पन्ना विधानसभा : कुड़रा ग्राम में “मतदान का सामूहिक बहिष्कार” | सड़क निर्माण न होने से नाराज हैं ग्रामीण

0
1240
पहुंच विहीन दुर्गम वन ग्राम कुड़रा का मतदान केंद्र ।

* कलेक्टर से सड़क निर्माण का आश्वासन चाहते हैं स्थानीय लोग

* पहुंच विहीन दुर्गम ग्राम से स्वास्थय केंद्र तक पहुंचने से पहले थम जाती हैं सांसें

पन्ना। रडार न्यूज    सड़क निर्माण को लेकर प्रशासन की और से समय रहते कोई ठोस आश्वासन न मिलने की स्थिति कुड़रा ग्राम के वाशिंदों ने अपनी पूर्व घोषणा के अनुसार विधानसभा चुनाव-2018 के मतदान का सामूहिक रूप से बहिष्कार कर दिया। पन्ना विधानसभा क्षेत्र क्रमांक-60 के अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत धरमपुर के ग्राम कुड़रा में बुधवार 28 नवंबर को सुबह 10 :25 बजे तक सिर्फ 2 वोट पड़े थे। दरअसल, सुबह 8 बजे वोटिंग शुरू होने के साथ ही कुड़रा से मतदान के सामूहिक रूप से बहिष्कार की खबर आने पर हरकत में आये प्रशासन ने अपनी किरकिरी को रोकने के लिए विशेष प्रयास करते हुए सबसे पहले स्थानीय आंगनवाडी कार्यकर्ता-सहायिका से मतदान कराया। इसके पश्चात् अन्य गांव में ही तैनात अन्य कर्मचारियों तथा मध्यान्ह भोजन व्यवस्था से जुड़े समूह की महिलाओं आदि को प्रेरित कर मतदान कराया गया। समूचे गांव के मतदान के बहिष्कार में शामिल होने के कारण मतदान करने वाले कर्मचारी काफी तनाव-दबाद और उलझन में नजर आये। लोकतंत्र के इस उत्सव में सक्रिय भागीदारी निभाने का उल्लास इनके चेहरों पर नजर नहीं आया। इस तरह दोपहर 3 बजे तक कुड़रा में सिर्फ 10 वोट ही पड़े थे। पन्ना जिले की जनपद पंचायत अजयगढ़ अंतर्गत आने वाला कुड़रा ग्राम बारहमासी आवागम सुविधा वाली एक अदद सड़क के आभाव में आज भी पहुंच विहीन दुर्गम ग्राम बना हुआ है। यहां हर साल कई बीमार लोग, गर्भवती महिलायें और उनके नवजात शिशु समय पर धरमपुर स्थित प्राथमिक स्वास्थय केंद्र तक न पहुंच पाने के कारण असमय काल कवलित हो जाते। सड़क न होने से इस गांव के जवान युवक-युवतियों का विवाह भी नहीं हो पा रहा है। धरमपुर से करीब 8 किलोमीटर की दूरी पर स्थित कुड़रा ग्राम के पहुंच मार्ग निर्माण की सबसे बड़ी बाधा करीब 3 किलोमीटर का रास्ता वन क्षेत्र के अंतर्गत आना है। वन विभाग की आपत्तियों के चलते यहां सड़क निर्माण नहीं हो पा रहा है। कुड़रा के ग्रामीणों ने यह शर्त रखी है यदि कलेक्टर की ओर से सड़क निर्माण का लिखित आश्वासन मिलता है तो वे मतदान करेंगे।
इनका कहना है-
“कुड़रा के ग्रामीणों की समस्या वाकई गंभीर है, यहां की स्थिति और इनकी मांग के संबंध में जिला निर्वाचन अधिकारी को अवगत कराया गया है। सड़क निर्माण का आश्वासन मिलने पर ग्रामीण मतदान करने की बात कह रहे हैं।”

आर.पी. सिंह, सेक्टर मजिस्ट्रेट