क्रिसमस के लिए सजाये चर्च, कुछ घंटे बाद मध्य रात्रि में मनाया जायेगा प्रभु यीशु का जन्मोत्सव

0
1051
पन्ना में नेशनल हाईवे-39 के किनारे स्थित सेंट जोसेफ कैथोलिक चर्च।

* महापर्व को लेकर उत्साह के साथ भक्तिभाव में डूबे मसीही समाज के लोग

पन्ना। रडार न्यूज परमपिता परमेश्वर के पुत्र प्रभु यीशु मसीह के जन्मोत्सव यानि क्रिसमस पर्व की तैयांरयां पन्ना में पूरी हो चुकीं हैं, बस कुछ ही घंटे बाद प्रभु यीशु मसीह का जन्मोत्सव परम्परागत तरीके हर्षोल्लास के साथ मनाया जायेगा। क्रिसमस पर्व के लिए शहर के सभी चर्चों का रंगरोगन कर उनकी एलईडी लाईटों से आकर्षक विघुत सज्जा की गई है। क्रिसमस से पूर्व के कार्यक्रम भी यहां मसीही समाज द्वारा उत्साह और भक्तिभाव के साथ आयोजित किये जा रहे हैं। फादर जोसफ़ ने बताया कि सेंट जोसेफ कैथोलिक चर्च में प्रभु यीशु का अवतरण दिवस क्रिसमस के कार्यक्रम सोमवार 24 दिसम्बर की रात्रि 11:30 बजे से शुरू हो जायेंगे। मध्यरात्रि में जैसे ही घड़ी में 12 बजेंगे प्रभु यीशू का चरनी में जन्म होगा। इस अवसर पर विशेष प्रार्थना की जायेगी और क्रिसमस का संदेश दिया जायेगा।
पन्ना में बाबा बादशाह साईं कॉलोनी में स्थित ईसीआई चर्च
ईसीआई चर्च पन्ना के प्रमुख फादर सॉलोमन थापा ने बताया कि क्रिसमस पर्व के उपलक्ष्य पर विशेष प्रार्थना चर्च में मंगलवार 26 दिसम्बर को सुबह आयोजित होगी। मालूम होकि महापर्व क्रिसमस की तैयारियां वैसे तो दिसम्बर माह की 1 तारीख से ही शुरू हो जातीं हैं। पर जैसे-जैसे क्रिसमस नजदीक आता है तैयारियां तेज हो जाती हैं। शहर के सेंट जोसेफ चर्च, जेसुपाल आश्रम और बाबा बादशाह साईं कॉलोनी में स्थित ईसीआई चर्च को क्रिसमस के लिए विशेष तौर पर सजाया-संवारा गया है। यहां प्रभु यीशू के जन्म के लिए चरनी बनाई बनाई गई है। गिरिजाघरों और मसीही समाज के लोगों के घरों पर लगा शुभ तारा शांतिदूत प्रभु यीशू के अवतरण की राह दिखा रहा है।
कैथोलिक चर्च में चरनी की साज-सज्जा करते फादर जोसफ़ व मसीही समाज के लोग।
क्रिसमस के पूर्व परम्परानुसार पिछले कुछ दिनों से शहर में मसीही समाज के घरों में सामूहिक रूप से कैरोल सिंगिंग के कार्यक्रम आयोजित किये गए। इस दौरान मसीही समाज के लोगों के घरों में यीशू की बाल्यवस्था प्रतीक रुपी प्रतिमा ले जाकर सभी को प्रभु के जन्मोत्सव का संदेश दिया गया । उल्लेखनीय है कि क्रिसमस को लेकर शहर की दुकानें गिफ्ट आईटम, ग्रीटिंग्स और सजावटी समानों की मांग बढ़ गई है। कई उत्साही बच्चों ने सांता क्लॉज की वेशभूषा धारण करने के लिए खास किस्म की ड्रेस खरीदी है।