पुलिस को मिली बड़ी सफलता : बहुचर्चित कालिंजर नरसंहार का आरोपी “कुख्यात इनामी डकैत पप्पू यादव” गिरफ्तार

0
5771
धरमपुर थाना पुलिस टीम की अभिरक्षा में इनामी डकैत पप्पू उर्फ जयकरण यादव।

* धरमपुर थाना पुलिस ने उत्तर प्रदेश की सीमा के समीप घेराबंदी कर पकड़ा

* पप्पू के खिलाफ पन्ना जिले में दर्ज हैं अपहरण, हत्या व आर्म्स एक्ट के मामले

मुस्तकीम खान, पन्ना/अजयगढ़ ।(www.radarnews.in) अन्तर्राज्जीय डकैत बबली कोल व उसके साथी लवलेश कोल के खात्मे के बाद मध्यप्रदेश पुलिस ने दस्यु उंन्मूलन अभियान को तेज कर दिया है। इसी क्रम में पन्ना जिले की पुलिस ने मध्यप्रदेश-उत्तर प्रदेश के सीमावर्ती तराई अंचल में करीब डेढ़ दशक से भी अधिक समय तक आतंक का पर्याय रहे कुख्यात ईनामी डकैत पप्पू यादव को गिरफ्तार किया है। लम्बे समय से फरार चल रहे दस हजार रुपए के ईनामी डकैत पप्पू उर्फ जयकरण यादव के खिलाफ पन्ना जिले में अपहरण, हत्या व आर्म्स एक्ट सरीके कई संगीन मामले दर्ज है। जिनमें पुलिस को इसकी तलाश रही है। दस्यु पप्पू उर्फ जयकरण यादव बहुचर्चित कालिंजर नरसंहार में भी आरोपी है।
वर्ष 2003 में मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश को दहला देने कालिंजर नरसंहार के समय पप्पू उर्फ जयकरण यादव अपने हमनाम दुर्दांत दस्यु सरगना पप्पू यादव उर्फ कमल यादव गैंग का सक्रिय सदस्य रहा है। दस्यु सरगना पप्पू यादव उर्फ कमल यादव की मौत होने के बाद दस्यु पप्पू उर्फ जयकरण यादव पुलिस से बचने के लिए तराई अंचल से भागकर महानगरों में अपनी पहचान बदलकर रहता रहा। नवरात्र के त्यौहार के समय अपने गाँव आए मोस्ट वांटेड दस्यु पप्पू उर्फ जयकरण यादव के पकड़े जाने की खबर आने से तराई अंचल के लोगों ने राहत की सांस ली है।

मुखबिर की सूचना पर मिली सफलता

धरमपुर थाना प्रभारी एम.डी. शाहिद।
इनामी डकैत पप्पू उर्फ जयकरण यादव पिता संता यादव 38 साल निवासी गड्डिहा थाना कालिंजर जिला बांदा उत्तर प्रदेश को मुखबिर की सटीक सूचना पर सोमवार 7 अक्टूबर की रात्रि में पन्ना जिले के धरमपुर थाना अंतर्गत छनिहा गाँव के तिराहे पर अन्तर्राज्जीय सीमा के नजदीक घेराबंदी कर धरमपुर थाना पुलिस के द्वारा पकड़ा गया। धरमपुर थाना प्रभारी एम.डी. शाहिद ने जानकारी देते हुये बताया कि उन्हें मुखबिर से सूचना मिली थी कि पप्पू उर्फ जयकरण यादव अपने घर गड्डिहा से छनिहा ग्राम के तिराहे पर है जो बाहर भागने की फिराक में है। मोस्ट वांटेड डकैत की लोकेशन के संबध में मिली अहम सूचना को गंभीरता से लेते हुए इससे आनन-फानन वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया गया और फिर उनके निर्देशन में थाना प्रभारी धरमपुर एम.डी. शाहिद ने छनिहा तिराहा के आसपास तगड़ी घेराबंदी कर कालिंजर-नरदहा मार्ग से इनामी डकैत पप्पू उर्फ जयकरण यादव को धर दबोंचा। आरोपी के कब्जे से पुलिस ने 315 बोर का एक कट्टा एवं 6500 रुपये नगद जप्त किए है। इनामी बदमाश की गिरफ्तारी में एएसआई बी.एल. पाण्डेय, आर. प्रदीप हरदेनिया, आशीष अवस्थी, आइमत सेन आदि की सराहनीय भूमिका रही । लम्बे समय से फरार इनामी दस्यू पप्पू उर्फ जयकरण यादव को पकड़ने वाली टीम को पुलिस अधीक्षक पन्ना मयंक अवस्थी ने बधाई देते हुए पुरुष्कृत करने की घोषणा की है।

इतना कुख्यात क्यों है पप्पू यादव

जयकरण उर्फ पप्पू यादव कितना कुख्यात डकैत है इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि यह बहुचर्चित कालिंजर नरसंहार में शामिल रहा है। खूँखार दस्यु सरगना पप्पू उर्फ़ कमल यादव ने वर्ष 2003 में अपने गिरोह के सदस्यों के साथ कालिंजर में एक ही परिवार के आठ लोगों की सनसनीखेज हत्या कर दी थी। इस जघन्यतम हत्याकांड को कालिंजर नरसंहार के नाम से जाना जाता है। इसके अलावा दस्यु जयकरण उर्फ पप्पू यादव पर किशोरा लोध निवासी जोधापुरवा की हत्या का भी आरोप है।
इनामी डकैत पप्पू उर्फ जयकरण यादव।
धरमपुर थाना प्रभारी एम.डी. शाहिद ने जानकारी देते हुये बताया कि दिनाँक 30 मई 2009 को लखनपुर सेहा में पप्पू उर्फ जयकरण यादव व उसके साथियों रामलखन, त्रिमोहन, छइयन व रामफल यादव ने जोधापुरवा निवासी किशोरा लोध की निर्ममतापूर्वक हत्या की थी। इसके पूर्व दिनाँक 22 फरवरी 2009 को नरदहा गाँव के रामप्रसाद सोनी को गोली मारकर उसके सोने-चादी के गहने लूटे लिये थे। दस्यु पप्पू उर्फ जयकरण यादव विरुद्ध पन्ना जिले में वर्ष 2009 के अपराध क्र 56/2009 धारा 364, 364क, 365, 302, 201 ताहि 25/27 आर्म्स एक्ट एवं 11/13 एमपीडीके एक्ट व अपराध क्रमाँक 13/2009 धारा 307, 364, 34 ताहि 25/27 आर्म्स एक्ट एवं 11/13 एमपीडीके एक्ट के प्रकरण दर्ज है। लम्बे समय से फरार चल रहे स्थाई वारंटी पप्पू उर्फ जयकरण यादव की गिरफ्तारी पर मध्यप्रदेश के पन्ना जिले की पुलिस ने 10 हजार रूपये का इनाम घोषित किया था।