Homeताजा ख़बरेंखजुराहो सीट पर "मोदी की सुनामी" : 2014 में बीजेपी प्रत्याशी नागेन्द्र...

खजुराहो सीट पर “मोदी की सुनामी” : 2014 में बीजेपी प्रत्याशी नागेन्द्र सिंह को 4,74,966 वोट मिले थे… इस बार बीजेपी प्रत्याशी विष्णु दत्त शर्मा चुनाव ही 4,92,382 मतों के विशाल अंतर से जीते… अब तक की सबसे बड़ी ऐतिहासिक विजय का बनाया रिकार्ड

* चुनाव में नहीं चला कांग्रेस के क्षेत्रवाद का मुद्दा

* भाजपा के गढ़ में सेंध लगाने में नाकाम रही कांग्रेस

* अद्भुत, अविश्वसनीय, अकल्पनीय जीत ने सबको चौंकाया

शादिक खान, पन्ना/खजुराहो। (www.radarnews.in) देश ने दूसरी बार प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व पर अपना भरोसा जताया है। 17वीं लोकसभा के लिए हुए चुनावों की चल रही मतगणना के रुझानों तथा नतीजों से यह स्पष्ट हो गया है कि देश में मोदी का मैजिक बरकरार है। भाजपा को अकेले दम पर पूर्ण बहुमत प्राप्त करते हुए पिछली बार से अधिक 303 सीटें प्राप्त की हैं।  बीजेपी ने वर्ष 2014 के अपने 282 लोकसभा सीटों के रिकार्ड को तोड़ते हुए इस चुनाव नया कीर्तिमान बनाया है। बीजेपी के नेतृत्व वाले एनडीए ने अपने शानदार प्रदर्शन दोहराते हुए पिछली बार से 16 सीट ज्यादा 352 सीटों पर ऐतिहासिक जीत दर्ज कराई है। मध्यप्रदेश के बुन्देलखण्ड अंचल की चर्चित खजुराहो लोकसभा सीट की बात करें तो यहाँ मोदी की अंडर ग्राउण्ड सुनामी दर्ज़ हुई है। इस सीट पर बीजेपी प्रत्याशी विष्णु दत्त शर्मा ने सबको चौंकाते हुए 4,92,382 मतों के रिकॉर्ड अंतर से जीत हांसिल की है। चुनाव परिणाम के अनुसार बीजेपी प्रत्याशी विष्णु दत्त शर्मा को 8,11,135 और उनकी निकटतम प्रतिद्वंदी कांग्रेस उम्मीदवार महारानी कविता सिंह को सिर्फ 3,18,753 वोट मिले हैं। रात्रि 8:10 बजे तक की स्थिति में ईव्हीएम मशीनों के 12,57,783 मतों एवं डाक मतपत्रों के 1013 मतों की गिनती पूरी हो चुकी थी।
बीजेपी प्रत्याशी विष्णु दत्त शर्मा।
खजुराहो संसदीय क्षेत्र के चुनावी नतीजों की पन्ना में आधिकारिक तौर पर रिटर्निंग ऑफिसर मनोज खत्री ने घोषणा करते हुए बीजेपी प्रत्याशी विष्णु दत्त शर्मा को जीत का प्रमाण पत्र प्रदान किया गया। बीजेपी प्रत्याशी वी. डी. शर्मा को सुबह से ही मतगणना के हर राउण्ड में प्रचण्ड मत मिलने और निकटम प्रतिद्वंदी कांग्रेस की कविता सिंह के लगातार पिछड़ने से बढ़ते विशालतम अंतर को देखते हुए दोपहर बाद से ही माना जा रहा था कि खजुराहो सीट पर इस बार सबसे बड़ी ऐतिहासिक जीत का रिकार्ड बनना तय है। परिणामस्वरूप खजुराहो संसदीय क्षेत्र के चुनावी इतिहास में आज वी. डी. शर्मा का नाम हमेशा के लिए स्वर्णिम अक्षरों में दर्ज हो जाएगा। दरअसल इस चुनाव में उन्होंने दो बेहद शानदार रिकार्ड अपने नाम किए हैं। पहला खजुराहो सीट पर किसी भी प्रत्याशी को पहली बार रिकॉर्ड तोड़ 8,11,135 वोट प्राप्त हुए और दूसरा उसकी जीत का अंतर 4,92,382 मतों का रहा जो कि सबसे अधिक है।
चुनावी जीत के बाद पत्नी के साथ बीजेपी प्रत्याशी विष्णु दत्त शर्मा।
उल्लेखनीय है कि वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में खजुराहो संसदीय क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी रहे नागेन्द्र सिंह को 4,74,966 कांग्रेस प्रत्याशी राजा पटैरिया को 2,27,476 वोट मिले थे। इस तरह पिछला चुनाव भाजपा प्रत्याशी रहे नागेन्द्र सिंह ने 2,47,490 वोटों के अंतर से जीता था। यह जीत कांग्रेस प्रत्याशी को प्राप्त कुल वोटों से भी ज्यादा से हुई थी। बेशक उस समय नागेन्द्र सिंह की जीत बड़ी जीत थी। लेकिन वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में मोदी की सुनामी के सहारे बीजेपी प्रत्याशी विष्णु दत्त शर्मा ने 4,92,382 मतों के विशाल अंतर् से चुनावी जीत की सुनहरी इबारत लिखकर सबको चौंकाया दिया है। श्री शर्मा ने जितने मतों के अंतर से ऐतिहासिक जीत दर्ज कराई है, यह वर्ष 2014 के चुनाव में भाजपा प्रत्याशी को मिले मतों के अंतर से भी कहीं अधिक है।

