉटस्पॉट दिल्ली एवं अन्य स्थानों से लौटे करीब 250 श्रमिकों में 9 व्यक्तियों की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद से इसे “हाई रिस्क विलेज़” मानते हुए गांव में स्वास्थ्य विभाग की टीमें घर-घर जाकर बीमार व्यक्तियों का सर्वे करने में जुटीं हैं। सर्वे कर बीमार व्यक्तियों को चिन्हित करने एवं आवश्यक उपचार मुहैया कराने का कार्य बीएमओ देवेन्द्रनगर डॉ. अभिषेक जैन की देखरख में कई दिनों से चल रहा है। कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने बीएमओ और प्रशासनिक अधिकारियों अमानगंज तहसीलदार अवंतिका तिवारी एवं देवेन्द्रनगर तहसीलदार दिव्या जैन द्वारा लगातार सर्वे कार्य की मॉनिटरिंग की जा रही है।
हाई रिस्क विलेज़ बरबसपुरा में घर-घर जाकर प्रत्येक व्यक्ति की थर्मल स्क्रीनिंग एवं सर्वे करते हुए कर्मचारी।
हाई रिस्क विलेज़ बरबसपुरा के अलावा इसके बफर एरिया में आने गांव बाँधीकला, सिमरिया, नरेन्द्रपुरा, इंटवाकला, मकरंदगंज एवं कंटेनमेंट जोन घोषित ग्राम देवरी और इसके समीपी ग्राम रनवाहा में भी सर्वे कार्य कराया जा रहा है। सर्वे टीमों में शामिल स्वास्थ्यकर्मी, पंचायतकर्मी, आशा कार्यकर्ता, आंगनवाडी कार्यकर्ता, गांव के वालेंटियर घर-घर दस्तक देकर प्रत्येक सदस्य की थर्मल स्क्रीनिंग कर उसके स्वास्थ्य सम्बंधी आवश्यक जानकारी प्राप्त कर रही हैं। कोरोना संक्रमण के मद्देनजर सर्वे का कार्य पूरी सतर्कता एवं बचाव के साथ किया जा रहा है। थर्मल स्क्रीनिंग के दौरान किसी भी व्यक्ति के शरीर का तापमान अधिक होने अथवा सर्दी-खांसी-जुकाम एवं बुखार से ग्रसित होने की स्थिति में तुरंत उसकी जानकारी पृथक से दर्ज कर आरआरटी दलों को दी जा रही है।
आरआरटी दल के द्वारा दी गई दवाओं को सम्बंधित बीमार व्यक्तियों को उपलब्ध कराते स्वास्थ्य विभाग के हुए कर्मचारी।
आरआरटी दल में शामिल डॉ. पुष्पेन्द्र वर्मा, डॉ. प्रिया त्रिपाठी एवं डॉ. सूर्यप्रताप सिंह सेंगर द्वारा गांव पहुंचकर बीमार व्यक्तियों को तत्परता से चिकित्सीय परामर्श एवं आवश्यक उपचार मुहैया कराया जा रहा है। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र देवेन्द्रनगर के बीएमओ डॉ. अभिषेक जैन के मार्गदर्शन में स्वास्थ्य विभाग की टीम के द्वारा हाई रिस्क विलेज़ बरबसपुरा एवं कंटेनमेंट जोन घोषित ग्राम देवरी और इसके आसपास के गांवों की स्थिति पर 24 घण्टे नजर रखी जा रही है। बरबसपुरा में पंचायत सचिव कमलेन्द्र सिंह बुन्देला और रोजगार सहायक भी कोरोना संक्रमण की रोकथाम में पूरी सक्रियता के साथ जुटे हैं।

कलेक्टर ने किया कन्टेनमेंट ग्रामों का भ्रमण

विगत दिनों ग्राम बरबसपुरा एवं देवरी में कोरोना पाॅजिटिव मरीज पाए जाने के कारण अन्य ग्रामों के साथ इन ग्रामों को भी कन्टेनमेंट क्षेत्र घोषित किया गया है। पन्ना कलेक्टर कर्मवीर शर्मा एवं पुलिस अधीक्षक मयंक अवस्थी द्वारा पूर्व कन्टेनमेंट ग्रामों का भ्रमण गत दिनों करने के उपरांत सोमवार 1 जून को देर शाम तक बरबसपुरा एवं देवरी गांव का भ्रमण किया गया। भ्रमण के दौरान कलेक्टर श्री शर्मा ने वहां नियुक्त आरआरटी दल के डाॅक्टर, ग्राम पंचायत सचिव कमलेन्द्र सिंह बुन्देला से ग्राम की समस्याओं की जानकारी हांसिल की। उन्हें ज्ञात हुआ कि ग्राम में अति गरीब लोग निवास करते हैं। उनके घरों पर रोजमर्रा के उपयोग संबंधी साधन नहीं हैं। कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक द्वारा अन्य अधिकारियों के साथ ग्राम का भ्रमण किया गया। भ्रमण के दौरान ग्राम के लोगों से रूबरू होकर उनकी समस्याओं की जानकारी ली। लोगों ने खाद्यान्न, पेयजल, बच्चों के लिए दूध, शौंचालय आदि की समस्या की जानकारी दी गयी।

गरीबों को खाद्य सामग्री किट वितरित

कलेक्टर श्री शर्मा ने मौके पर 60 परिवारों को संयुक्त खाद्य सामग्री के पैकेट उपलब्ध कराए। इन पैकेटों में आटा, चावल, दाल, तेल, मसाला, नमक, साबुन आदि रखा गया है। इसके अलावा बच्चों के लिए दूध के पैकेट उपलब्ध कराए गए। मौके पर उपस्थित तहसीलदार को निर्देश दिए कि नगर परिषद अमानगंज से ग्राम में चलित शौचालय स्थापित कराए। पेयजल के लिए टेंकर लगाया जाए। ग्राम में स्थापित हैण्डपम्प को पानी भरने के बाद प्रत्येक बार सेनेटाइज करने की व्यवस्था की जाए।

अनावश्यक घरों से बाहर न निकलें- एसपी

इसी प्रकार कलेक्टर कर्मवीर शर्मा एवं पुलिस अधीक्षक मयंक अवस्थी ने ग्राम देवरी में पहुंचकर लोगों से उनकी समस्याओं की जानकारी ली। मौके पर उपस्थित तहसीलदार एवं अधिकारियों को निर्देश देकर ग्राम के लोगों को घर पर ही किराना एवं सब्जी उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। गांव में पशु आहार उपलब्ध कराने की व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए तहसीलदार को निर्देश दिए। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक श्री अवस्थी द्वारा गांव के लोगों को समझाईश दी गयी कि वे अनावश्यक घरों से बाहर न निकलें। किसी प्रकार की आवश्यकता होने पर गांव में नियुक्त किए गए शासकीय अमले को जानकारी दें। किसी भी का स्वास्थ्य खराब होता है तो गांव में नियुक्त आशा कार्यकर्ता अथवा आंगनवाडी कार्यकर्ता को तत्काल सूचना दें। जिससे आरआरटी दल द्वारा स्वास्थ्य परीक्षण कराकर उपचार उपलब्ध कराया जा सके।