शपथ ग्रहण : कमलनाथ बने मध्यप्रदेश के 18वें मुख्यमंत्री, कर्जमाफी की फाइल पर दस्तखत कर किसानों से किया वादा निभाया

0
1001
राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने कमलनाथ को मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई।

* राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई

* शपथ ग्रहण सामरोह में शिवराज सहित चार पूर्व मुख्यमंत्री रहे मंचासीन

* राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत और डिप्टी सीएम सचिन पायलट भी पहुंचे

* महागठबंधन की दिखी ताकत कई दलों के दिग्गज नेता शपथ ग्रहण में हुए शामिल

भोपाल। रडार न्यूज   राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने सोमवार को कांग्रेस विधायक दल के नेता कमलनाथ को मध्यप्रदेश के 18वें मुख्यमंत्री पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। इस अवसर कई दलों के दिग्गज नेता उपास्थित थे। शपथ ग्रहण सामरोह में कांग्रेस के अलावा 10 दलों के नेताओं की मौजूदगी को महागठबंधन की ताकत के रूप में देखा जा रहा है। भोपाल के जंबूरी मैदान में हुए शपथ ग्रहण समारोह में मध्यप्रदेश के चार पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, बाबूलाल गौर, दिग्विजय सिंह व कैलाश जोशी भी मंचासीन रहे।
कमलनाथ ने मुख्यमंत्री बनने के बाद सबसे पहले किसानों की कर्जमाफ़ी की फाइल पर दस्तखत किये। कांग्रेस पार्टी ने विधानसभा चुनाव में अपने वचन-पत्र में किसानों का 2 लाख रुपये तक का अल्पकालीन फसल ऋण (कर्ज) माफ़ करने का वादा किया था। जिसे आज मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सर्वोच्च प्राथमिकता के साथ पूरा कर दिया। इसका लाभ प्रदेश के लगभग 34 लाख किसानों को मिलने का अनुमान है। कर्जमाफी करने से राज्य सरकार के खजाने पर 35 से 38 हजार करोड़ का भार आ सकता है।

अब विवाह योजना में मिलेंगे 51 हजार

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मंत्रालय में मुख्यमंत्री पद का कार्यभार ग्रहण किया एवं किसानों के कर्ज माफी की फाइल पर दस्तखत किये।
मुख्यमंत्री बनने के बाद कमलनाथ ने अपनी पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस में बड़ी ही साफगोई से अपने अंतर्मन की बात पत्रकारों से साझा की। उन्होंने बताया कि हमने किसानों का कर्ज माफ कर दिया है। बेटियों के विवाह की योजना की सहयोग राशि को 28 हजार से बढ़ाकर 51 हजार कर दिया गया है। अपनी भावी योजनाओं पर प्रकाश डालते हुए मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि प्रदेश में हम चार गारमेंट पार्क बनाएंगे। आमजनता को स्वास्थ्य, शिक्षा और रोजगार कैसे दें, हमें इस पर तेजी से काम करना है। वर्तमान में कई योजनाएं ऐसी हैं, जिनका डिलिवरी सिस्टम काफी खराब है जिससे लोगों को लाभ नहीं मिल पा रहा है। उन्होंने एक सवाल के जबाब में कहा कि सीएम बनने की खुशी है लेकिन पहले दिन से ही बहुत काम है। मैं बेचैन और चिंतित हूँ कि हम किस तरह से मध्यप्रदेश के लोगों की आशाओं पर खरा उतरेंगे।

जब कमलनाथ-सिंधिया ने उठाया शिवराज का हाथ

शपथ शपथ ग्रहण समारोह से पूर्व उस समय एक अलग ही नजारा देखने को मिला जब कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया ने शिवराज सिंह का हाथ थामते हुए ऊपर उठाकर एकजुटता का प्रदर्शन किया। वहीं शिवराज सिंह और दिग्विजय सिंह ने कैलाश जोशी के पैर छुए। इसके अलावा शिवराज ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी प्रमुख शरद पवार व नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला से हाथ मिलाया।

इनकी रही उपस्थिति

शपथ ग्रहण समारोह में देश के विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्री, पूर्व प्रधानमंत्री सहित विभिन्न राजनैतिक दलों के वरिष्ठ नेतागण उपस्थित थे।
शपथ ग्रहण समारोह में कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह एवं एच.डी. देवगौड़ा, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गेहलोत एवं उप मुख्यमंत्री सचिन पायलेट, आन्ध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चन्द्रबाबू नायडू, कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच.डी. कुमार स्वामी, पुडुचेरी के मुख्यमंत्री नारायण सामी, लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, आनंद शर्मा, सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया, शरद पवार, शरद यादव, फारूख अब्दुल्ला, प्रफुल्ल पटेल, तेजस्वी यादव, बाबूलाल मरांडी, पंजाब राज्य के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू शामिल हुए। इस मौके पर बड़ी संख्या में कांग्रेस के सांसद, विधायक, गणमान्य नागरिक, प्रदेश भर से कांग्रेस के कार्यकर्ता उपस्थित थे। शपथ ग्रहण कार्यक्रम का संचालन मुख्य सचिव बसंत प्रताप सिंह ने किया।