मध्यप्रदेश | 28 विधायकों ने ली मंत्री पद की शपथ, इनमें 1 निर्दलीय और 2 महिलाएं शामिल

0
1211

* मालवा-निमाड़ अंचल से सर्वाधिक 8 विधायक बने मंत्री

* बुंदेलखंड से गोविंद सिंह राजपूत और बृजेन्द्र सिंह को मिला मौका

* मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रदेश के दिग्गज नेताओं से चर्चा कर तय किये नाम

भोपाल। रडार न्यूज    मध्यप्रदेश में कमलनाथ सरकार के मंत्रिमंडल का मंगलवार 24 दिसम्बर को शपथ ग्रहण समारोह पूर्वक संपन्न हुआ। राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल द्वारा प्रदेश के 28 विधायकों को मंत्री पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई गई। मंत्री बनने वालों में निर्दलीय विधायक प्रदीप जायसवाल, दाे महिला नेत्रियाँ विजयलक्ष्मी साधौ व इमरती देवी और एक मुस्लिम- आरिफ अकील शामिल हैं। मुख्यमंत्री कमलनाथ के मंत्रिमंडल में 15 विधायक ऐसे हैं, जोकि पहली बार मंत्री बने हैं। कांग्रेस से पहली बार विधायक बने 55 नए चेहरों में से किसी को भी मंत्रिमंडल में जगह नहीं दी गई। उल्लेखनीय है कि मध्यप्रदेश की कांग्रेस सरकार को समर्थन दे रहे बसपा और सपा के विधायकों को मंत्रिमंडल स्थान नहीं मिला है। हालाँकि, मंत्री पद के लिए इनकी ओर से काफी दबाब बनाया गया था। राजभवन में आज आयोजित हुए मंत्रिमंडल के शपथ ग्रहण समारोह में मुख्यमंत्री कमलनाथ, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया उपस्थित रहे। राज्यपाल ने नवनियुक्त मंत्रियों को शपथ लेने के बाद बधाई एवं शुभकामनाएं दीं। शपथ ग्रहण कार्यक्रम का संचालन मुख्य सचिव बी.पी. सिंह ने किया।

इन्होंने ली मंत्री पद की शपथ

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के विधायक पुत्र जयवर्धन सिंह मंत्री पद की शपथ लेते हुए।
मंत्री पद की शपथ लेने वालों में सज्जन सिंह वर्मा, हुकुम सिंह कराड़ा, विजयलक्ष्मी साधौ, गोविंद सिंह, बाला बच्चन, आरिफ अकील, बृजेंद्र सिंह राठौर, प्रदीप जायसवाल (निर्दलीय), लाखन सिंह यादव, तुलसी सिलावट, गोविंद सिंह राजपूत, इमरती देवी, ओमकार सिंह मरकाम, डॉ. प्रभुराम चौधरी, प्रियव्रत सिंह, सुखदेव पांसे, उमंग सिंघार, हर्ष यादव, जयवर्धन सिंह, जीतू पटवारी, कमलेश्वर पटेल, लखन घनघोरिया, महेंद्र सिंह सिसोदिया, पीसी शर्मा, प्रद्युम्न सिंह तोमर, सचिन सुभाष यादव, तरुण भनोत व सुरेन्द्र सिंह बघेल शामिल हैं।

दिल्ली में बनीं सहमति

कांग्रेस सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री कमलनाथ के मंत्रीमंडल का स्वरुप दिल्ली में कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गाँधी की सहमति से फाइनल हुआ। दिल्ली में राहुल गाँधी ने इस संबंध में मुख्यमंत्री कमलनाथ समेत मध्यप्रदेश के दिग्गज नेताओं के साथ बैठक की थी, जिसमें सभी से खुलकर चर्चा उपरांत 28 नामों को स्वीकृति दी गई थी।

विधानसभा सत्र 7 जनवरी से

जानकारी अनुसार मध्यप्रदेश विधानसभा का सत्र 7 जनवरी से शुरू हो रहा है, जिसमें सभी विधायकों को प्रोटेम स्पीकर शपथ दिलाएंगे, जो कि सदन का वरिष्ठ नेता होता है। इस पद के लिए अभी भाजपा से गोपाल भार्गव का नाम आगे है। यह सत्र 11 जनवरी तक चलेगा।