फालोअप: टपरियन खूनी संघर्ष। दोनों गुटों के 12 हत्यारोपी गिरफ्तार

0
1766
हत्यारोपियों का मेडीकल परीक्षण कराने उन्हें स्वास्थ्य केंद्र ले जाते पुलिसकर्मी।

पुलिस ने पाँच महिलाओं को भी बनाया आरोपी

जमीनी विवाद को लेकर हुई तीन हत्याओं के बाद से सिमराखुर्द में तनाव बरक़रार

पवई। रडार न्यूज़  पन्ना जिले के पवई थाना क्षेत्र के ग्राम सिमराखुर्द के टपरियन में दो परिवारों के बीच चल रहे जमीनी विवाद में दबंगों के हस्तक्षेप करने से उपजे झगड़े के ख़ूनी संघर्ष का रूप लेने से दोनों ही पक्षों के तीन लोगों को अपनी जान गवांनी पड़ी। दो अलग-अलग समुदायों से जुड़ी इस वारदात की गंभीरता को और इलाके में पूर्व में हुए अत्यंत ही जघन्य हत्याकाण्डों के रक्त रंजित इतिहास के मद्देनजर पुलिस ने तत्परता से कार्यवाही करते हुए महज चौबीस घंटे के अंदर दोनों पक्षों के 12 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। वहीं पिछले 36 घण्टों से सिरामरखुर्द ग्राम पुलिस छावनी बना हुआ है। पवई में भी अतिरिक्त पुलिस बल तैनात है। दो परिवारों के बीच का यह विवाद कोई और रूप ना लेने पाये साथ ही इस पर कोई सियासत भी ना हो इसे लेकर पुलिस पूरी तरह हाईअलर्ट पर है। शांति और कानून व्यवस्था को हर हाल में बनाये रखने के लिए पुलिस के आला अफसर पल-पल की खबर ले रहे हैं साथ ही हालात पर पैनी नज़र रखे हुए हैं। उधर ड्यूटी पर तैनात पुलिस के जवान हर चुनौती से निपटने के लिए पूरी तरह मुस्तैद है। ख़ूनी संघर्ष में मरने वालों के अंतिम संस्कार के बाद ग्राम सिमराखुर्द के टपरियन में तनावपूर्ण शांति बरक़रार है। इस मामले में पुलिस ने गुरूवार 5 जुलाई 2018 को एक पक्ष की और से आठ आरोपियों अकरम खाॅन पिता अकबर, मुन्ना खाॅ पिता अनार खाॅ, अकबर खाॅ पिता अनार खाॅ, शकूरन बानो पति अनार खाॅ, मदीना बानो पति अकबर, रीनू पति शहीद खाॅ, अमजद पिता अकबर खाॅ, शायरा बानो पति मुन्ना खाॅ, गुलाब खाॅ पति शफी खाॅ, अनार खाॅ पिता अमीर खाॅ को धारा 302, 147, 342 आईपीसी व दूसरे पक्ष की और से चार लोगों रघुवीर सिंह उर्फ छोटे राजा, किशन चौधरी पिता सुकईयां चौधरी, रामेश्वरी चौधरी पिता किशन चौधरी, गुलाब बाई पति किशन चौधरी को दर्ज आपराधिक प्रकरण में धारा 302, 34 आईपीसी और धारा 25/27 आर्म्स के तहत गिरफ्तार किया है। इन्हें आज पुलिस द्वारा न्यालय में पेश किया गया। जहां से सभी 12 आरोपियों को न्यायिक अभिरक्षा में भेजा गया है।

क्या है मामला-

उल्लेखनीय है कि ग्राम सिमराखुर्द के टपरियन निवासी किशुन चौधरी और अनार खान पिता अमीरा खान 70 वर्ष के बीच लम्बे समय से जमीनी विवाद चल रहा है। बुधवार 4 जुलाई को  गांव के दबंग रघुवीर सिंह ठाकुर उर्फ़ छोटे राजा द्वारा किशुन चौधरी की ओर से जमीनी विवाद में हस्तक्षेप करते हुए अनार खान के घर उसे धमकाने पहुंचे। अनार खान ने विवादित भूमि पर अपना दवा छोड़ने से इंकार करते हुए जब इस मामले में दखलंदाजी न करने की बात कही तो उनके बीच मुहँवाद हो गया । इसे अपना अपमान समझकर बौखलाहट में रघुवीर सिंह ठाकुर अनार खान से उसके घर में ही झगड़ने लगा। जब इस बात की भनक रघुवीर सिंह के बड़े भाई जगदीश सिंह को लगी तो वह तुरंत अपनी रायफल लेकर मौके पर पहुंचा और गालियाँ देते हुए दिनदहाडे़ फायरिंग कर वृद्ध अनार खान पिता अमीरा खान 70 वर्ष व उसकी बहू हसीना बानो पत्नी अमजद खान 25 वर्ष के सीने में गोलियां उतर दीं। जिसमें अनार खान की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि उसकी बहू हसीना बानो ने पवई स्वास्थ्य केन्द्र पहुँचते ही दम तोड़ दिया। अनार खान को बचाने आया अकरम खान पुत्र अकबर खान 20 वर्ष गोली लगने से गंभीर रूप से घायल हो गया। वहीं दबंगों से पिता और भाभी की मौत का बदला लेने के लिए अनार खान के परिजनों ने जगदीश सिंह उर्फ बड़े राजा की बंदूक छुड़ाकर लाठियों से पीट-पीटकर और पत्थर पटककर उसकी हत्या कर दी। इस सनसनीखेज घटना में रघुवीर सिंह को भी चोटें आयीं है। मालूम हो कि बुधवार को दो पक्षों के बीच हुए ख़ूनी संघर्ष में तीन लोगों की मौत होने की सूचना मिलते ही आईजी सागर संभाग सतीष कुमार सक्सेना व छतरपुर रेंज के डीआईजी अनिल महेश्वरी कुछ ही घंटे बाद मौके पर पहुँच गए थे और स्तिथि को नियंत्रण में रखने के लिए देर रात तक भारी पुलिस बल के साथ स्वयं कमान संभाले रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here