अयोध्या पर फैसला : शान्ति के टापू पन्ना जिले में अमन-चैन और भाईचारे का रहा माहौल

0
730
पन्ना कलेक्टर कर्मवीर शर्मा एवं पुलिस अधीक्षक मयंक अवस्थी।

* जिले में शान्ति एवं कानून व्यवस्था कायम रखने पुलिस और प्रशासन रहा मुस्तैद

* दिनभर खुले रहे बाजार सामान्य दिनों की तरह नजर आया आमजन जीवन

पन्ना। (www.radarnews.in) अयोध्या के विवाद पर शनिवार को सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला आने पर मध्यप्रदेश के पन्ना जिले में पूरी तरह में अमन-चैन और भाईचारे का रहा माहौल कायम रहा। शान्ति का टापू कहलाने वाले पन्ना जिले के लोगों के लिए आज का दिन आम दिनों की तरह ही था। पन्ना जिला मुख्यालय सहित आंचलिक क्षेत्रों के बाजार पूरी तरह खुले रहे और सभी जगह जन जीवन पूरी तरह सामान्य रहा। किसी भी अप्रिय स्थिति से निपटने के लिए एहतियात के तौर प्रमुख स्थानों एवं बाजारों में पुलिस बल पूरी मुस्तैदी के साथ तैनात रहा। शनिवार 9 नवंबर की सुबह से लेकर देर रात्रि तक पुलिस एवं प्रशासन के अधिकारी वाहनों से भ्रमण कर पल-पल की स्थिति का जायजा लेते रहे।
पन्ना जिले के शांति प्रिय लोगों ने आज एक बार फिर यह साबित कर दिया है कि वे अपनी गंगा-जमुनी तहजीब और भाईचारे की परंपरा को किसी भी कीमत पर कायम रखने के लिए प्रतिबद्ध है। जिले में शान्ति और कानून व्यवस्था बनाए रखने में नागरिकों ने पुलिस व प्रशासन को अपनी ओर पूर्ण सहयोग देते हुए एक ऐसी मिशाल कायम की है जिसे लम्बे समय तक याद रखा जाएगा। अयोध्या विवाद पर आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले को जिले के सभी वर्गों के लोगों ने संयम व धैर्य के साथ स्वीकार करते हुए इसका स्वागत किया है। दिन भर सोशल मीडिया पर कई लोगों के द्वार स्वप्रेरणा से जिले में शान्ति, अमन-चैन और भाईचारा बनाए रखने की अपील पोस्ट की गई।

शान्ति बनाए रखने दूसरों को किया प्रेरित

जिले के हालत एवं सुरक्षा व्यवस्था की स्थिति पर चर्चा करते पन्ना कलेक्टर कर्मवीर शर्मा, पुलिस अधीक्षक मयंक अवस्थी एवं पुलिस अधिकारीगण।
उल्लेखनीय है कि एक सदी से भी अधिक समय से चल रहे अयोध्या के विवाद की अहमियत और संवेदनशीलता को देखते हुए इस पर देश की सर्वोच्च अदालत का फैसला आने के पूर्व पन्ना जिले में सुरक्षा व्यवस्था के कड़े इंतजाम किए गए थे वहीं लोगों से लगातार यह अपील की जाती रही कि संयम और समझदारी दिखाते हुए आपसी सौहार्द की विरासत को बनाए रखें। प्रशासन की इस अपील का पन्ना के लोगों ने तो अक्षरश: पालन किया ही साथ ही दूसरों को भी ऐसा करने के लिए सोशल मीडिया के जरिए लगातार प्रेरित किया गया। इसकी जितनी भी प्रसंशा की जाए शायद वह कम है। बताते चलें कि सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले को दृष्टिगत रखते हुए पुलिस एवं प्रशासन के द्वारा जिले के सभी थानों में शान्ति समिति की बैठकें आयोजित करते हुए शान्ति और क़ानून व्यवस्था बनाए रखने की अपील की थी। इन बैठकों में समाज के सभी वर्गों के लोग शामिल हुए और प्रशासन की चिंताओं के मद्देनजर यह आश्वासन दिया गया था कि किसी भी सूरत में शांति और भाईचारे के माहौल को बिगड़ने नहीं दिया जाएगा।

शाम के समय दिखी चहल-पहल

फैसला आने के बाद जैसा की सभी को भरोसा था, पन्ना जिला मुख्यालय सहित आंचलिक क्षेत्रों जन जीवन पूरी तरह सामान्य रहा। एहतियात के तौर पर आज स्कूल-कॉलिज की छुट्टी घोषित किये जाने से सड़कों पर सुबह और दोपहर के समय चहल-पहल थोड़ी कम रही। लेकिन शाम के समय रोज जैसी भीड़-भाड़ नजर आई। आज सुबह से ही प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारी खासे सक्रिय रहे। सड़कों पर जब सायरन बजाते हुए जब पुलिस और प्रशासन की गाड़ियां निकलती थीं उस समय जरूर यह एहसास होता था कि आज का दिन कुछ विशेष है।

इसी तरह आगे भी करें प्रदर्शन

पन्ना कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक द्वारा कानून एवं सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेने एवं शांति में वातावरण बनाए रखने के लिए नगर मुख्यालय, जिले के नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों का भ्रमण किया गया। कलेक्टर श्री शर्मा ने जिले के निवासियों से अपील करते हुए कहा कि आप लोगों ने जिस तरह का शांति एवं भाईचारे का प्रदर्शन किया है इसी तरह आगामी आने वाले समय में भी बनाए रखेंगे। पुलिस अधीक्षक श्री अवस्थी कहा कि आम आदमी की हिफाजत करना हमारा दायित्व है। इसके लिए हम सभी निरंतर सक्रिय हैं। सभी लोग सौहार्दपूर्ण वातावरण में त्यौहार मनाएं।