Homeताजा ख़बरेंक्रिसमस पर्व : जीवन ज्योति और शांति देने जन्मे मानवता के रक्षक...

क्रिसमस पर्व : जीवन ज्योति और शांति देने जन्मे मानवता के रक्षक “प्रभु यीशु”, मसीही समाज के लोगों ने मनाई खुशियाँ

* क्रिसमस पर्व के उपलक्ष्य पर गिरजाघरों में हुई विशेष प्रार्थना

* हाथ मिलाकर और केक खिलाकर दी क्रिसमस की शुभकामनाएं

ईश्वर के अगाध प्रेम एवं मानवता का सन्देश देने वाला पर्व क्रिसमस शहर के दोनों चर्च में मध्य रात्रि परम्परा अनुसार धूमधाम के साथ मनाया गया। बुधवार रात्रि 12 बजे जब चर्च में बनी चरनी में प्रभु के पुत्र यीशु मसीह (जीसस क्राइस्ट) का जन्म हुआ तो  वहाँ मौजूद रहे मसीही समाज के लोग धन्यता का अनुभव करते हुए ख़ुशी से झूम उठे।
सतरंगी रोशनी से जगमगाता हुआ पन्ना का इवैंजलिकल चर्च।
शादिक खान, पन्ना। (www.radarnews.in) शहर के मसीही समाज द्वारा प्रभु यीशु के जन्मोत्सव क्रिसमस पर्व की तैयारी पिछले तीन सप्ताह से की जा रहीं थी। मंगलवार 24 दिसम्बर की शाम से ही शहर के संत जोसफ चर्च और इवेन्जाॅलिकल चर्च में मसीही समाज के लोग ईश्वर के पुत्र के जन्मोत्सव की खुशियां मनाने के लिए जुटने लगे थे। दोनों ही चर्च में प्रभु के भक्तों ने पूरे श्रृद्धाभाव से कैरोल सिंगिंग करके माहौल खुशनुमा बना दिया। प्रभु के जन्मोत्सव की खुशियों को लेकर भक्तों का उत्साह देखते ही बनता था। कड़ाके की सर्दी-शीट लहर के बावजूद इनका उत्साह तनिक भी कम नहीं हुआ, बल्कि प्रभु यीशु के जन्म की घड़ी जैसे-जैसे नजदीक आ रही थी, भक्तों का उत्साह भी उसी गति से बढ़ रहा था।
पन्ना के संत जोसेफ कैथोलिक चर्च के अंदर का दृश्य।
संत जोसेफ चर्च और सिविल लाईन काॅलोनी में स्थित इवैंजाॅलिकल चर्च में विशेष रूप से बनाई गई चरनी में मध्य रात्रि में ईश्वर के इकलौते पुत्र प्रभु यीशु ने जब जन्म लिया तो उनकी एक झलक पाने श्रृद्धालु उमड़ पड़े। इस आपार उत्सव के उपलक्ष्य में अपनी खुशी व्यक्त करते हुए भक्तों ने रंग-बिरंगी आतिशबाजी की। गिरजाघर मोमबत्तियाँ जलाईं साथ ही एक-दूसरे को केक खिलाकर और हाथ मिलाकर मेरी क्रिसमस कहते हुये क्रिसमस की बधाईयां दी। क्रिसमस की पूर्व संध्या पर इवैंजलिकल चर्च पन्ना में पादरी रेव्ह. सालोमन थापा ने पवित्र बाइबिल का विशेष पाठ कराया गया। इस पावन उपलक्ष्य पर कैथोलिक चर्च में फादर एन्टोनी की अगुवाई में श्रृद्धालुओं द्वारा चर्च परिसर में कैण्डल मार्च भी निकाला गया।

बताया क्रिसमस का महत्व

क्रिसमस की पूर्व संध्या पर इवैंजलिकल चर्च पन्ना में पादरी रेव्ह. सालोमन थापा ने पवित्र बाइबिल का विशेष पाठ कराया।
परमपिता परमेश्वर के पुत्र प्रभु यीशु मसीह के जन्मोत्सव पर संत जोसेफ चर्च में फादर एन्टोनी ने तथा इवेन्जाॅलिकल चर्च में फादर सालोमन थापा द्वारा विशेष प्रार्थना सभा आयोजित की गई । इस अवसर पर उपस्थित श्रृद्धालुओं को क्रिसमस पर्व का महत्व और संदेश बताया गया। फादर एन्टोनी ने कहा कि ईश्वर ने संसार को इतना प्यार किया कि उसने उनके लिए अपने इकलौते पुत्र को अर्पित कर दिया, ताकि जो उनमें विश्वास करता है उनका सर्वनाश न हो बल्कि अनंत जीवन प्राप्त करें। ईश्वर ने मनुष्य बनकर हमारे बीच जन्म लिया जिसको क्रिसमस पर्व के रूप में पूरी दुनिया में मनाया जाता है। ईश्वर ने मनुष्य को अपनी छाया एवं सदृश्य बनाया है। इसलिए हरेक मनुष्य ईश्वर का प्रतिबिंब है।
फादर एन्टोनी।
ईश्वर मनुष्य की महानता की घोषणा करता है, क्रिसमस मानवता का महत्व दर्शाता है। उन्होंने सभी को क्रिसमस की शुभकामनाएं और बधाई देते हुए कहा कि- “सर्वोच्च में ईश्वर की महिमा, पृथ्वी पर मानवों को शांति व शुभ आशा” यही क्रिसमस का संदेश है। फादर एन्टोनी ने कहा कि परमेश्वर के पुत्र जीसस क्राइस्ट के जन्म से दुनिया में शांति और सद्भावना का प्रसार होगा। जो लोग श्रद्धापूर्वक पूरे भक्तिभाव के साथ यीशु को याद करेंगे कष्ट दूर होंगे और उनके जीवन में अवश्य ही शांति आएगी।

विशेष प्रार्थना सभा आज

नगर के सिविल लाइन क्षेत्र में स्थित इवैंजलिकल चर्च ऑफ इण्डिया के तत्वाधान में क्रिसमस के पावन उपलक्ष्य में विशेष प्रार्थना सभा का आयोजन बुधवार 25 दिसम्बर 2019 को प्रातः 9ः30 बजे से किया गया है। ईसीआई चर्च पन्ना के पादरी रेव्ह. सालोमन थापा ने नगर के समस्त नागरिकों एवं मसीही समाज के लोगों से विशेष प्रार्थना सभा में शामिल होने की अपील की है। वहीं ईसीआई चर्च में मंगलवार की शाम को क्रिसमस की पूर्व संध्या पर विशेष प्रार्थना की गई। जिसमेें बड़ी संख्या में मसीही समाज के लोग श्रद्धापूर्वक शामिल हुये।
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments