जन जागरण : रैली निकालकर व्यसन मुक्ति का दिया सन्देश, व्यसन छोड़ने के लिये भराये संकल्प पत्र

0
816

* समस्याओं की जड़ है व्यसन इसलिए इसे अपना दुश्मन समझें – ब्रह्माकुमारीज़

पन्ना।(radarnews.in) “विश्व तम्बाकू निषेध दिवस” के उपलक्ष्य पर प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय पन्ना के तत्वाधान में नगर में व्यसन मुक्ति का सन्देश देने के लिए एक विशाल जन जागरूकता रैली निकली गई। इसके माध्यम से नागरिकों को व्यसनों के कारण जीवन पर पड़ने वाले व्यापक दुष्परिणामों की जानकारी देकर उन्हें नशे की लत तथा बुरी आदतों को छोड़ने के लिए प्रेरित किया गया। फ़लस्वरुप कई लोगों के द्वारा व्यसन छोड़ने के लिए संकल्प पत्र भरे गए। शुक्रववार को प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के राजयोग प्रशिक्षण केन्द्र पन्ना से शुरू हुई जन जागरूकता रैली को पन्ना पुलिस अधीक्षक मयंक अवस्थी, समाजसेवी मनोज गुप्ता, प्राचार्य निशा जैन ने दीप प्रज्ज्वलित कर रवाना किया गया।
इस अवसर पर पन्ना पुलिस अधीक्षक मयंक अवस्थी ने अपने उद्बोधन में प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के द्वारा सभ्य, सुसंस्कृत, व्यसन मुक्त और मूल्यनिष्ठ समाज के निर्माण हेतु निरंतर किए जा रहे प्रयासों की मुक्त कण्ठ से सराहना की गई। उन्होंने कहा कि यहां आकर मुझे अनोखी शांति की अनुभूति हुई है। व्यसन मुक्ति जन जागरूकता रैली नगर के मुख्य मार्गों से होते हुए निकली। इस दौरान रैली में शामिल भाई-बहिनें व्यसन(बुरी लत) के कारण जीवन पर पड़ने वाले दुष्प्रभवों से लोगों को जागरूक करने के लिए नारे लगाते हुए और हाथों में तख्तियाँ लेकर कतारबद्ध चल रहे थे। रैली में आगे चल रहे रथ पर नशे के सेवन से शरीर पर पड़ने वाले दुष्प्रभावों को सचित्र प्रदर्शित किया गया। साथ ही झकझोरने वाले स्लोगन लिखे पोस्टरों से सुसज्जित रथ लोगों को अपने अनमोल जीवन को व्यसन रुपी बुराई में बर्बाद होने से बचाने के लिए सन्देश दे रहा था।

पूरे विश्व को पहुँचाता है क्षति

जन जागरण यात्रा नगर का भ्रमण करते हुए राजेन्द्र उद्यान पहुंचीं जहाँ राजयोग प्रशिक्षण केन्द्र पन्ना की प्रमुख बी.के. सीता बहिन जी द्वारा चित्रों के माध्यम से सभी को व्यसन छोड़ने की विधि सिखायी गई एवं संकल्प पत्रों को भरवाकर व्यसन छोड़ने का संकल्प कराया गया। इस अवसर पर बहिन जी ने व्यसन सेवन के नुकसान के प्रति लोगों को आगाह करते हुए बताया कि व्यसन सिर्फ व्यक्ति को ही नहीं बल्कि परिवार, समाज और पूरे विश्व को क्षति पहुंचाता है। परिवार की अशांति का कारण व्यसन ही है। अधिकांश समस्यायें और परेशानियों की जड़ व्यसन ही हैं, व्यसन रूपी बुराई के बढ़ने से ही सड़क हादसों में ग्राफ तेजी से बढ़ा है। आज व्यसन करना एक फैशन बन गया है जबकि इनसे सिर्फ हमारा पतन ही हुआ है। उन्होंने लोगों से सभी व्यसनों को अपना दुश्मन समझते हुए तुरन्त इन्हें छोड़ने का निर्णय लेने की बात कही।

दूसरों को भी करें प्रेरित

ब्रह्माकुमारी सीता बहिन जी ने विद्यालय का परिचय एवं उद्देश्य बताते हुए कहा कि ब्रह्माकुमारी विद्यालय का लक्ष्य है सभी को सुसंस्कृत, निर्व्यसन जीवन जीने की कला सिखाना है। इसलिए यहां पर प्रतिदिन आध्यात्मिक शिक्षा दी जाती है एवं राजयोग ध्यान (मेडीटेशन) सिखाया जाता है। जिससे हमारे अन्दर शक्तियों का विकास होता है, मनोबल बढ़ता है और व्यक्ति अन्दर से शक्तिशाली मजबूत अनुभव करता है। जिससे सभी बुराईयों एवं व्यसनों को छोड़ना उसके लिए आसान हो जाता है। आपने कहा कि अगर हमारे अन्दर कोई भी नशीले पदार्थों की लत नहीं है तो अच्छा है। लेकिन, कोई कुसंस्कृत, गलत आदत जैसे – गुस्सा करना, अधिक सोना… आदि है तो उसे भी मन, वचन, कर्म से छोड़ने का संकल्प लें। साथ ही अपने आसपास के एक-दो व्यक्तियों का व्यसन छोड़ने के लिए अवश्य प्रेरित करें।