25 साल तक कड़ी मेहनत करने के बाद नाउम्मीद हो चुका किसान अचानक बना करोड़पति, उथली खदान में मिला 29.46 कैरेट का बेशकीमती हीरा

0
1819
किसान बृजेश उपाध्याय को मिला जैम क्वालिटी का 29.46 कैरेट का बेशकीमती हीरा।

* पन्ना के हीरा कार्यालय में इस महीने जमा हुए कई हीरे

* लगातार हीरे मिलने से इसकी तलाश करने वालों का बढ़ा उत्साह 

शादिक खान, पन्ना। (www.radarnews.in) मध्यप्रदेश के पन्ना जिले की रत्नगर्भा धरती में एक और गरीब किसान की किस्मत चमक उठी है। एक अदद हीरे की तमनन्ना में करीब 25 साल से खदान लगाते हुए हताश-निराश हो चुके किसान बृजेश उपाध्याय को 29.46 कैरेट का बेशकीमती हीरा मिला है। एक ही झटके करोड़पति बने किसान को उसकी मेहनत का प्रतिफल छप्पर फाड़कर मिला है। जिससे बृजेश और उनके परिजनों की ख़ुशी का ठिकाना नहीं है। उन्होंने शुक्रवार 13 सितम्बर को अपना हीरा पन्ना के जिला हीरा कार्यालय में जमा कराया है। इस हीरे की कीमत करोड़ों रुपए बताई जा रही है।
हीरा कार्यालय के बाहर अपने मित्रों के साथ खड़े किसान बृजेश उपाध्याय।
दुनियाभर में उज्जवल किस्म के हीरों के खनन के लिए विख्यात पन्ना में पिछले कुछ समय से लगातार की उथली खदानों से हीरों के मिलने की ख़बरें आ रहीं है। जिससे हीरे की तलाश करने वालों का उत्साह काफी बढ़ है। अच्छी बात यह है कि हीरे मिलने से जहां लोग लखपति-करोड़पति बन रहे हैं वहीं पन्ना में स्थित हीरा कार्यालय में इन्हें जमा कराया जा रहा है। इस महीने में अब तक चार नायाब हीरे जमा होने से हीरा कार्यालय में भी ख़ुशी का माहौल है।
हीरा कार्यालय पन्ना में हीरे को जमा करने के पूर्व उसकी बारीकी से जांच करते हीरा पारखी अनुपम सिंह।
हीरा पारखी अनुपम सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि पन्ना निवासी बृजेश उपाध्याय को ग्राम कृष्ण कल्याणपुर (पटी) की उथली खदान में 29.46 कैरेट का जैम क्वालिटी का हीरा मिला है। उन्होंने बेशकीमती हीरे की अनुमानित कीमत तो नहीं बताई लेकिन इतना जरूर कहा कि इसकी नीलामी में बड़ी राशि प्राप्त होने की पूरी उम्मीद है। उधर, हीरा व्यवसाय से जुड़े जानकार इस हीरे का मूल्य करोड़ों रुपए होने की बात कह रहे है

लगा कि दिन में सपना देख रहा हूँ

किसान बृजेश ने बताया कि वह 25 सालों से खदान लगाते हुए लगभग हताश-निराश हो चुका था, कई बार नाउम्मीदी इतनी हावी हो जाती थी कि लगता था कि मेरी किस्मत में सिर्फ कंकड़-पत्थरही लिखे है। इस मनोदशा में जब खदान पर बहुमूल्य हीरा मिला तो एक पल के लिए अपनी आँखों पर ही यकीन नहीं हुआ। लगा कि जैसे कोई सपना देख रहा हूँ। लेकिन कुछ देर बाद एहसास हुआ कि मेरा वर्षों का श्रम और सपना साकार हो चुका है।

परिवार की बेहतरी प्राथमिकता

किसान बृजेश उपाध्याय को हीरा जमा करने की पावती देते हुए पन्ना कलेक्टर कर्मवीरर शर्मा।
ईश्वर के प्रति कृतज्ञता और धन्यवाद ज्ञापित करते हुए उन्होंने कहा कि इस हीरे की नीलामी से जो राशि मिलेगी उसके खर्च को लेकर फिलहाल कोई प्लानिंग नहीं है लेकिन इसका सदुपयोग घर-परिवार की खुशहाली और बेहतरी के लिए करूँगा। अपने दोस्तों संग हीरा जमा करने आए बृजेश ने एक सवाल के जबाब में बताया कि जैम क्वालिटी का बेशकीमती हीरा मिलने से उसे कितनी ख़ुशी मिली है, इसे शब्दों में बयां कर पाना उसके लिए मुश्किल है।