प्रदेश में चल रही है ‘खाऊंगा और खाने दूंगा‘ की नीति-अजय सिंह

0
569

ई-टेंडरिंग घोटाले की सीबीआई जांच कराने पीएम को लिखा पत्र

भोपाल। मध्यप्रदेश में हाल ही में हुए ई-टेेंडरिंग घोटाले की ईओडब्ल्यू जांच कर रहा है, लेकिन विपक्ष लगातार इस मामले की सीबीआई जांच पर अड़ा हुआ है। इस घोटाले को लेकर विपक्ष लगातार सरकार पर हमले बोल रहा है। वहीं इस घोटाले की निष्पक्ष जांच के लिए प्रदेश के नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र भी लिखा है। उन्हाेेंने पत्र के माध्यम से लिखा है कि वे ई-टेंडरिंग घोटाले की निष्पक्ष जांच के लिए सख्त कदम उठाएं, क्योंकि शिवराज सरकार इस घोटाले का सच छुपाने की साजिश में लग गई है। प्रदेश में जहां आपकी मंशा के विपरीत डिजिटल इंडिया को इस घोटाले से आघात पहुंचाया है, वहीं आपकी नीति के उलट पूरे देश में ‘खाऊंगा और खाने दूगा’ का वातावरण बनाया गया है।

नेता प्रतिपक्ष ने पीएम को लिखा पत्र-

उन्हाेेंने लिखा है कि आपने देश की जनता से वायदा किया था न ‘खाऊंगा और न खाने दूंगा’ लेकिन मप्र में आपकी भावना के विपरीत ‘खाऊंगा और खाने दूंगा’ की नीति पर अमल हो रहा है। नेता प्रतिपक्ष ने प्रधानमंत्री से मांग की कि वे मप्र में हो रहे व्यापक पैमाने पर भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाएं और ई- टेंडरिंग घोटाले की जांच निष्पक्षता से करवाएं, ताकि डिजिटल इंडिया पर लोगों का भरोसा कायम रहे। जो आपका उद्देश्य भी है। उन्हाेेंने आगे लिखा कि आपने पूरे देश के लोगों से डिजिटल इंडिया बनाने में सहयोग देने की पहल की, लेकिन मप्र में ई-टेंडरिंग घोटाले कर इसे बदनाम किया गया है। ई-टेंडरिंग घोटाले का खुलासा लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के 1000 करोड़ के तीन टेंडरों में की गई टेम्परिंग से हुआ है। तीन टेंडराेें में से दो टेंडर वह भी शामिल है, जिसका शिलान्यास आप 23 जून को राजगढ़ जिले में करने वाले है। इस टेम्परिंग के खुलासे से 2014 में हुए तीन लाख करोड़ के टेंडर संदेह के घेरे में है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here