Homeताजा ख़बरेंबड़ी सफलता : नकली सोना बेंचकर ठगी करने वाले अन्तर्राज्यीय ठग...

बड़ी सफलता : नकली सोना बेंचकर ठगी करने वाले अन्तर्राज्यीय ठग गिरोह का पर्दाफाश

* पकड़े गए कुल 9 आरोपियों में 3 महिलायें और 6 पुरुष शामिल

* आरोपियों से नगद 80 हजार रूपए, 18 सोने के गुरिया, 2 किलो नकली सोना बरामद

शादिक खान, पन्ना। (www.radarnews.in) मध्य प्रदेश के पन्ना जिले की पुलिस ने नकली सोना बेंचकर ठगी करने वाले एक अन्तर्राज्यीय ठग गिरोह का पर्दाफाश करते हुए इसके 9 सदस्यों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए शातिर आरोपियों ने कुछ दिन पूर्व पन्ना के एक सब्जी उत्पादक किसान को नकली सोने का हार दिखाकर उसे बेंचने अथवा गिरवी रखने का झांसा देकर ठगी की वारदात को अंजाम दिया था। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से नकद 80 हजार रूपए, 18 सोने के गुरिया, 8 चाँदी के सिक्के,1 चाँदी का पेण्डल, नकली सोना करीब 2 किलो बरामद किया है। प्रारंभिक जाँच में शातिर ठग गिरोह के लिंक उत्तर प्रदेश और राजस्थान में मिले हैं। इनके द्वारा पूर्व में भी इसी तर्ज पर ठगी की 7-8 वारदातों को अंजाम देने की बात कबूल की गई है। अन्तर्राज्यीय ठग गिरोह की गिरफ्तारी को पन्ना पुलिस की बड़ी सफलता के रूप में देखा जा रहा है। पन्ना जिले के पुलिस अधीक्षक मयंक अवस्थी ने बताया कि ठगी करने वाले आरोपियों को न्यायालय में पेश करके पुलिस रिमाण्ड पर लिया जाएगा। दरअसल, पुलिस को इनसे विस्तृत पूँछताँछ में और भी कई खुलासे होने की उम्मीद है।

असली सोना देकर जाल में फंसाया 

शातिर ठगों से जब्त गहने सोने चांदी के असली-नकली गहने।
अन्तर्राज्यीय ठग गिरोह द्वारा पन्ना में की गई ठगी के संबंध में पुलिस अधीक्षक मयंक अवस्थी ने जानकारी देते हुए बताया कि दिनाँक 14 फरवरी 2020 को लखनलाल कुशवाहा पिता रामचरण कुशबाहा 60 साल निवासी ग्राम जनवार ने थाना कोतवाली पन्ना आकर अपने साथ हुई ठगी की जानकारी दी। लखनलाल ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि दिनांक 24 जनवरी 2020 को सुबह 10 बजे करीब वह अपनी सब्जी-भाजी की दुकान में बैठा था, तभी एक व्यक्ति वहाँ आया और मुझसे बोला कि दादा मैं बिहार का रहने वाला हूँ । जिला अस्पताल पन्ना मे मिस्त्रीगिरी का काम करता हूँ।
अस्पताल में नींव खोदते समय मुझे गले का सोने का हार वजनी करीब आधा किलो का मिला है । मुझसे बोला कि दादा मुझे अपनी बच्ची की शादी करना है, मुझे पैसे की आवश्यकता है। तुम मुझसे हार गिरवी रख लो या खरीद लो। इतनी बात होने के बाद वह चला गया । फिर दूसरे दिन वह व्यक्ति आया और एक पोटरी खोलकर दिखाया कि यह हार सोने का है। उसी पोटरी में से दो गुरिया निकाले जो सोने जैसे चमक रहे थे। फिर उसका मामा मुझसे बोला कि जाओ सोनी को चैक करा लो कि गुरिया असली है या नकली। उस व्यक्ति ने मुझे अपना मोबाइल नंबर- 9084784800 दिया और मुझसे बोला कि चैक करा के आओ तो मुझे फोन कर लेना । लखनलाल ने आभूषण विक्रेता को गुरिया चैक कराया तो वह असली सोना निकला।

लड़की की शादी के बहाने की ठगी

सब्जी उत्पादक एवं विक्रेता कृषक लखनलाल ने दिनाँक 26 जनवरी 2020 को उस व्यक्ति को फोन लगाया तो उसने कहा कि दादा मेरी लड़की की शादी है। कन्यादान लेना है, तुम सोमवार को देवेन्द्रनगर आ जाना और एक सोने का हार, एक करधौनी और 2 लाख रुपये लेते आना। अगले दिन लखनलाल और उसका लड़का मनमोहन एक सोने का हार और एक चांदी का डोरा करीब डेढ पाव का और करीब 2 लाख रूपए लेकर मोटर साइकिल से बस स्टैंड देवेन्द्रनगर पहुँचे। उक्त दोनों व्यक्ति देवेन्द्रनगर बस स्टैंड पर मिले तब मैनें उस व्यक्ति को 2 लाख रुपये दिये और सोने-चांदी के गहने सौंप दिए। इसके एवज में उस व्यक्ति ने लखनलाल को वह हार दिया जिसे उसने खुदाई के दौरान मिलना बताया था।
उक्त हार को लेकर पिता-पुत्र वापिस अपने घर पहुंचे और उसी दिन शाम करीब 4 बजे पन्ना में आभूषण विक्रेता की दुकान पर हार चैक कराया तो पता चला कि हार तो तांबे का है। धोखाधड़ी का शिकार हुए सब्जी विक्रेता ने उस व्यक्ति को शाम करीब 5 बजे फोन लगाया तो फोन बंद मिला। ठगी करने वाले व्यक्तियों को लखनलाल कुछ दिन तक सकरिया देवेन्द्रनगर में तलाश करता रहा लेकिन वह नहीं मिले। इस मामले में कोतवाली थाना पन्ना पुलिस ने लखनलाल की रिपोर्ट पर अपराध क्रमाँक 169/2020 धारा 420 भादवि का कायम किया जाकर विवेचना मे लिया गया ।

