पन्ना के कल्दा पठार में हुआ दर्दनाक सड़क हादसा

0
3098

पिकअप वाहन पलटने से 4 की मौत, 26 गंभीर घायल

नई बहू की विदा कराकर मालवाहक से वापिस लौट रहे थे आदिवासी

मातम में बदली विदाई की खुशियां, घायलों में आदिवासी परिवार की बहू भी शामिल

पन्ना। रडार न्यूज बुन्देलखण्ड का पचमड़ी कहलाने वाले पन्ना के कल्दा पठार में बुधवार 16 मई को दोपहर करीब 12 बजे चांपा मोड़ के समीप यात्रियों से खचाखच भरा एक तेज रफतार पिकअप वाहन अनियंत्रित होकर सड़क किनारे पलट गया। पिकअप चालक की घोर लापरवाही के कारण हुए इस दर्दनाक हादसे में चार व्यक्ति असमय कालकवलित हो गये। जबकि 26 लोगों को चोटें आई हैं। नई-नवेली बहू की विदाई (गौना) कराकर वापिस लौटते समय हुए इस भीषण सड़क हादसे के बाद से कल्दा-श्यामगिरी पठार क्षेत्र में शोक की लहर व्याप्त है। घायलों में आदिवासी परिवार की बहू भी शामिल है। दूरस्थ पठारी इलाके में हुए सड़क हादसे के घायलों को स्थानीय ग्रामीणों की मदद से प्राथमिक उपचार हेतु नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र सलेहा एवं पन्ना लाकर जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया। दोनों ही जगह घायलों का उपचार जारी है। हादसे के संबंध में मिली जानकारी के अनुसार शाहनगर थाना क्षेत्र के ग्राम पोसी निवासी आदिवासी परिवार अपनी बहू की विदाई कराकर कल्दा पठार से पिकअप वाहन क्रमांक एमपी-21-जी-2088 में सवार होकर खुशी-खुशी वापिस घर लौट रहा था। तभी रास्ते में कल्दा-श्यामगिरी मार्ग पर चापा मोड़ के समीप अचानक पिकअप वाहन चालक भागचंद पिता लछ्छू गड़ारी का संतुलन बिगड़ गया जिससे तेज रफतार वाहन अनियंत्रित होकर सड़क किनारे इस तहर पलटा कि वह चारों खाने चित्त हो गया। हादसे के बाद मौके पर चींख-पुकार मच गई और अफरा-तफरी का माहौल निर्मित हो गया। हादसा इतना दर्दनाक था कि पिकअप में पीछे बैठे कई यात्री इसके नीचे दब गये और कई लोग दूर-दूर तक जा गिरे। जिसमें दो लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। वहीं अत्यंत ही गंभीर रूप से घायल दो यात्रियों को उपचार हेतु पन्ना लाते समय उनमें से एक ने रास्ते में ही दम तोड़ दिया जबकि दूसरे घायल का इलाज के दौरान जिला चिकित्सालय पन्ना में दुखांत हो गया। समाचार लिखे जाने तक पिकअप वाहन पलटने से मरने वालों की संख्या बढ़कर चार हो गई और 26 यात्री घायल बताये जा रहे है। मृतकों में भैया लाल आदिवासी पिता कड़ोरा आदिवासी 60 वर्ष, पचोला आदिवासी पिता निर्पत आदिवासी 75 वर्ष, नरेश आदिवासी पिता लालमणी आदिवासी 30 वर्ष तीनों निवासी ग्राम पोसी एवं कुल्लन आदिवासी 40 वर्ष निवासी मगरपुरा शामिल है।

