रफ़्तार का कहर : 48 घण्टे के अंदर दूसरा बड़ा सड़क हादसा, फिर पलटी एक तेज रफ़्तार ओवरलोड बस, एक की मौत 25 यात्री घायल

0
1216

* एनएच-39 पर पन्ना के समीप मोहनगढ़ी मोड़ की घटना

* सड़क हादसों को लेकर परिवहन विभाग और यातायात पुलिस बेपरवाह

शादिक खान, पन्ना।(www.radarnews.in) मध्य प्रदेश के पन्ना जिले में यात्री बसों की अंधी रफ़्तार का कहर जारी है। जिसका दुष्परिणाम 48 घण्टे के भीतर दूसरे बड़े सड़क हादसे के रूप में सामने आया है। बुधवार 12 फरवरी को दोपहर करीब 11 बजे सतना मार्ग पर मोहनगढ़ी मोड़ के समीप हुए भीषण हादसे में एक तेज रफ़्तार ओवरलोड बस चालक की लापरवाही से अनियंत्रित होकर सड़क किनारे पलट गई। जिसमें एक यात्री की मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई। जबकि दो दर्जन से अधिक यात्रियों के घायल होने की खबर मिली है। यात्रियों से खचाखच भरी बस के पलटते ही मौके पर कोहराम मच गया। घायल यात्रियों को राहगीरों और पुलिस की मदद से बाहर निकालकर इलाज के लिए आनन्-फानन जिला चिकित्सालय पन्ना पहुँचाया गया। जिला चिकित्सालय में सभी घायलों का इलाज जारी है।
हादसे के संबंध बस में सवार रहे यात्रियों ने जानकारी देते हुए बताया कि प्राची कोच की मिनी बस क्रमाँक- MP- 09- FA- 1377 छतरपुर से सतना जा रही थी। बस की सभी सीटें भरी हुई थीं तथा कुछ यात्री खड़े हुए थे। पन्ना बस स्टैण्ड से यह बस करीब 10:30 बजे रवाना हुई और पन्ना-सतना मार्ग पर बमुश्किल 7 किलोमीटर चलने के बाद मोहनगढ़ी के मोड़ पर अनियंत्रित होकर पलट गई। यात्रियों ने बताया कि अज्ञात चालक बस को तेज गति से अत्यंत ही लापरवाही पूर्वक चला रहा था। जिससे मोड़ पर बस अनियंत्रित होकर सड़क किनारे पलट गई। हादसे में छतरपुर जिले के निवासी श्रीराम कुशवाहा की मौत हो गई। जबकि दो दर्जन से अधिक यात्री घायल हुए हैं। घायलों में महिलाएं और बच्चे भी शामिल हैं। सड़क हादसे की सूचना मिलने पर एडीशनल एसपी बीकेएस परिहार, रक्षित निरीक्षक देविका सिंह बघेल, यातायात प्रभारी नीतू ठाकुर, नगर निरीक्षक हरि सिंह ठाकुर पुलिस बल के साथ मौके तत्काल मौके पर पहुँच गए। राहगीरों और पुलिस जवानों द्वारा दुर्घटनाग्रस्त बस से घायलों को निकालकर डायल 100 वाहन तथा एम्बुलेंस से उपचार हेतु पन्ना जिला चिकित्सालय पहुँचाया गया। सभी घायलों का जिलाचिकित्सालय में उपचार चल रहा है। हादसे के बाद से बस का अज्ञात आरोपी चालक फरार है।

सोमवार को पहाड़ीखेरा मार्ग पर पलटी थी बस

मालूम होकि आज के हादसे से 48 घण्टे पूर्व पन्ना-पहाड़ीखेरा मार्ग पर सोमवार 10 फरवरी को सुबह करीब 10:30 बजे जवाहर नवोदय विद्यालय रमखिरिया के मोड़ के समीप अम्बे कम्पनी की बस अनियंत्रित होकर पलट गई थी। इस भयानक हादसे में बस में सवार दो नाबालिग छात्रों की दर्दनाक मोत हो गई थी। जबकि दो दर्जन से अधिक यात्री एवं स्कूली छात्र घायल हुए थे। तीन दिन के अंदर आज दूसरा सड़क हादसा होने की खबर ने जिले के लोगों को हिलाकर रख दिया है। यात्री सुरक्षा को खतरे में डालकर अंधी रफ़्तार से दौड़ने वाली बसों पर कार्रवाई लेकर जिम्मेदारों की अनदेखी पर लोग सवाल उठा रहे हैं।
लोगों का आरोप है कि, अधिकांश बसें यात्री सुरक्षा मानकों-मापदण्डों को रौंदते हुए खुलेआम दौड़ रहीं हैं। इसलिए बसों की यात्रा बेहद जोखिम भरी हो गई है। तेजी से बढ़ते सड़क हादसों और उनमें हो रहीं मौतों के बाबजूद पन्ना जिले का परिवहन विभाग और यातायात पुलिस के जिम्मेदार अधिकारी हादसों की रोकथाम को लेकर पूरी तरह बेखबर हैं। बस यात्रियों की यात्रा सुरक्षित कैसे हो इसके लिए तत्परता से आवश्यक कदम उठाने के बजाए जिम्मेदारों का पूरा ध्यान वसूली पर केन्द्रित है। कभी-कभार की जाने वाली इनकी कार्रवाई महज औपचारिकता पूरी करने तक सीमित है। जिससे निजी बस आपरेटरों की मनमानी जारी है और सड़क हादसों पर प्रभावी अंकुश नहीं लग पा रहा है।