Homeबुंदेलखण्डजीवन भर सटीक भविष्यवाणी करते रहे, निधन के पूर्व बताया "संसार से...

जीवन भर सटीक भविष्यवाणी करते रहे, निधन के पूर्व बताया “संसार से विदा लेने का समय आ गया”

* प्रख्यात ज्योतिषाचार्य पण्डित आयोध्या प्रसाद गौतम का निधन

* गृह ग्राम श्यामरडांड़ा में मंगलवार को होगा अंतिम संस्कार

* पन्ना सहित आसपास के जिलों में शोक की लहर

* सटीक भविष्यवाणी करने के लिये जाने जाते थे श्री गौतम

पन्ना।(www.radarnews.in) प्रख्यात ज्योतिषाचार्य एवं हस्तरेखाविद् पण्डित आयोध्या प्रसाद गौतम का सोमवार शाम को राजधानी भोपाल के एक निजी अस्पताल में इलाज के दौरान निधन हो गया। वे 85 वर्ष के थे और पिछले कुछ समय से बीमार चल रहे थे। श्री गौतम के निधन का दुःखद समाचार आते ही पन्ना सहित आस-पास के जिलों में शोक की लहर दौड़ गई। वे अपने पीछे भरा पूरा परिवार और हजारों शिष्यों को रोता बिलखता हुआ छोड़ गए। पारीवारिक सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार उनका अंतिम संस्कार पन्ना जिले में स्थित गृह ग्राम श्यामरडांड़ा में मंगलवार 25 जून को प्रातः 11 बजे विधि विधान के साथ किया जाएगा। सोमवार शाम को ही उनकी पार्थिव देह को लेकर परिजन भोपाल से पन्ना के लिए रवाना हो चुके थे। उधर, शोक वयक्त करने के लिए लोगों के श्यामरडांड़ा स्थित उनके घर पर पहुँचने का सिलसिला जारी है। अंतिम यात्रा में दूर-दूर से बड़ी तादाद में लोगों के पहुँचने की संभावना जताई जा रही है।
अपनी सटीक भविष्यवाणियों के लिए विख्यात प्रकाण्ड विद्वान पण्डित आयोध्या प्रसाद गौतम ने अपने जीवनकाल में सैंकड़ों भविष्यवाणियां की है जोकि अक्षरशः सच साबित हो चुकी है। उन्होंने कई राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर ज्योतिष शास्त्र, सनातन धर्म, भारतीय सभ्यता, संस्कृति पर कई प्रभावी व्याख्यान देकर देश के गौरव को बढ़ाया है। बहुआयामी व्यक्तित्व के धनी पण्डित आयोध्या प्रसाद गौतम की ख्याति कई देशों में रही है। जापान के वैज्ञानिक, प्रोफेसर सहित अनेक देशों में इनके शिष्य है। मध्यप्रदेश और देश के विभिन्न दलों के राजनेता, न्यायधीश, बड़े अधिकारी और मीडिया जगत के लोग भी इनके शिष्यों में शामिल है। श्री गौतम कई पंचांगों और कैलेण्डर का लेखन करते थे।
सिद्धांतों पर अटल रहने वाले पण्डित श्री गौतम ने अपने ज्ञान और प्रतिभा का कभी भी व्यवसायिक उपयोग नहीं किया। उन्होंने अपने निधन से कुछ दिन पूर्व ही इसकी जानकारी परिजनों व करीबियों को दे दी थी। कई लोगों से आपने स्वयं ही कहा था कि इस संसार से मेरे विदा लेने का अब समय आ गया है। सर्वधर्म समभाव के पैरोकार, मानवतावादी, विनम्र और मृदुभाषी स्वाभाव के धनी श्री गौतम के निधन को पन्ना जिला सहित समूचे प्रदेश और देश के लिये अपूर्णीय क्षति बताया जा रहा है। उनके निधन पर राजनेताओं, जनप्रतिनिधियों, परचितों और और पत्रकारों ने गहरा शोक व्यक्त किया है।
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments