क्राइम | बोलेरो से कट मारकर बाइक सवार बैंककर्मी को गिराया फिर मारपीट कर लूट ले गए सामान

0
813
फाइल फोटो।

पन्ना में शातिर बदमाशों ने लूटपाट की सनसनीखेज वारदात को दिया अंजाम

ऐक्सिस बैंक कर्मचारी के साथ हुई लूट की 2 दिन बाद भी पुलिस ने नहीं लिखी रिपोर्ट

पन्ना। रडार न्यूज   कोतवाली थाना पन्ना की ककरहटी पुलिस चौकी अन्तर्गत ऐक्सिस बैंक कर्मचारी अशोक कुमार दहायत पिता बिहारी लाल दहायत ग्राम अमरी थाना गुनौर के साथ मारपीट कर बोलेरो में सवार चार अज्ञात नकाबपोश बदमाश उनका मोबाइल फोन और आईपैड छुड़ाकर देवेंद्रनगर की और भाग गए। लूट की यह सनसनीखेज वारदात बुधवार 24 अक्टूबर 2018 की शाम तकरीबन 7 बजे ग्राम सकरिया-ककरहटी के बीच नाला की बताई जा रही है। लूट का शिकार हुए बैंककर्मी द्वारा वारदात की लिखित सूचना आनन-फानन ककरहटी पुलिस चौकी में दी गई। लेकिन घटना के दो दिन गुजरने के बाद भी अज्ञात दुस्साहसिक लुटेरों का सुराग लगाना तो दूर पुलिस अब तक उक्त घटना की सच्चाई का पता भी नहीं कर पाई है। कोतवाली थाना पन्ना के प्रभारी अरविंद कुमार कुजूर का कहना है कि लूट की घटना संदिग्ध प्रतीत हो रही थी, इसलिए सीधे आपराधिक प्रकरण दर्ज न कर घटना की जांच की जा रही है। लूट जैसे बेहद गंभीर मामले की जांच कब पूरी होगी और अज्ञात बदमाशों के विरुद्ध एफआईआर कब दर्ज की जाएगी इस संबंध उन्होंने कुछ भी नहीं बताया। उधर लूट की सनसनीखेज वारदात की खबर फैलने के बाद इलाके के लोग दहशत में है। क्षेत्र में चर्चा है कि सकरिया-ककरहटी मार्ग पर लोग जब शाम 7 बजे सुरक्षित नहीं है तो देर रात इस मार्ग आवागमन करना मतलब जानमाल का खतरा मोल लेना है।

सड़क पर गिरते ही टूट पड़े बदमाश

पीड़ित ऐक्सिस बैंक कर्मचारी अशोक कुमार दहायत।
ऐक्सिस बैंक कर्मचारी अशोक कुमार दहायत पिता बिहारी लाल दहायत ग्राम अमरी थाना गुनौर ने बताया कि बुधवार की शाम वह बाइक से अपने गांव अमरी जा रहा था, रास्ते में ग्राम सकरिया-ककरहटी के बीच स्थित नाला में सफेद कलर की बोलेरो जीप के कट मारने पर वह अनियंत्रित होकर गिर गया। अशोक कुमार खुद को संभाल पाते कि बोलेरो से उतरे दो नकाबपोश बदमाश उनके साथ मारपीट कर बैग छीनने लगे। इस बीच एक अन्य व्यक्ति वाहन से उतरा और डंडे से हमला कर मोबाइल फोन, आईपैड, घड़ी, ड्राईविंग लाइसेंस, एटीएम कार्ड, पेन कार्ड सहित अन्य जरूरी समान छुड़ाकर बोलेरो से देवन्द्रनगर की और भाग निकले। इस अप्रत्याशित घटना का शिकार बना बैंककर्मी भयभीत होने के कारण बोलेरो का नंबर सही तरीके से नहीं देख पाया, सिर्फ एमपी 34 उसकी समझ में आया और उसमें चार नकाबपोश सवार थे। अशोक द्वारा लूट की वारदात की सूचना तत्परता से समीपी पुलिस चौकी ककरहटी में दी गई। पीड़ित का आरोप है कि उसे कई घंटे तक चौकी में बैठाने के बाद भी फिर रिपोर्ट नहीं लिखी गई। पीड़ित ने चौकी पुलिस के इस रवैये को देखते पुलिस कप्तान पन्ना से घटना की एफआईआर दर्ज करने के निर्देश देने और अज्ञात बदमाशों का सुराग लगाकर उन्हें गिरफ्तार किये जाने की है।

इनका कहना-

“इस कथित घटना में गए सामान की कीमत कुछ पत्रकार बढ़ा-चढ़ा कर लिख रहे हैं जबकि बैंककर्मी ने पुलिस को सिर्फ अपना मोबाइल फोन और आईपैड बदमाशों द्वारा छुड़ाकर ले जाने की जानकारी दी है। जिसका मूल्य 20 हजार से भी कम है। ऐक्सिस बैंक कर्मचारी अशोक कुमार के घटना को लेकर बयानों में अंतर् होने से मामला संदिग्ध प्रतीत हो रहा था इसलिए सीधे रिपोर्ट न दर्ज कर घटना की सत्यता की सूक्ष्मता से की जांच की जा रही है। पुलिस ने घटना को गंभीरता से लिया है।”

अरविंद कुमार कुजूर निरीक्षक कोतवाली थाना पन्ना।