उम्मीद से कहीं अधिक बड़ी जीत

खजुराहो संसदीय क्षेत्र के मतदाताओं ने मोदी के नाम पर दिल खोलकर जितना प्रचण्ड बहुमत दिया है इतने उम्मीद खुद वी. डी. शर्मा और भाजपा ने नहीं की थी। यह अलग बात है कि श्री शर्मा चुनाव प्रचार के अंतिम दिनों में ही अपनी जीत को लेकर पूर्णतः आश्वस्त नजर आ रहे थे। फलस्वरूप मतदान सम्पन्न होने के बाद उन्होंने अपनी जीत का दावा करते हुए पत्रकारों से कहा था कि 2014 के चुनाव में मोदी जी की लहर थी लेकिन 2019 में खजुराहो सीट पर मोदी जी की अंडर ग्राउण्ड सुनामी चल रही है। केन्द्र में पुनः मोदी सरकार बनाने के लिए संकल्पित मतदाताओं की भावनाओं के मद्देनजर भाजपा प्रत्याशी ने करीब दो-ढ़ाई लाख मतों के अंतर् से अपनी जीत का दावा किया था। लेकिन गुरुवार 23 मई की देर शाम चुनावी नतीजों पर जब आधिकारिक मुहर लगी तो जीत का अंतर् उनकी उम्मीद से लगभग दोगुना हो गया।

15 प्रत्याशियों की जमानत जब्त

खजुराहो लोकसभा सीट से इस बार चुनावी समर में 17 उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा रहे थे। आज सम्पन्न हुई चुनाव की मतगणना के पश्चात घोषित चुनावी नतीजों के अनुसार बीजेपी प्रत्याशी विष्णु दत्त शर्मा को 64.49 प्रतिशत एवं कांग्रेस प्रत्याशी महारानी कविता सिंह को 25.34 प्रतिशत वोट हांसिल हुए हैं। जबकि समजवादी पार्टी प्रत्याशी वीर सिंह पटेल समेत शेष सभी 15 उम्मीदवारों में किसी को भी 4 प्रतिशत से अधिक वोट नहीं मिले। परिणामस्वरूप सभी 15 उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गई है। बहुजन समाज पार्टी का समर्थन प्राप्त सपा प्रत्याशी वीर सिंह पटेल महज 40,077 वोट पर सिमट गए। चुनाव के दौरान सपा के प्रचार की बेहद कमजोर स्थिति को देखकर शुरू से ही माना जाने लगा था कि वह त्रिकोणीय मुकाबले की स्थिति निर्मित नहीं कर पाएगी। लेकिन बसपा का समर्थन प्राप्त होने के बाद भी सपा प्रत्याशी वीर सिंह पटेल को उतने वोट भी नहीं मिले जितने पिछले चुनावों में बसपा प्रत्याशियों ने प्राप्त किए थे। इस तरह खजुराहो सीट पर जहाँ कांग्रेस को शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा है वहीं सपा प्रत्याशी का प्रदर्शन अत्यंत ही निराशाजनक रहा।

