पन्ना टाईगर रिजर्व में वन्यजीवों के सामूहिक शिकार की योजना का खुलासा, जाल बिछाकर वन्यजीवों का शिकार करने आए शिकारियों को पहुँचाया जेल

0
1169
वनकर्मियों की अभिरक्षा में पकड़े गए शातिर शिकारी और उनसे जब्त सामग्री।

* वनकर्मियों की सजगता और तत्परता से पकड़े गए 3 शिकारी

* किशनगढ़-मड़ियादौ रेन्ज के जंगल में आए थे शिकार करने

* आरोपियों के कब्जे से रेशम के तीन जाल, मोटर साईकिल बरामद

पन्ना/किशनगढ़। (www.radarnews.in) मध्य प्रदेश का पन्ना टाईगर रिजर्व शिकारियों और तस्करों के निशाने पर है। पिछले महीने ही यहाँ की पन्ना बफर रेन्ज अंतर्गत सागौन के 600 से अधिक पेड़ों की अवैध कटाई होने का हैरान करने वाला मामला सामने आया था। पार्क की सुरक्षा व्यवस्था और प्रबंधन पर गम्भीर प्रश्न चिन्ह खड़े करने वाले इस प्रकरण में अभी कार्यवाही चल ही रही थी कि इस बीच पन्ना टाईगर रिजर्व के किशनगढ़ तथा मड़ियादौ बफर रेन्ज के जंगल में सामूहिक रूप से वन्यजीवों के शिकार की योजना को वनकर्मियों ने समय रहते नाकाम कर दिया है।
वन्य प्राणियों के अवैध शिकार के मकसद से जंगल में जाल बिछाने आए तीन शातिर शिकारियों को मैदानी वन अमले ने रंगे हाथ गिरफ्तार करने में भी सफलता प्राप्त की है। पकड़े गए शिकारियों के कब्जे से रेशम के तीन बड़े जाल और एक मोटरसाईकिल बरामद की गई है। इस मामले के सामने आने से एक बार फिर यह साफ़ हो चुका है कि पन्ना टाईगर रिजर्व के बाघ, अन्य वन्यजीव और बहुमूल्य वन सम्पदा पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं।

पीछा करके पकड़ा

सांकेतिक फोटो।
रविवार 30 जून को किशनगढ़ तथा मड़ियादौ बफर रेन्ज का मैदानी अमला संयुक्त रूप से जंगल गश्ती कर रहा था। इस दौरान बीट पटना के वन कक्ष क्रमाँक पी-469 में तीन व्यक्ति जंगली जानवरों का शिकार करने के लिए जाल लेकर वहाँ लगाने के लिए खड़े थे। वनकर्मियों को देखते ही तीनों शिकारी मोटरसाईकिल क्रमाँक-एमपी-16-एमके-6438 से भागने लगे। वनकर्मियों द्वारा तत्परता से पीछा करते हुए तीनों आरोपियों को पकड़ा गया। वन परिक्षेत्र अधिकारी राजेन्द्र सिंह नर्गेश ने बताया कि पकड़े गए शिकारियों की पहचान करण सिंह पिता रूप सिंह घोष 50 वर्ष निवासी बंधिया थाना बमीठा, बाबू कुशवाहा पिता हर प्रसाद कुशवाहा 45 वर्ष एवं राम सिंह पिता प्राण सिंह खंगार 60 वर्ष दोनों निवासी ग्राम हटवाहा थाना खजुराहो जिला छतरपुर के रूप में हुई है।

पूर्व में भी कर चुके हैं शिकार

फाइल फोटो।
पकड़े गए आरोपियों के कब्जे से वन्यजीवों के शिकार में उपयोग किए जाने वाले रेशम के तीन बड़े जाल जब्त किए गए। इन शिकारियों ने अपने बयानों में पूर्व में बमीठा एवं आसपास के जंगल में वन्यजीवों का शिकार करने व शिकार के प्रयास की बात बताई है। तीनों अपराधियों के खिलाफ वन अपराध कायम करते हुए सोमवार 01 जुलाई को न्यायालय में पेश किया गया जहाँ से इन्हें न्यायायिक अभिरक्षा जेल भेजा दिया गया है। शातिर शिकारियों की धरपकड़ में ऋषि पटैरिया बीटगार्ड पीपरचौक, चौबेलाल जाटव बीटगार्ड जैतपुर-पटना एवं सुरक्षा श्रमिकों की अहम भूमिका रही।