अंशुल मिश्रा हत्याकांड | चुनौती मिलने पर दोस्त बने क़ातिल, प्रीत ने विक्रम से कट्टा लेकर चलाई थी गोली, पुलिस ने दबिश देकर विक्रम को किया गिरफ्तार

0
2016
बृजपुर थाना पुलिस की अभिरक्षा में हत्यारोपी विक्रम व्यापारी।

* आरोपी के घर से दो जिन्दा कारतूस हुए बरामद

* सड़क दुर्घटना को लेकर हुए विवाद में की थी दोस्त की हत्या

पन्ना (रुपेश जैन, बृजपुर)। रडार न्यूज  मध्यप्रदेश के पन्ना जिले की बृजपुर थाना पुलिस ने बहुचर्चित अंशुल मिश्रा हत्याकांड में फरार चल रहे तीसरे और अंतिम आरोपी विक्रम व्यापारी को गिरफ्तार कर लिया है। विक्रम को गुरुवार 7 मार्च की सुबह ग्राम दमचुआ स्थित उसके घर से गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने उसके घर से 315 बोर के कट्टा के दो जिंदा कारतूस भी बरामद किए है। इसके पूर्व पुलिस ने इसी मामले के दो अन्य आरोपियों प्रीत बुंदेला व हरिनारायण शास्त्री को गिरफ्तार किया था। वर्तमान में दोनों आरोपी न्याययिक अभिरक्षा में जिला जेल पन्ना में बंद है।

 उलाहना देने पर हुआ था विवाद

अंशुल मिश्रा के शव के पास खड़े क्षेत्र के लोग। (फाइल फोटो)
सूत्रों से पता चला है कि विक्रम व्यापारी पुत्र वीरेन्द्र व्यापारी निवासी ग्राम दमचुआ 25 वर्ष ने पुलिस को दिए अपने गए बयान में हत्याकांड के संबंध में बताया कि घटना दिनाँक 22 फरवरी 2019 को वे चारों लोग बाइक से पहाड़ीखेरा जा रहे थे। तभी रास्ते में हीरापुर ग्राम के पास एक्सीडेंट हो गया जिसमें प्रीत बुंदेला के हाथ में मामूली चोट आई थी। पहाड़ीखेरा पहुँचने पर गौतम ढाबा के बाहर प्रीत ने अंशुल उर्फ मिश्रा सुमन राज पुत्र रविशंकर मिश्रा 22 वर्ष निवासी ग्राम बृजपुर को उलाहना देते हुए सड़क दुर्घटना के लिए उसे जिम्मेदार ठहराया। बस इसी बात को लेकर दोनों के बीच मुँहवाद होने लगा, इस दौरान प्रीत ने अंशुल को उससे उलझने पर गोली मारने की धमकी दे डाली। यह बात अंशुल को इतनी नाग़वार गुजरी कि सामने खड़े होकर उसने प्रीत को जातिगत और परिजनों की चुनौती देते हुए अपनी छाती (सीना) खोलकर गोली चलाने के लिए ललकारा। फिर क्या था प्रीत ने इस चुनौती को स्वीकार करते हुए विक्रम से कट्टा लेकर दोस्त अंशुल के सीने में गोली उतार दी और जमीन में गिरते ही उसकी मौत हो गई। मालूम हो कि घटना के समय चारों नवयुवक शराब के नशे में धुत थे। जिसके चलते वे अपने ही दोस्त के कातिल बन गए। अंशुल को गोली मारने के बाद प्रीत बुंदेला, विक्रम व्यापारी और हरिनारायण शास्त्री बाइक लेकर मौके से फरार हो गए थे।

कहाँ से आया कट्टा होगी जाँच

हत्याकांड के बाद कार्रवाई करती पुलिस की फाइल फोटो।
इस सनसनीखेज हत्याकांड को बृजपुर थाना प्रभारी कमलेश साहू और पहाड़ीखेरा चौकी प्रभारी आर.जी.दिवेदी और उनकी टीम ने गंभीरता से लेते हुए पखवाड़े भर के अंदर सभी फरार आरोपियों को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है। बृजपुर थाना प्रभारी कमलेश साहू “रडार न्यूज” से चर्चा में जानकारी देते हुए बताया कि आज पकड़े गए आरोपी विक्रम व्यापारी के घर से पुलिस ने दो कारतूस बरामद किए है। पुलिस द्वारा उसे पन्ना ले जाकर न्यायालय में पेश करने की कार्यवाही की जा रही है। उन्होंने बताया कि विक्रम ने अवैध कट्टा-कारतूस कहाँ से प्राप्त किया, इसकी भी गहनतापूर्वक जाँच की जा रही है।