पहले भी चुने गए बाहरी नेता

मुरैना जिले के निवासी विष्णु दत्त शर्मा को खजुराहो सीट से बीजेपी द्वारा उम्मीदवार घोषित करने के बाद उन्हें यहाँ चुनाव के शुरूआती दौर में अपनी ही पार्टी के कतिपय नेताओं का कड़ा विरोध झेलना पड़ा था। जिसे देखते हुए कांग्रेस की क्षेत्रीय प्रत्याशी और राजपरिवार से ताल्लुक रखने वालीं कविता सिंह के सामने उन्हें कमजोर करके आँका जा रहा था। लेकिन मोदी के मैजिक और बीजेपी के चुनावी प्रबंधन के चलते विष्णु दत्त शर्मा को मतदाताओं से इतना प्यार और समर्थन मिला कि बाहरी और क्षेत्रीय का मुद्दा टिक नहीं पाया। आज ईव्हीएम से जिस तरह वी. डी. शर्मा के पक्ष में मतदाताओं का भरोसा बाहर आया उससे यह साबित हो गया है कि राजनैतिक हितों के टकराव में उनकी अपनी पार्टी के नेता या फिर विपक्षी दलों के लोग बाहरी बताकर भले ही उनका विरोध करते रहे हों लेकिन यहाँ के मतदाताओं ने उन्हें अपना माना है। यह पहली बार नहीं है कि जब खजुराहो सीट से इस संसदीय क्षेत्र के बाहर का कोई व्यक्ति सांसद निर्वाचित हुआ है। भाजपा के टिकट पर पूर्व में भी कई बाहरी नेता यहाँ से सांसद चुने गए। खजुराहो सीट करीब तीन दशक से भाजपा के सांसद निर्वाचीर होने के कारण इस सीट को मध्यप्रदेश में भाजपा का मजबूत गढ़ माना जाता है।

खजुराहो संसदीय सीट पर प्रत्याशियों को प्राप्त मत एवं मत प्रतिशत –

                                                 – परिणाम –
क्रम संख्या अभ्यर्थी दल का नाम ई.वी.एम. मत डाक द्वारा मत कुल मत प्रतिशत मत
1 महारानी कविता सिंह नातीराजा इंडियन नेशनल कांग्रेस 318526 227 318753 25.34
2 वी0 डी0 शर्मा (विष्णु दत्‍त शर्मा) भारतीय जनता पार्टी 810410 725 811135 64.49
3 अश्‍वनी कुमार दुबे सर्वोदय भारत पार्टी 10552 2 10554 0.84
4 जगदीश कुमार पटेल अखिल भारतीय अपना दल 4222 1 4223 0.34
5 देश पाल पटेल अम्‍बेडकराइट पार्टी ऑफ इंडिया 5881 3 5884 0.47
6 मनीष मिश्रा राष्ट्रीय आदर्श मैम्बर पार्टी 1964 1 1965 0.16
7 एडवोकेट राकेश कुमार शुक्ला ऑल इंडिया फारवर्ड ब्‍लॉक 2154 0 2154 0.17
8 वीर सिंह पटेल समाजवादी पार्टी 40029 48 40077 3.19
9 संत कुमार शर्मा सम्रग उत्थान पार्टी 2481 0 2481 0.2
10 अब्दुल इमरान निर्दलीय 3304 1 3305 0.26
11 गिरिराज किशोर (राजू) पोद्दार निर्दलीय 2953 0 2953 0.23
12 नरेन्द्र पाण्डे (राम जी) निर्दलीय 2942 0 2942 0.23
13 पर्वत सिंह निर्दलीय 3970 0 3970 0.32
14 भूपत कुमार आदिवासी निर्दलीय 6999 0 6999 0.56
15 मीना/ललित रायकवार निर्दलीय 12450 0 12450 0.99
16 राजकुमार निर्दलीय 11691 0 11691 0.93
17 विनोद कुमार निर्दली 5941 0 5941 0.47
18 NOTA इनमें से कोई नहीं 10301 5 10306 0.82
Total 1256770 1013 1257783
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments