क्राइम | पन्ना की सुनहरा रेत खदान में विवाद, फायरिंग और लूटपाट से इलाके में फैली दहशत

0
1718
विवाद के बाद सुनहरा रेत खदान में कार्यवाही करती अजयगढ़ थाना की पुलिस टीम।

* भाजपा नेता के हाइवा में रेत की लोडिंग को लेकर हुआ था विवाद

* रेत खदान के मैनेजर और गुर्गों ने की फायरिंग, अजयगढ़ थाना में रिपोर्ट दर्ज

* कांग्रेस नेता के भतीजे और साथियों पर लूटपाट, तोड़फोड़ और मारपीट का आरोप

अजयगढ़ (पन्ना)। रडार न्यूज  मध्यप्रदेश के पन्ना जिले में सक्रिय माफियाओं ने रेत की लूट के लिए अजयगढ़ विकासखण्ड की रेत खदानों को खूनी संघर्ष का मैदान बना दिया है। परिणामस्वरुप खदान क्षेत्रों गोलीबारी, लूटपाट और मारपीट जैसी संगीन वारदातें आम हो चुकीं हैं। यहाँ तेजी से बेकाबू होते हालात का अंदाजा इसी बात से लगाया जा है कि रेत खदानों में माफियाओं की मर्जी के बगैर आमआदमी तो क्या प्रशासनिक अधिकारी तक वहाँ नहीं जा सकते है। अजयगढ़ में केन नदी पर संचालित वैध और अवैध रेत खदानों के चलते कई किलोमीटर का इलाका अघोषित तौर पर प्रवेश से प्रतिबंधित क्षेत्र में तब्दील हो चुका है। शनिवार 5 जनवरी को यहाँ शिवा काॅर्पोरेशन द्वारा संचालित सुनहरा रेत खदान में तीन पक्षों के बीच जमकर विवाद होने की खबर है। जिसमें फायरिंग, लूटपाट, मारपीट, तोड़फोड़ होने की बात सामने आई है। रेत की खुलेआम लूट के लिए बदनाम अजयगढ़ की खदानें इस घमासान के बाद एक बार फिर सुर्खियों में हैं।

केन नदी से पानी के अंदर से रेत के खनन व लोडिंग में उपयोग होने वाली जब्तशुदा जेसीबी मशीन।
प्राप्त जानकारी अनुसार भारतीय जनता पार्टी पन्ना के पूर्व जिलाध्यक्ष जयप्रकश चतुर्वेदी के हाइवा क्रमांक- MP-35-HA-0385 को लेकर चालक भूरा यादव निवासी पन्ना और क्लीनर अंगद कोंदर 21 निवासी विश्रामगंज रेत लेने के लिए सुनहरा खदान के कैम्प गए थे। कैम्प में कई वाहन पूर्व से टोकन के लिए नंबर लगाए हुए खड़े थे, चालक भूरा यादव के कहने पर रेत खदान के कर्मचारी भजन ने उसे नवाब खां उर्फ प्यारे पहले टोकन दे दिया, जिससे मौके पर तनावपूर्ण स्थिति निर्मित हो गई। इस बीच चालक भूरा यादव हाइवा को लेकर रेत लोड करने के लिए रात 11 बजे सुनहरा खदान पर पहुँचा जहाँ एलएनटी मशीन रेत भरने लगी, तभी वहाँ आये सल्लू पाण्डेय, उज्जवल पाण्डेय, महेन्द्र मिश्रा, नवीन मिश्रा व चार-पाँच लोगों द्वारा चालक भूरा यादव के साथ गालीं-गलौंज करते हुए मारपीट करने लगे। अपनी जान बचाने के लिए भूरा यादव ने नदी में छंलाग लगा दी और क्लीनर अंगद कोंदर भागकर कैम्प की ओर चला गया।
सुरक्षा के दृष्टि से सुनहरा रेत खदान के कैम्प में तैनात पुलिस जवान।
उधर, सुनहरा रेत खदान के मैनेजर सरदार जसपाल सिंह राणा मौके पर पहुंचे तो नवाब खां सहित अन्य वाहनों के चालकों द्वारा हाइवा को बगैर नम्बर लगाये टोकन दिये जाने पर कड़ी आपत्ती जताई गई। इसी बात को लेकर दोनों पक्षों के बीच विवाद बढ़ने पर मैनेजर जससपाल सिंह और उसके सुरक्षा गार्ड अशोक सिंह द्वारा नवाब खां व उसके साथी चालक नीरज पाठक के ऊपर फायरिंग की गई जिसमें वे दोनों बाल-बाल बच गये। इस घटना से नाराज अन्य वाहनों के चालक इकठ्ठा होने लगे जिसे देख जसपाल सिंह राणा, सुरक्षा गार्ड अशोक सिंह व उनके अन्य साथी मौके से भाग निकले। मालूम होकि उज्जवल पाण्डेय जनपद पंचायत अजयगढ़ के अध्यक्ष एवं कांग्रेस नेता भरत मिलन पाण्डेय के भतीजे हैं।

