सर्वसमाज की बैठक के बाद हिन्दू संगठनों ने स्थगित किया चक्काजाम

0
1275
कलेक्टर मनोज खत्री को सौंपते मुस्लिम समाज के लोग।

अजयगढ़ में तनाव को कम करने प्रशासन ने आयोजित की सर्वसमाज की बैठक

गौवंश का सिर मिलने के बाद से में निर्मित है तनाव

अज्ञात आरोपी की गिरफ्तारी की मांग को लेकर बंद रहा अजयगढ़

मौत के बाद धड़ से अलग हुआ बछड़े का सिर पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हुआ खुलासा

पन्ना/अजयगढ़ रडार न्यूज। पन्ना जिले के अजयगढ़ कस्बा में विगत दिनों गाय के बछड़े का सिर मिलने के बाद से तनावपूर्ण स्थिति निर्मित है। इस कृत्य को अंजाम देने वाले अज्ञात आरोपी का सुराग लगाकर उसे गिरफ्तार करने की मांग को लेकर मंगलवार को हिन्दू संगठनों के आव्हान पर अजयगढ़ कस्बा पूर्णतः बंद रहा। पूर्व घोषित बंद के ऐलान के मद्देनजर अधिकांश व्यापारियों ने अपने प्रतिष्ठान बंद रखे। वहीं तनाव और अक्रोश को कम करने की दिशा में जिला प्रशासन की ओर से सार्थक पहल करते हुए मंगलवार शाम को सर्वसमाज और संगठनों की एक महत्वपूर्ण बैठक आयोजित की गई। हिन्दूवादी संगठनों के प्रतिनिधियों, मुस्लिम समाज के लोगों और प्रशासनिक अधिकारियों के बीच घटना को लेकर विस्तृत चर्चा हुई और सभी पक्षों की बात सुनकर उन्हें आवश्यक कार्रवाई करने का भरोसा दिलाया गया। साथ ही नगर में सामाजिक सौहार्द और अमन-चैन बनाये रखने के लिए सभी पक्षों को समझाइश दी गई। फलस्वरूप हिंदूवादी संगठनों ने अपनी और से सकारात्मक पहल करते हुए बुधवार 20 जून को घोषित अपने चक्काजाम प्रदर्शन को स्थगित कर दिया है । इस महत्वपूर्ण बैठक में जिला मजिस्ट्रेट एवं पन्ना कलेक्टर मनोज खत्री, डीआईजी छतरपुर रेंज अनिल महेश्वरी, पन्ना पुलिस अधीक्षक रियाज इकबाल और अजयगढ़ एसडीएम जेएस बघेल उपस्थित रहे। इस बैठक में डीआईजी अनिल महेश्वरी ने जानकारी देते हुए बताया कि जिस बछड़े का सिर मिला था, उसकी पोस्टमार्टम रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि बछड़े की मौत के बाद सिर धड़ से अलग हुआ था। उल्लेखनीय है कि ईद के त्यौहार के समय अजयगढ़ कस्बा में पुराना पावर हाउस के पास बछड़े का सिर मिलने के बाद से यह अंदेशा जताया जा रहा था कि कतिपय असमाजिक तत्वों ने सोची-समझी साजिश के तहत आपसी सद्भाव और शांति को बिगाड़ने के उद्देश्य से यह घिनौना कृत्य किया है। इस घटना को लेकर मंगलवार को हिन्दू संगठनों के आव्हान पर अजयगढ़ बंद के चलते प्रशासन सतर्क रहा। कानून व्यवस्था और शांति बनाये रखने के लिए विशेष इंतजाम करते हुए अजयगढ़ में भारी तादाद में पुलिस बल को तैनात किया गया। जिससे दिन भर पूरा नगर पुलिस छावनी बना रहा। इस संवेदनसील मामले के प्रकाश में आने के बाद से ही प्रशासन और पुलिस सतर्क व मुस्तैद है। हर गतिविधि पर पैनी नजर रखी जा रही है।

उग्र नारेबाजी से बढ़ रहा तनाव-

उधर मंगलवार की ही शाम को पन्ना पहुंचे मुस्लिम समाज के एक प्रतिनिधि मंडल ने यहां कलेक्टर मनोज खत्री और पुलिस अधीक्षक से मिलकर उन्हे ज्ञापन सौंपा गया। जिसमें आरोप लगाया है कि कतिपय धार्मिक संगठनों से जुड़े लोग अजयगढ़ में साम्प्रदायिक सौहार्द, अमन-चैन और भाईचारे को बिगाड़ने के लिए वर्ष 2017 से लगातार षड़यंत्र कर रहे हैं। प्रशासनिक अधिकारियों पर राजनैतिक दबाव बनाकर मुस्लिमों के खिलाफ झूठे प्रकरण पंजीबद्ध कराये जा रहे हैं। साथ ही अजयगढ़ की मुस्लिम बस्तियों से रैली निकालकर कतिपय धार्मिक संगठनों से जुड़े लोगों द्वारा भड़काऊ और उग्र नारेबाजी कर लगातार अपमानित किया जा रहा है, जिससे शांति व्यवस्था को गंभीर खतरा उत्पन्न हो रहा है।

दबाब में निर्दोष पर ना हो कार्यवाही-

ज्ञापन में उल्लेख है कि उक्त संगठनों के दबाव में अजयगढ़ थाना पुलिस 18 जून 2018 को दोपहर 11ः00 बजे अय्यूब बक्स पिता करीम बक्स को उसके घर से उठा ले गई। बगैर किसी अपराध के अय्यूब बक्स को गैरकानूनी तरीके से 24 घंटे से अधिक समय से पुलिस हिरासत में थाना में ही रखा गया है। परिवारजनों को इसका कारण भी नहीं बताया गया। मुस्लिम समाज के लोगों ने यह आशंका जताई है कि दबाव में आकर अजयगढ थाना पुलिस निर्दोष अय्यूब बक्स को  गौवंश हत्या के मामले में आरोपी बना सकती है। कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक ने मुस्लिम समाज के प्रतिनिधि मंडल को आश्वस्त किया कि किसी के दबाब या सिर्फ आरोप के आधार पर अपराधिक प्रकरण दर्ज कर किसी के भी साथ अन्याय नहीं किया जायेगा। दोनों अधिकारियों ने मुस्लिम समाज के प्रतिनिधि मंडल से शांति और सद्भाव बनाये रखने और गौवंश मामले की जांच में मदद करने की बात कही। जिस पर उन्होंने अपनी और पूर्ण सहयोग का भरोसा दिलाते हुए कहा की वे स्वयं भी यह चाहते हैं की इस मामले का जल्द से जल्द खुलासा हो ताकि समाज विरोधी तत्व पकड़ा जाये और सम्पूर्ण मुस्लिम समाज को बदनाम करने की साजिश का भंडाफोड़ हो सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here