शक्कर से तीस गुना मीठी सूखी स्टीविया की पत्ती को मार्केटिंग के लिए भेजा गया राजस्थान

0
747

* उद्यानिकी विभाग के प्रोत्साहन से स्टीविया की खेती कर रहे जिले के किसान

* अन्य किसानों से भी खरीदी जाएगी स्टीविया की पत्ती

पन्ना।(www.radarnews.in) जिले के ग्राम गुठला प्रतापपुर विकास खण्ड अजयगढ के कृषक रामलगन पाल पिता चेहनूपाल को सहायक संचालक उद्यान जिला पन्ना द्वारा स्टीविया पौध रोपण लगाने हेतु प्रोत्साहित किया। कृषक रामलगन पाल द्वारा 0.25 हेक्टेयर में स्टीविया पौध रोपण किया गया। जिसमें लगभग 4.50 क्विंटल सूखी स्टीविया की पत्ती की मार्केटिंग अम्बिका प्रसाद पटेल शुभम औषधीय रोपणी जबलपुर द्वारा क्रय कर बिकी हेतु खजुराहो रेलवे स्टेशन से ट्रेन द्वारा उदयपुर (राजस्थान) भेजा गया। जिसमें कृषक को चेक के माध्यम से राशि 31 हजार रूपये प्राप्त हुई। अन्य किसानों की स्टीविया के पत्ती भी इनके द्वारा क्रय की जावेगी। कृषक द्वारा बताया गया कि उनके द्वारा खेत तैयार कराकर मेड़ों में स्टीविया के पौधे 15 से.मी. पौध से पौध की दूरी एवं 45 से.मी. कतार से कतार की दूरी पर रोपित किये गये। जिले में स्टीविया की खेती किये जाने हेतु कृषक द्वारा कार्यालय/फील्ड स्तर पर लगातार जानकारी ली गई।

मधुमेह रोगी कर सकते है सेवन

सहायक संचालक उद्यान ने बताया है कि पन्ना जिले के लिये यह अलग से मीठी क्रांति के रूप विशेष उपलब्धि साबित होगी। स्टीविया की खेती से कृषकों का सालाना प्रति एकड़ 1.40 लाख की आय प्राप्त होगी। उल्लेखनीय है कि आज विश्व में मधुमेह के रोगियों की संख्या बढ़ रही है स्टीविया लो कैलोरी के कारण मधुमेह के रोगी आराम से खा सकते है। स्टीविया की पत्ती शक्कर से 30 गुना अधिक मीठी होती हैै तथा स्टीविया पत्ती से निर्मित पाउडर शक्कर से 300 गुना अधिक मीठा रहता है।