कैम्प में तोड़फोड़ कर की गई लूटपाट

विवाद के चलते क्षतिग्रस्त की गई बोलेरो जीप।
सुनहरा रेत खदान के कैशियर भजन लाल शर्मा का आरोप है कि रात्रि में उनके कैम्प में गाड़ी लेकर आये उज्जवल पाण्डेय, सल्लू पाण्डेय, महेन्द्र मिश्रा, नवीन मिश्रा व साथियों द्वारा उनकी बोलेरो जीप, सोलर लाईट में तोड़फोड़ की गई। साथ ही उनके व सत्येन्द्र तोमर के साथ मारपीट करते हुए उक्त सभी लोग 2 लाख 26 हजार 250 रूपये लूटकर ले गये। इस विवाद की सूचना मिलने पर देर रात दलबल के साथ मौके पर पहुंचे अजयगढ़ एसडीओपी इसरार मंसूरी, थाना प्रभारी बीएस परमार, चौकी प्रभारी बीरा बालेश सिंह ने नदी के अंदर से रेत के खनन व लोडिंग के लिए खडी एक एलएनटी, एक जेसीबी मशीन व एक डम्फर को जब्त किया है। घटनास्थल से चले हुए कारतूस के खाली खोखे भी मिले है।
सुरक्षा की दृष्टि से देर रात से ही सुनहरा खदान व कैम्प में पुलिस बल तैनात किया गया है। इस मामले में अजयगढ़ थाना पुलिस ने चालक नवाब खां निवासी ग्राम सिंहपुर की रिपोर्ट पर वीरेन्द्र सिंह रावत, भजन, सरदार जसपाल सिंह राणा, सुरक्षा गार्ड अशोक सिंह के विरूद्ध धारा 336, 294, 34 आईपीसी के तहत् प्रकरण पंजीबद्ध किया है। जबकि सुनहरा रेत खदान के कैशियर भजन लाल शर्मा द्वारा लूटपाट व मारपीट किये जाने के संबंध में थाने में दिये गये आवेदन पत्र को पुलिस ने जांच में लिया है।

लापता है हाइवा का चालक

अजयगढ़ थाना पुलिस द्वारा जब्त किया गया भाजपा नेता का हाइवा।
भारतीय जनता पार्टी पन्ना के पूर्व जिलाध्यक्ष जयप्रकश चतुर्वेदी के हाइवा के क्लीनर अंगद कोंदर द्वारा रविवार को पुलिस थाना अजयगढ़ में एक लिखित शिकायत प्रस्तुत की गई। जिसमें यह कहा गया है कि शनिवार 5 जनवरी की रात्रि सुनहरा रेत खदान में हुई मारपीट की घटना के दौरान केन नदी में छलांग लगाने वाले हाइवा चालक भूरा यादव निवासी पन्ना का अब तक कोई सुराग नहीं लगा है। उसके घर में परिजनों से बात करने पर पता चला कि वह अब तक अपने घर भी नहीं पहुंचा है। क्लीनर के इस खुलासे के बाद से हाइवा चालक भूरा यादव के नदी में डूबने की आशंका जताई जा रही है। फिलहाल, अजयगढ़ थाना पुलिस ने अंगद की रिपोर्ट पर 5-6 अज्ञात व्यक्तियों के विरूद्ध धारा 147, 294, 323, 506 आईपीसी के तहत प्रकरण पंजीबद्ध किया गया है। वहीं पुलिस द्वारा लापता हाइवा चालक की खोजबीन की जा रही है।

पहले भी हो चुकीं हैं कई घटनायें

विवाद की जानकारी लेने बीरा चैकी अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक।
अजयगढ़ की रेत खदानों में पहले भी कई संगीन वारदातें हो चुकीं है। कुछ समय पूर्व मोहाना रेत खदान का कवरेज करने गये पन्ना के पत्रकारों ने जब वहां नदी में चल रही एलएनटी मशीन को अपने कैमरे में कैद करने की कोशिश की तो मौके पर तैनात अपराधिक तत्वों ने उनका मोबाईल छीन लिया था। इसके पूर्व मोहाना खदान में ही तत्कालीन अजयगढ़ तहसीलदार को बंधक बनाकर सतना निवासी रूचिर जैन और उनके साथियों द्वारा मारपीट की गई थी। मध्यप्रदेश-उत्तर प्रदेश की अंतर्राज्जीय सीमा के समीप स्थित चांदीपाठी रेत खदान क्षेत्र में कुछ वर्ष पूर्व केन नदी पर बनाये गये अवैध पुल को तोड़ने की कार्यवाही के दौरान तत्कालीन एसडीएम नाथूराम गौंड़ और एसडीओपी जगन्नाथ सिंह मरकाम के ऊपर रेत माफियाओं द्वारा फायरिंग की गई थी। वहीं अवैध रेत परिवहन करते हुए पकड़े गये ट्रकों को रेत माफिया चंदौरा चौकी पुलिस की अभिरक्षा से लेकर उत्तर प्रदेश भाग निकले थे। इसके अलावा रेत खदानों में मारपीट की घटनाएं आये दिन होती रहती है।

इनका कहना है-

‘‘सुनहरा रेत खदान व कैम्प में हुए विवाद पर पुलिस थाना अजयगढ़ में नवाब खां एवं अंगद कोंदर की रिपोर्ट पर आपराधिक प्रकरण पंजीबद्ध किया गया है, जबकि खदान के कैशियर भजनलाल शर्मा के आवेदन पत्र की जांच की जा रही है। सुनहरा खदान में रेत खनन के लिए नदी में उतारी गई एक जेसीबी, एक एलएनटी व एक डम्फर को जब्त किया गया है।‘‘

विवेक सिंह, पुलिस अधीक्षक पन्ना।