50 कुपोषित को बच्चों गोद लेकर सुपोषित बनाने का लिया संकल्प, कलेक्टर बोले- “जनसहयोग से मिटेगा कुपोषण का कलंक”

0
884

* संजीवनी अभियान के तहत आयोजित हुआ कार्यक्रम

शादिक खान, पन्ना। (www.radarnews.in) कुपोषण की अधिकता वाले पन्ना जिले में चल रहे संजीवनी अभियान के तहत कुपोषित गरीब बच्चों को गोद लेकर उन्हें सुपोषित बनाने के लिए समाज के हर वर्ग के लोग लगातार आगे आ रहे हैं। पन्ना कलेक्टर कर्मवीर शर्मा की प्रेरणा से जिले के अधिकाँश अधिकारी-कर्मचारी एवं गणमान्य नागरिक करीब 5 माह में 12 हजार कुपोषित बच्चों को गोद लेकर उनके संजीवनी अभिभावक बन चुके हैं। इतना ही नहीं 1400 बच्चों के अति कुपोषण से मुक्त होने का दावा किया जा रहा है। इसी क्रम में बुधवार 29 जनवरी को पन्ना के संकल्प गार्डन में संजीवनी अभियान के अंतर्गत आयोजित हुए एक कार्यक्रम में 50 कुपोषित बच्चों को गोद लिया गया। कुपोषित बच्चों को पूर्ण स्वस्थ्य और सामान्य बनाने के के संकल्प के साथ उन्हें गोद लेने वालों में कांग्रेस पार्टी के नेता-जनप्रतिनिधि एवं गणमान्य नागरिक शामिल हैं। इस कार्यक्रम के संयोजक युवा कांग्रेस नेता वैभव थापक रहे। जिसमें पन्ना कलेक्टर कर्मवीर शर्मा मुख्य अतिथि के रूप शामिल हुए।
इस अवसर पर कलेक्टर श्री शर्मा ने अपने उद्बोधन में कहा कि शासन-प्रशासन के जनकल्याणकारी कार्यक्रमों को तभी शत-प्रतिशत सफल किया जा सकता है जब उसमें आम जन का सहयोग मिले। पन्ना जिले में जब कुपोषित बच्चों की हालत मेरे सामने लायी गयी तो उसी समय मेरे मन में पन्ना जिले से कुपोषण को कैसे खत्म किया जा सकता है, यह चिंता शुरू हो गयी। कलेक्टर श्री शर्मा ने कहा कि जब कुछ दिन पहले “बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ” संबंधी एक कार्यशाला आयोजित की गयी तो उसमें एक बड़ी संख्या में जिले के दूरस्थ अंचलो से भी जनप्रतिनिधि, गणमान्य नागरिक आदि ने पहुंचकर कुपोषण से ग्रसित बच्चो को गोद लेने एवं उनकी सेहत की देख-रेख करने की घोषणा की। आज उसी घोषणा को शीघ्र चरित्रार्थ करने का काम वैभव थापक और उनकी टीम द्वारा किया गया है, जो अत्यंत ही सराहनीय है।
उन्होने कहा कि अब इसमें किसी भी तरह की शंका नहीं है, यह अभियान एक जन आंदोलन बन कर हमें एक सफलता के रास्ते पर न खड़ा कर दे। इसी तरह सक्रिय सहयोग मिला तो पन्ना से कुपोषण का कलंक अवश्य ही मिट जाएगा। उन्होने कार्यक्रम आयोजक वैभव थापक को भगवान जुगल किशोर की प्रतिमा भी एक स्मृति चिन्ह के रूप में भेट की। इस दौरान पन्ना ग्रामीण एवं अजयगढ़ क्षेत्र की विभिन्न आंगनबाड़ी केन्द्रों में दर्ज कुपोषित बच्चे जिनकी संख्या 50 थी उनको अलग-अलग लोगों ने गोद लेने की रस्म अदायगी करते हुये उन्हे पोषण आहार भेंट किया।
कार्यक्रम को वरिष्ठ नेता रामकिशोर मिश्रा, शिवजीत सिंह, मीना सिंह यादव, मनीष मिश्रा, अनीष खान, लक्ष्मी दहायत, मुरारी लाल थापक, मंगला भाले, सत्यजीत सिंह, देवीप्रसाद दीक्षित, युसुफ बेग, संतोष तिवारी, धीरेन्द्र पाठक, विवेक व्यास आदि लोगो ने भी संबोधित किया। कार्यक्रम में महिला एवं बाल विकास विभाग पन्ना के जिला कार्यक्रम अधिकारी ऊदल सिंह, शीला सिंह परिहार, सहायक संचालक ज्योति पाण्डेय, अशोक विश्वकर्मा, गौरव चंसोरिया, आशीष शर्मा, करूणा अवस्थी, पुरूषोत्तम जड़िया, डॉ.प्रमोद श्रीवास्तव, शशिकांत दीक्षित, रियासत खान, सुरेन्द्र सेन, राजेन्द्र कुमार धामी, गणेश जड़िया, पवन पाठक, महेश परमार, सुंदरलाल रैकवार, अज्जू गर्ग, जगतपाल सिंह, अक्षय जैन, पूनम मिश्रा, बहादुर सिंह, राजाबाबू पटेल, सुनील रजक, सत्यम उपाध्याय, छोटू त्रिपाठी, सौरभ रैकवार, अंकित पाराशर, सुनील अवस्थी, विमलेश सेन, रोहित शर्मा, सिद्धार्थ शर्मा, अनुराग मिश्रा, आनंद बाजपेयी, अलोक शर्मा, विकास तिवारी, प्रतीक परमार, निखिल, सुभांश तिवारी, कामता नगायच, सुंदरम गर्ग, राहुल तिवारी, शरद शर्मा, हीरालाल विश्वकर्मा सहित काफी संख्या में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिका उपस्थित रही। कार्यक्रम का सफल संचालन आयुषी चौरसिया द्वारा किया गया।