ताला हत्याकाण्ड : खेत में सोए किसान की रंजिश के चलते कुल्हाड़ी मारकर की गई थी हत्या, अंधे क़त्ल का खुलासा कर पुलिस ने 6 अभियुक्तों को किया गिरफ्तार

0
1624
शाहनगर थाना पुलिस की अभिरक्षा में युवा किसान जाहर प्रजापति के हत्यारोपी।

* मृतक जाहर प्रजापति की आरोपियों से जमीनी विवाद की चल रही थी रंजिश

पन्ना।(www.radarnews.in) जिले के शाहनगर थाना क्षेत्र के ग्राम ताला निवासी युवा किसान की हत्या की गुत्थी सुलझाने का दावा करते हुए शाहनगर पुलिस आधा दर्जन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के अनुसार पकड़े गए अभियुक्तों ने पूंछतांछ में जाहर प्रजापति पिता किशोरी प्रजापति 35 वर्ष की हत्या जमीनी विवाद की रंजिश के चलते करने की बात कबूल की है। गिरफ्तार हत्यारोपी ग्राम ताला के ही रहने वाले हैं। जिनमें मुख्य आरोपी तीरथ प्रजापति पिता घनुआ प्रजापति 22 वर्ष, भागीरथ पिता घनुआ प्रजापति 37 वर्ष, जगन्नाथ पिता घनुआ प्रजापति 21 वर्ष, भगवत पिता फेरन प्रजापति 50 वर्ष, सियाशरण पिता भगवत प्रजापति 31 वर्ष एवं जीता प्रसाद पिता भगवत प्रजापति 26 वर्ष शामिल हैं। पुलिस ने हत्या की वारदात में प्रयुक्त रक्त रंजित कुल्हाड़ी को भी आरोपियों से जप्त कर लिया है।
उल्लेखनीय है कि, जाहर प्रजापति पिता किशोरी प्रजापति 35 वर्ष निवासी ताला ने ठेके पर एक खेत लेकर उसमें बोबनी कराई थी। करीब एक माह पूर्व 23 नवंबर 2019 को जाहर अपनी फसल की रखवाली करने के लिए खेत में बनी झोपड़ी में सोया हुआ था तभी देर रत अज्ञात अपराधियों ने धारदार हथियार से प्रहार कर उसकी जघन्य हत्या कर दी थी। वारदात के समय युवा किसान जाहर प्रजापति रजाई ओढ़कर सोया था। अज्ञात हमलावरों ने धारदार हथियार इतने घातक प्रहार किए थे जिससे रजाई के अंदर जाहर प्रजापति के सिर और दाहिने कान में अत्यंत ही गंभीर चोटें आने से उसकी मौत हो गई थी। इस सनसनीखेज अंधे क़त्ल की सूचना 24 नवंबर को हरि सिंह यादव पिता भगवानदास यादव 55 वर्ष निवासी ताला द्वारा शाहनगर थाना पुलिस को दी गई थी। फरियादी ने पुलिस को बताया था दूसरे दिन प्रात 7:00 बजे घटनास्थल पर उसने तीरथ प्रजापति को खड़ा देखा था, जो बाद में गुपचुप नदी की ओर चला गया था। हत्या की इस वारदात को गंभीरता से लेते हुए शाहनगर थाना पुलिस ने हरि सिंह यादव की रिपोर्ट पर अज्ञात आरोपी के विरुद्ध अपराध क्रमांक 260/19 धारा 302 भादंवि के तहत प्रकरण पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।
खेत में बनी झोपड़ी में सोते समय की गई थी किसान जाहर प्रजापति की जघन्य हत्या। फाइल फोटो
अंधे क़त्ल की चुनौतीपूर्ण वारदात के खुलासे के लिए पन्ना पुलिस अधीक्षक द्वारा एक टीम गठित की गई। संदेह के आधार पर पुलिस ने जब तीरथ प्रजापति पिता धनवा प्रजापति 22 वर्ष निवासी ताला को हिरासत में लेकर कड़ाई से पूंछतांछ की तो उसने अपना जुर्म कबूल कर लिया। इसी आधार पर अन्य हत्यारोपियों भागीरथ पिता घनुआ प्रजापति 37 वर्ष, जगन्नाथ पिता घनुआ प्रजापति 21 वर्ष, भगवत पिता फेरन प्रजापति 50 वर्ष, सियाशरण पिता भगवत प्रजापति 31 वर्ष एवं जीता प्रसाद पिता भगवत प्रजापति 26 वर्ष को शुक्रवार 27 दिसम्बर को गिरफ्तार किया गया। शाहनगर थाना में पदस्थ एसआई ए. पी. सिंह बघेल ने अंधे क़त्ल के खुलासे की जानकारी देते हुए बताया कि पकड़े गए आरोपियों का मृतक जाहर प्रजापति व उसके परिवार से पुराना जमीनी संबंधी विवाद था, जिसकी रंजिश चल रही थी। इसी रंजिश के चलते उक्त आरोपियों ने जाहर प्रजापति के सिर में कुल्हाड़ी से प्रहार कर उसकी हत्या की वारदात को अंजाम दिया था। इस प्रकरण में अपराधियों द्वारा घटना के पूर्व अपराधिक षड़यंत्र करके रात्रि के समय घटना को अंजाम दिया गया साथ ही साक्ष्य छिपाए गए। इसलिए प्रकरण में धारा 201,120 बी, 34 भारतीय दण्ड विधान के तहत धारा बढ़ाई गई है। ताला हत्याकाण्ड के खुलासे में पवई एसडीओपी बी.एस. परिहार, एसआई ए. पी. सिंह बघेल एवं उनकी टीम की सराहनीय भूमिका रही।