पाठशाला में रूकवाई बारात, हैडमास्टर को मिला नोटिस

0
766

अजयगढ़। रडार न्यूज शैक्षणिक सत्र के दौरान स्कूल भवन एवं परिसर को किसी भी कार्यक्रम के आयोजन हेतु देना प्रतिबंधित है। बावजूद इसके कतिपय शिक्षक निहित स्वार्थों के चलते वरिष्ठ अधिकारियों के आदेश की अवहेलना कर रहे हैं। पन्ना जिले की अजयगढ तहसील क्षेत्र के ग्राम सब्दुआ के शाला भवन में पिछले माह एक बारात ठहराने पर परियोजना समन्वयक जिला शिक्षा केन्द्र विष्णु त्रिपाठी ने संबंधित शालाओं को प्रधानाध्यापकों एवं जन शिक्षक सहित तीन लोगों को नोटिस जारी किये हैं। उल्लेखनीय है कि सब्दुआ ग्राम में शासकीय प्राथमिक एवं माध्यमिक शाला एक ही भवन एवं परिसर में संचालित है. लेकिन उक्त भवन को अक्सर बारातों के लिये आरक्षित कर दिया जाता है। जिससे बच्चों की कक्षाएं बाहर खुले आसमान के नीचे लगाने के अवाला कोई विकल्प नहीं होता। स्थानीय लोगों ने इसकी इस पर कई बार कड़ी आपत्ति जताई और शिकायत भी की गई, लेकिन जिम्मेदारों ने ध्यान नहीं दिया। बार-बार शिकायत मिलने पर 25 अप्रैल को बीआरसी अजयगढ़ ने शाला का निरीक्षण किया तो यह स्पष्ट हो गया कि शाला में बारात रूकती है और कक्षाएं बाहर लगती है। बीआरसी ने डीपीसी पन्ना को इस संबंध में सूचित किया और डीपीसी ने 2 मई को जन शिक्षा केन्द्र प्रभारी श्रीमति मधुरिमा राय सहित प्रधानाध्यापक प्राथमिक शाला नत्थू सिंह गौड एवं प्रधानाध्यापक माध्यमिक शाला मथुरा प्रसाद अहिरवार को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। नोटिस में स्पष्ट तौर पर कहा गया कि मध्यप्रदेश स्कूल शिक्षा विभाग के निर्देशानुसर शैक्षणिक सत्र के दौरान शासकीय विद्यालयों के प्रांगण में वैवाहिक अथवा अन्य समारोह के लिये आयोजन की अनुमति नहीं है। इसके बाद भी सब्दुआ विद्यालय को वैवाहिक कार्यक्रम के लिये परिसर एवं बरामदे को दिया गया। शिक्षकों की इस मनमानी को डीपीसी ने सिविल सेवा आचरण नियम का उल्लंघन मानते हुए कार्यवाही संबंधितों से तीन दिवस के अंदर नोटिस का जबाव मांगा है। समय पर संतोषजनक जबाव नहीं देने की स्थिति में एक पक्षीय कार्रवाई करने की चेतावनी दी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here