साइबर सेल की मदद से पकड़े आरोपी

ठगी के मामले की गंभीरता को देखते हुये थाना प्रभारी कोतवाली पन्ना द्वारा तत्काल इसकी सूचना वरिष्ठ अधिकारियों को दी गई। पुलिस अधीक्षक पन्ना मयंक अवस्थी के निर्देशन, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक बीकेएस परिहार एवं अनुविभागीय अधिकारी आर.एस. रावत के मार्गदर्शन एवं थाना प्रभारी कोतवाली के नेतृत्व में तत्काल एक पुलिस टीम का गठन किया गया। उक्त पुलिस टीम द्वारा तत्परता के साथ अपने मुखबिर तंत्र को सक्रिय किया गया एवं घटना दिनांक के सीसीटीव्ही फुटेज को खंगाला गया। सीसीटीव्ही फुटेज के माध्यम से दोनों व्यक्तियों के फोटो प्राप्त कर पन्ना, सकरिया, देवेन्द्रनगर, बृजपुर, मड़ला,अजयगढ़ आदि स्थानों पर खोजबीन की गई। साइबर सेल की मदद से उस मोबाइल नंबर की लोकेशन पता की गई जिस पर बातचीत हुई थी। इस दौरान 16 फरवरी को मुखबिर के माध्यम से सूचना प्राप्त हुई कि कुछ संदिग्ध व्यक्ति रानीबाग (टगरा) पन्ना की तरफ घूम रहे हैं। मुखबिर की सूचना पर तत्काल थाना प्रभारी कोतवाली हरिसिहं ठाकुर द्वारा टीम को रवाना किया गया। उक्त टींम के द्वारा संदेही व्यक्तियों को घेराबंदी कर पकड़ा गया।

तीन राज्यों के ठग गिरोह में शामिल

पकड़े गए संदेहियों से पुलिस ने जब कड़ाई से पूँछताँछ की तो उन्होंने सब्जी विक्रेता लखनलाल कुशवाहा के साथ ठगी करने का जुर्म कबूल कर लिया। बड़ी मशक्कत के बाद पुलिस के हत्थे चढ़े आरोपियों में- शंकर लाल पिता राजाराम राय 48 साल, शंकर राय पिता बीरचन्द्र राय 34 साल निवासी, मंगल राम पिता तेजराम राय, अर्जुन राय पिता शंकर राय 20 साल, श्रीमति टीना राय पति मंगल राय 40 साल सभी निवासी जिला आगरा उत्तर प्रदेश, रामलाल राय पिता धूरा लाल राय 44 साल, श्रीमती राजू देवी राय पति राम लाल राय उम्र 42 दोनों निवासी जिला इटावा उत्तर प्रदेश, अर्जुन सिलवट पिता धुला सिलवट 26 साल निवासी गुलाब बाई कालोनी नागदा जिला उज्जैन एवं श्रीमति नूतन सोलंकी पति हेमराज सोलंकी उम्र 25 साल निवासी खोडिया नगर अहमदाबाद गुजरात शामिल हैं। पुलिस ने उक्त सभी आरोपियों के कब्जे से नगद 80 हजार रूपए, 18 सोने के गुरिया, 8 चाँदी के सिक्के, 01 चाँदी का पेण्डल, नकली सोना करीब 2 किलो बरामद किया गया।
पुलिस की पूँछताँछ में आरोपियों ने ठगी की वारदात में हेमराज सोंलकी पिता कप्तान सोंलकी उम्र 35 साल निवासी ग्राम करारी जिला झाँसी उत्तर प्रदेश के भी शामिल होने की जानकारी दी है। पुलिस अधीक्षक पन्ना श्री अवस्थी ने बताया कि उक्त आरोपी को भी शीघ्र गिरफ्तारी किया जाएगा। उन्होंने बताया कि शातिर ठगों ने पन्ना के अलावा सतना, रीवा, जबलपुर, कटनी, इलाहाबाद आदि जिलों में इसी तरीके की वारदातों को अंजाम देना स्वीकार किया है।

पुलिस टीम को मिलेगा ईनाम

अन्तर्राज्यीय ठग गिरोह की धरपकड़ में अहम भूमिका निभाने वाली पुलिस टीम एवं साइबर सेल की पन्ना एसपी मयंक अवस्थी ने सराहना करते हुए 10 हजार रुपये के नकद ईनाम से पुरुष्कृत करने की घोषणा की है। ठगों की गिरफ्तारी में निरीक्षक हरिसिहं ठाकुर, उप निरीक्षक एन.पी. पटेल, बलवीर सिहं, सहायक उप निरीक्षक कस्तूरी बाई, प्रधान आरक्षक रामकष्ण पाण्डेय, शिवेन्द्र सिहं, प्रेमलाल पाण्डे, आरक्षक राजेश सिहं, लक्ष्मीनारायण यादव, राजीव, ब्रम्हदत्त, प्रदीप, रामपाल, महिला आरक्षक किरन, सीतू सिहं, मीना अहिरवार व साईबर सेल पन्ना के आरक्षक नीरज रैकवार, आशीष अवस्थी, धर्मेन्द्र राजावत का सराहनीय योगदान रहा।
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments