अंधा क़त्ल | बेरहमी से महिला की हत्या कर लाश को जंगल में जलाया, वन्य जीवों का निवाला बने क्षत-विक्षत भयावह शव को देख डरकर भागे लकड़हारे, मृतिका के साथ बलात्कार होने की आशंका

0
1266
पन्ना जिले के पहाड़ीखेरा क्षेत्र के चहला नाला जंगल में फिर सामने आई वारदात सांकेतिक फोटो।

* पन्ना जिले के पहाड़ीखेरा क्षेत्र के चहला नाला जंगल में फिर सामने आई वारदात

* शव मिलने से इलाके में फैली सनसनी, घटनास्थल पर पहुंचे पुलिस अधिकारी

* महिला की पहचान होने पर आसानी से सुलझ सकती है “ब्लाइंड मर्डर मिस्ट्री”

* अज्ञात कातिल के खिलाफ दर्ज किया हत्या और साक्ष्य छिपाने का मामला

पन्ना। रडार न्यूज  मध्यप्रदेश के पन्ना जिले में बृजपुर थाना की पुलिस चौकी पहाड़ीखेरा अंतर्गत चहला नाला जंगल में रविवार की सुबह एक अज्ञात महिला का अधजला हुआ शव अत्यंत ही क्षत-विक्षत और भयावह स्थिति में मिलने से सनसनी फैल गई। आशंका जताई जा रही है कि महिला के साथ बलात्कार के बाद उसकी बेरहमी हत्या कर शव को चहला नाला जंगल में लाकर सड़क किनारे झाड़ियों की आड़ में जलाया गया है। सूचना पर पहुँची पुलिस और फोरेंसिक टीम ने इस जघन्य वारदात की जाँच शुरू कर दी है। शव की स्थिति को देखकर यह अनुमान लगाया जा रहा है कि हत्या की वारदात को 4-5 दिन पूर्व अंजाम दिया गया। लेकिन, स्थानीय पुलिस को इसका घटना का पता रविवार 13 जनवरी को चला। लाश की अभी तक शिनाख्त (पहचान) नहीं हो पाई है। प्रारंभिक जाँच में सामने आये तथ्यों के आधार पर बृजपुर थाना पुलिस ने इस मामले में अज्ञात कातिल के खिलाफ हत्या और साक्ष्य छिपाने का प्रकरण पंजीबद्ध किया है। इस ब्लाइंड मर्डर मिस्ट्री को सुलझाने के लिए स्थानीय पुलिस द्वारा आसपास के थानों से सम्पर्क स्थापित कर महिला की शिनाख्ती के प्रयास किये जा रहे हैं। पुलिस का मानना है कि महिला की पहचान होने पर हत्या के कारण और इस जघन्य वारदात को अंजाम देने वाले हत्यारोपी का पता लगाना उसके लिए आसान होगा।

लाश की हालत देख डर गए थे लकड़हारे

सांकेतिक फोटो।
महिला की अधजली लाश को जंगली जानवरों द्वार अपना निवाला बनाने से वह काफी क्षत-विक्षत और डरावनी हो चुकी थी। उसका धड़ अलग, पैर अलग पड़े मिले। वहीं सिर के नीचे धड़ तक का हिस्सा काफी हद तक कंकाल में परिवर्तित हो चुका था। शनिवार को दोपहर के समय चहला नाला जंगल से लकड़ी लेकर क्षेत्र के कुछ युवा जब वापस घर लौट रहे थे तो रास्ते में सड़क के समीप झाड़ियों में पड़ी डरावनी लाश देखकर वे घबरा गए। भयभीत लकड़हारे भागकर सीधे अपने घर आये और परिजनों सहित ग्रामीणों को इसकी जानकारी दी। इस तरह रविवार की सुबह करीब 7 बजे एक ग्रामीण ने पहाड़ीखेरा आकर चौकी पुलिस को जंगल में एक महिला का अधजला हुआ शव पड़ा होने की सूचना दी गई। महिला की उम्र करीब 25 वर्ष होने का अनुमान है। पुलिस और एफएसएल टीम ने घटनास्थल से मृतिका के जले हुए लाल रंग के स्वेटर का कुछ हिस्सा और उसकी चूड़ियों के टुकड़े बरामद किये हैं। महिला की लाश सड़क से महज 50 फिट की दूरी पर झाड़ियों की आड़ में मिलने से यह भी आशंका जताई जा रही है कि उसकी हत्या कहीं और की गई बाद में लाश को यहां लाकर जलाया गया है।
क्षेत्र में चर्चा यह भी है कि महिला के साथ बलात्कार करने के बाद उसे मौत के घाट उतारा गया है, हालाँकि इसकी आधिकारिक तौर पर पुष्टि नहीं हुई है। उधर, अजयगढ़ एसडीओपी इसरार मंसूरी, पुलिस अधीक्षक पन्ना विवेक सिंह ने इस मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए मौके पर पहुंचकर शव और घटनास्थल मुआयना किया। इस चुनौतीपूर्ण अंधे क़त्ल के खुलासे के लिए पुलिस अधीक्षक ने तत्परता से एक टीम गठित करते हुए इसमें शामिल पुलिस अधिकारियों को प्रकरण की जाँच के संबंध में आवश्यक दिशा-निर्देश भी दिए गए।

