दुखद : बेटी के साथ छेड़छाड़ होने से आहत पिता ने लगाई फाँसी ! जंगल में फंदे पर लटका मिला क्षत-विक्षत शव

0
1653

* पन्ना कोतवाली थाना क्षेत्र अंतर्गत इटवांकला जंगल की घटना

* पत्नी और बच्चों को मायके मे छोड़ने के बाद हो गया था लापता

* मृतक के कपड़ों में मिले न्यायालय के समन से सम्भव हुई शिनाख्त

* शव के कई अंगों को वन्यजीवों ने बनाया अपना निवाला

पन्ना।(www.radarnews.in) कोतवाली थाना पन्ना के ग्राम इटवांकला के जंगल में सोमवार 27 जनवरी को फांसी के फंदे पर लटके मिले क्षत-विक्षत शव की शिनाख्त कमलेश तिवारी 40 वर्ष निवासी ग्राम बिरवाही थाना देवेन्द्रनगर जिला पन्ना के रूप में हुई है। वह करीब 12-13 दिनों से लापता था। कमलेश के आत्मघाती कदम उठाने की वजह, उसकी बेटी के साथ कुछ दिन पूर्व गांव के ही एक युवक के द्वारा की गई छेड़खानी की घटना को कथित तौर पर बताया जा रहा है। इस घटना से वह काफी आहत था। छेड़खानी का पता चलने पर कमलेश अपनी पत्नी और बच्चों को ससुराल में छोड़ने के बाद लापता हो गया था। पुलिस की प्रारंभिक जाँच में यह बात सामने आई है। मंगलवार 28 जनवरी को पन्ना पहुंचे मृतक के परिजनों ने शव विच्छेदन गृह में रखे शव की शिनाख्तगी की गई। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराने के बाद उसे परिजनों को सौंप दिया। कोतवाली थाना पुलिस ने घटना पर मर्ग कायम कर हर पहलू से इस मामले की विस्तृत जांच शुरू कर दी है।
पन्ना कोतवाली थाना के इटवांकला के जंगल में फांसी के फंदे पर एक क्षत-विक्षत शव लटका होने की सूचना वन विभाग के चौकीदार के द्वारा पुलिस को दी गई थी। सोमवार 27 जनवरी को पन्ना कोतवाली पुलिस और एफएसएल टीम ने जब मौके पर जा कर देखा तो मृतक के कपड़ो में न्यायालय का एक समन मिला, जिसमें कमलेश तिवारी का नाम दर्ज था। फांसी के फंदे पर लटके शव की स्थिति को दृष्टिगत रखते हुए उसके 10 से 12 दिन पुराना होने की संभावना एफएसएल के द्वारा व्यक्त की गई। शव के कई अंगों को वन्यजीवों के द्वारा नोंचने-खरौंचने तथा अपना निवाला बनाए जाने से यह काफी क्षत-विक्षत और भयावह हो चुका था। मृतक की शिनाख्ती (पहचान) हेतु पन्ना कोतवाली थाना पुलिस के द्वारा आसपास के पुलिस थानों को सूचना दी गई। उधर, 12-13 दिन से घर से लापता कमलेश के परिजन लगातार उसकी खोजबीन में जुटे थे। इटवांकला के जंगल में शव मिलने की खबर पाकर परिजन पन्ना पहुंचे और मंगलवार को यहां शव की शिनाख्त कमलेश तिवारी निवासी ग्राम बिरवाही के रूप में की गई।
पन्ना एसडीओपी आर.एस. रावत ने जानकारी देते हुए बताया कि कमलेश तिवारी अपने बच्चों और पत्नी को पन्ना जिले के ही सुनवानी थाना अंतर्गत स्थित ससुराल में छोड़ने के बाद वापस अपने गांव बिरवाही के लिये निकला था। लेकिन, वह घर नहीं पहुंचा। जब यह बात कमलेश के परिजनों और उनके ससुराल पक्ष को पता चली तो उनके द्वारा खोजबीन शुरू की गई साथ ही पुलिस थाना में भी गुमशुदगी की सूचना दी गई। परिजनों ने पुलिस को बताया कि कमलेश अपनी पत्नी और बच्चों को ससुराल लेकर अचानक इसलिये गया था क्योंकि कुछ दिन पूर्व गांव के ही एक युवक ने उसकी बेटी के साथ छेड़खानी की थी। इस घटनाक्रम को लेकर वह काफी दुःखी था। छेड़खानी की रिपोर्ट पुलिस थाना में दर्ज कराई गई और आरोपी भी जेल जा चुका है। पन्ना एसडीओपी आर.एस. रावत का के अनुसार, फिलहाल यह बात सामने आई है कि बेटी के साथ हुई इस घटना से कमलेश शायद इतना अधिक आहत हुआ कि उसने आत्मघाती कदम उठाते फाँसी लगा ली। एसडीओपी श्री रावत का कहना इस घटना के हर पहलू की बारीकी से विस्तृत जाँच की जा रही है, जाँच में जो निष्कर्ष निकलेगा उसी के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।