साक्षात्कार : अवैध रेत खनन की जानकारी मिली तो आधी रात को बगैर बताए कार्रवाई करने आऊँगा, रेत खदानों के रास्ते देख लिए अब मुझे किसी की जरुरत नहीं : कम्प्यूटर बाबा

0
831
पन्ना जिले के अजयगढ़ जनपद क्षेत्र में मोहाना रेत खदान का निरीक्षण करते हुए नदी न्यास अध्यक्ष महामण्डलेश्वर कम्प्यूटर बाबा।
पन्ना। (www.radarnews.in) मध्यप्रदेश शासन के नदी न्यास अध्यक्ष राष्ट्रीय संत महामण्डलेश्वर कम्प्यूटर बाबा ने पन्ना जिले के अपने दो दिवसीय प्रवास के अंतिम दिन रविवार 2 फ़रवरी को स्थानीय सर्किट हाउस में पत्रकारों से विस्तारपूर्वक चर्चा की। इस दौरान पत्रकारों ने उनसे कई तीखे सवाल पूँछे, हाज़िर ज़बाब बाबा गोलमोल जबाब देकर सीधे कुछ कहने से बचते नज़र आए। करीब 3 माह पूर्व पन्ना जिले के अपने पहले दौरे पर कम्प्यूटर बाबा ने प्रदेश की नदियों के संरक्षण एवं उनमें प्रतिबंधित मशीनों से रेत खनन को रोकने के लिए साधू-संतों की फ़ौज नदियों की सुरक्षा के लिए उतारने का ऐलान किया था। कैबिनेट मंत्री का दर्जा प्राप्त नदी न्यास अध्यक्ष महामण्डलेश्वर कम्प्यूटर बाबा की इस घोषणा पर प्रदेश के खनिज साधन मंत्री प्रदीप जायसवाल ने कड़ा ऐतराज जताते हुए कम्प्यूटर बाबा को अपनी बाबागिरी करने की नसीहत दी थी।
पन्ना के दौरे पर मंत्री प्रदीप जायसवाल ने यह स्पष्ट किया था कि रेत का अवैध उत्खनन रोकना उनके विभाग का काम है, कम्प्यूटर बाबा इसमें अनावश्यक दखल न दें। रडार न्यूज़ के संपादक शादिक खान ने आज कम्प्यूटर बाबा से इस कंट्रोवर्सी पर और पन्ना की केन नदी में साधू-संतों की फ़ौज की तैनाती को लेकर सवाल किए। इसके अलावा तीन माह की अवधि में दूसरी बार पन्ना जिले के भ्रमण पर बाबा के आगमन के उद्देश्य और इस दौरान महज तीन पौधों का रोपण किए जाने से केन के दोनों किनारों को हरा-भरा बनाने की योजना को लेकर आमजन की उत्सुकता से जुड़े सवालों को बेबाक़ी के साथ उनके समक्ष उठाया गया।
असहज करने वाले सवालों के क्रम में राष्ट्रीय संत महामण्डलेश्वर कम्प्यूटर बाबा से उस बहुचर्चित वायरल वीडियो के संबंध में भी बात की गई जिसमें कांग्रेस के नेता एवं अजयगढ़ जनपद के अध्यक्ष भरत मिलन पाण्डेय, पन्ना विधानसभा क्षेत्र से समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी रहे दशरथ पहलवान तथा कतिपय रेत माफिया केन नदी में रेत का अवैध उत्खनन करने के लिए पन्ना जिला प्रशासन को मैनेज करने की बात कर रहे हैं। इस वीडियो में यह दावा किया जा रहा है कि, अवैध रेत खनन का खाता खुलवाने मात्र के कथित तौर पर 8 लाख रुपए लगते हैं, 5 लाख एडवांस कलेक्टर, 3 लाख एमओ (माइनिंग ऑफ़िसर) को। मध्यप्रदेश शासन के नदी न्यास अध्यक्ष कम्प्यूटर बाबा इन सवालों के जबाब में क्या बोले, यह जानने के लिए ऊपर दिए गए वीडियो को क्लिक कर पूरा साक्षात्कार देखें-सुनें।