अपहरण और लूट के बाद हत्या

फाइल फोटो।
बृजपुर थाना की पहाड़ीखेरा पुलिस चौकी क्षेत्र अंतर्गत चहला नाला के जंगल का इलाका आपराधिक वारदातों के लिहाज से काफी संवेदनशील हो गया है, क्योंकि दो माह पूर्व विधानसभा चुनाव के समय इसी नाला के पास एक दस्यु गिरोह ने बंदूकों की नोंक पर दिनदहाड़े कुछ युवकों से न सिर्फ लूटपाट की थी बल्कि इसके कुछ ही मिनिट बाद पड़ोसी जिला सतना निवासी वन विभाग के एक चौकीदार का अपहरण कर लिया था। विधानसभा चुनाव के समय जब पुलिस के अलर्ट होने और सीमावर्ती इलाके की नाकेबंदी कर चाकचौबंद व्यवस्था का दावा किया जा रहा था तब इन सनसनीखेज घटनाओं के सामने आने पर स्थानीय पुलिस की काफी बदनामी हुई थी। इन दो बड़ी घटनाओं के बाद भी यहाँ की पुलिस व्यवस्था काफी लचर बनी है, क्षेत्र में अपराधों की रोकथाम को लेकर समय रहते कोई ठोस उपाय न करने का ही यह दुष्परिणाम है कि महिला की हत्या कर शव को चहला नाला जंगल में जलाकर अज्ञात अपराधी बड़ी आसानी से भाग निकले। चौकी से महज 10 किलोमीटर दूर मुख्य मार्ग किनारे हुई इस दहला देने वाली घटना का पता भी पुलिस को 4-5 दिन बाद चला। पहाड़ीखेरा क्षेत्र में अपहरण और लूट की घटना के बाद से डकैत गिरोह को लेकर लोग पहले से ही दहशत में है, इस बीच जंगल में महिला का जला हुआ शव मिलने से अपनी जानमाल की सुरक्षा को लेकर इलाके के लोगों की चिंता बढ़ गई है।
उल्लेखनीय है कि पन्ना जिले के पहाड़ीखेरा पुलिस चौकी क्षेत्र की जटिल भौगोलिक स्थिति के चलते यह इलाका कई दशकों से दस्यु गिरोहों और अपराधियों की सुरक्षित शरण स्थली बना हुआ है। बियावान जंगल से घिरे पहाड़ीखेरा चौकी क्षेत्र की सीमा पड़ोसी जिला सतना के साथ-साथ उत्तर प्रदेश के बाँदा जिले से भी जुड़ी है। यहाँ सीमित पुलिस बल की तैनाती एवं संसाधनों का अभाव होने के कारण कमजोर सुरक्षा व्यवस्था का लाभ उठाकर अपराधी वारदात को अंजाम देने के बाद बड़ी आसानी से भाग निकलते हैं। क्षेत्र में लगातार तेजी से बढ़ते संगीन अपराधों पर अंकुश लगाने के लिए जिम्मेदार पुलिस अधिकारियों को विशेष ध्यान देने की जरुरत है क्योंकि यहाँ पुलिस के सामने कई बड़ी चुनौतियाँ हैं।

इनका कहना है –

“लकड़हारों ने जंगल में शव देखा था जिसकी सूचना मिलने पर तत्परता से पहाड़ीखेरा चौकी प्रभारी और मैंने स्थल का निरीक्षण किया। महिला की पहचान फ़िलहाल नहीं हो सकी। उसके सिर चेहरे में चोट के निशान मिले हैं, शव को जलाया गया है। प्रथमदृष्टया हत्या का मामला प्रतीत होने पर अज्ञात आरोपी के विरुद्ध आईपीसी की धारा 302, 201 के तहत प्रकरण कायम किया है। अंधे क़त्ल के खुलासे के लिए मृतिका की शिनाख्ती के प्रयास किये जा रहे हैं। मृतिका के साथ बलात्कार हुआ है या नहीं इसका पता जाँच में ही चलेगा। क्षेत्र में अपराधों की रोकथाम को लेकर लगातार रात्रि गश्त और पेट्रोलिंग के साथ अन्य जरुरी उपाय किये जा रहे हैं।”

अवधेश प्रताप सिंह बघेल, थाना प्रभारी बृजपुर