मोदीक्रेसी के फेल होने पर कांग्रेसियों ने मंदिर में चढ़ाया प्रसाद

0
653

 

कर्नाटक में भाजपा की सरकार गिरने पर मिठाई बांटकर मनाया जश्न

पन्ना। रडार न्यूज  शनिवार को कर्नाटक में भाजपा की सरकार महज तीन दिन के अंदर गिरने पर पन्ना में कांग्रेसियों ने जश्न मनाते हुए इसे लोकतंत्र की जीत और भाजपा के षड़यंत्र की हार बताया है। कर्नाटक की विधानसभा में चल रहे विश्वास मत के दौरान जैसे ही मुख्यमंत्री बीएस येद्दियुरप्पा द्वारा बहुमत का नहीं होना स्वीकार करते हुये त्याग पत्र देने की घोषणा की गयी। टेलीविजन पर नजरे गढ़ाये कांग्रेस नेताओं के चेहरे खिल उठे और इसके बाद कांगे्रस के नेताओं द्वारा अपनी खुशियों का इजहार करने के लिये पन्ना शहर स्थित किशोर जी मंदिर के पास पहुंचने के लिये एक-दूसरे को सूचना दी गयी। जहां पर खुशियों का इजहार करते हुये कांग्रेस पार्टी के नेताओं एवं कार्यकर्ताओं द्वारा मिठाई खिलाकर और आतिशबाजी करते हुये कर्नाटक में भाजपा और राज्यपाल द्वारा रचे गये नाटक के पटाक्षेप पर खुशी जाहिर की है। इस मौके पर युवक कांग्रेस के विधानसभा अध्यक्ष दीपक तिवारी ने कहा कि भाजपा सत्ता के दबाव और धनबल के बाद भी सरकार नहीं बचा सकी, जिस तरह की खरीद फरोख्त और प्रलोभन दिये गये वह सभी असफल रहे। कुछ घंटे पहले तक 101 प्रतिशत जीत का दावा करने वाले भाजपा नेताओं के जब सारे हथकण्डे फेल हो गये तो बैकफुट पर आते ढ़ाई दिन के सीएम बीएस येद्दियुरप्पा को आखिरकार मजबूर होकर इस्तीफा देना पड़ा। येद्दियुरप्पा का इस्तीफा लोकतांत्रिक मूल्यों और बहुमत वाले गठबंधन की जीत है। इस घटनाक्रम से आज देश की जनता में यह संदेश गया है कि अनैतिक तरीके से सत्ता नहीं बचायी जा सकती है। कर्नाटक में भाजपा की हार पर जश्न मनाने वालों में जिला पूर्व युवक कांग्रेस अध्यक्ष शिवजीत सिंह, शारदा पाठक, शशिकांत दीक्षित, बीएन जोशी, मनीष मिश्रा, मनोज सेन, वैभव थापक, स्वतंत्र अवस्थी, जीतू दीक्षित, चंदन रावत, डमरूलाल सेन, शहीद चच्चा, राजेन्द्र कुमार मिश्रा, अज्जू गर्ग, विमलेश सेन, हीरालाल विश्वकर्मा, अमित शर्मा, लोकेन्द्र यादव, मनीष कुशवाहा, पुनीत तिवारी, अक्षय तिवारी, प्रकाश मिश्रा, विनयकांत पाण्डेय, लोकेन्द्र सिंह, हर्ष राजा, भूपेन्द्र अहिरवार, बाबा गौतम, शाहबाज शालू खान, लक्ष्मी सेन सहित काफी लोग शामिल थे। कांग्रेसियों के जश्न मनाये जाने के बाद पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष ने भगवान जुगल किशोर के पट खुलते ही प्रसाद चढ़ाया एवं भक्तों के बीच में वितरित किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here