 महिलाएं और बच्चे भी शामिल  –

    पिकअप हादसे के घायलों में मुख्य रूप से कल्लू आदिवासी 70 वर्ष, रामा आदिवासी 50 वर्ष, रामनाथ आदिवासी 50 वर्ष, राजेश आदिवासी 12 वर्ष, शिव आदिवासी 18 वर्ष, अभिषेक 8 वर्ष, राहुल 8वर्ष, मोहित आदिवासी, रवि आदिवासी 12 वर्ष, संदीप आदिवासी 7 वर्ष, लल्ली आदिवासी 12 वर्ष, बाबूलाल 70 वर्ष, तेजबाई आदिवासी 22 वर्ष, सोनेलाल आदिवासी 12 वर्ष, कुंजीलाल 48 वर्ष, रतन लाल, दयाराम 50 वर्ष, मंत्री आदिवासी 40 वर्ष, सुखबीर आदिवासी 10 वर्ष, बाबूलाल 35 वर्ष और वाहन चालक भागचंद पिता लछ्छू गडा़री शामिल है। सभी घायलों के हाथ-पैर ,सिर में गंभीर चोट आईं हैं। घायलों का प्राथमिक उपचार सलेहा प्राथमिक स्वास्थ्य में डॉक्टर अजय अजय चैधरी द्वारा किया गया। तत्पश्चात गंभीर घायलांे को समुचित उपचार हेतु एम्बूलेंस तथा निजी वाहनों से तत्परता से जिला चिकित्सालय पन्ना के लिए रेफर किया गया। सड़क हादसे के मृतकों के शव को पोस्टमार्टम हेतु सलेहा में रखा गया है। लोगों का मानना है दूरस्थ पठारी इलाके में हुऐ इस भीषण सड़क हादसे के गंभीर घायलों को यदि तत्परता से प्राथमिक उपचार मिल जाता तो शायद उनकी जान बच जाती। हालांकि इस हादसे की सूचना मिलते ही पुलिस और प्रशासन राहत एवं बचाव कार्य को लेकर तुरंत सक्रिय हो गया। हादसे की गंभीरता को देखते हुए पन्ना से पुलिस अधीक्षक रियाज इकबाल, गुनौर एसडीएम अभिषेक ठाकुर, गुनौर एसडीओपी बीएस धुर्वे ने मौके पर पहुंचकर बचाव कार्यों एवं घटनास्थल का जायजा लिया।

घायलों को देखने पहुंचे कमिश्नर-

शाहनगर के श्यामगिरी मोड़ पर हुई दुःखद घटना के घायलों से मिलने सागर संभाग के संभागायुक्त मनोहरलाल दुबे, पुलिस महानिरीक्षक सतीश कुमार सक्सेना, कलेक्टर मनोज खत्री एवं जिला पंचायत सीईओ गिरीश मिश्रा जिला अस्पताल पन्ना पहुंचे। वहां उन्होंने घायलों को आश्वासन देते हुए जिला चिकित्सालय की टीम को समुचित स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। इस दौरान कलेक्टर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक बीकेएस परिहार सहित संबंधित अधिकारीगण मौजूद रहे। इस घटना में गंभीर रूप से घायल पुरूषोत्तम आदिवासी को मेडिकल काॅलेज रीवा रिफर किया गया है। जबकि शेष घायलों को जिला चिकित्सालय पन्ना में भर्ती किया गया है। यह सभी जुगरवारा पंचायत के पोसी गांव के निवासी हैं। कलेक्टर श्री खत्री ने बताया कि इस हादसे पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान ने गहरा दुःख व्यक्त करते हुए मृतकों के परिजनों के व्यक्ति सहानुभूति प्रकट की है। मुख्यमंत्री की ओर से मृतकों के परिजनों को एक-एक लाख रूपये की आर्थिक सहायता और गंभीर घायलों को 25-25 हजार रूपये सहायता राशि देने की घोषणा की गई।

एक वर्ष पूर्व हुई थी शादी-

आदिवासी समाज में शादी के एक वर्ष बाद बहू का गौना (विदाई) होने की परम्परा चली आ रही है। फलस्वरूप बहू का गौना कराने ग्राम पोसी के आदिवासी अपने रिश्तेदारों के साथ मालवाहक पिकअप वाहन में सवार होकर 15 मई को कल्दा आये थे। आदिवासी परम्पराओं और रीति-रिवाजों के अनुसार सभी रस्में पूरी होने पर बहू को लेकर पिकअप वाहन से बुधवार को दोपहर करीब 12 बजे पोसी के आदिवासी रवाना ही हुए थे कि थोड़ी ही देर बाद आई भीषण हादसे की दुःखद खबर से विदाई की खुशियां मातम में बदल गईं। इस हादसे की खबर जब लड़की तेज बाई के परिजनों को लगी तो हा-हाकार मच गया। थोड़ी ही देर में यह दुःखद समाचार जंगल की आग की तरह पूरे पठारी इलाके में फैल गया। जिससे देखते ही देखते घटना स्थल पर सैकड़ों लोग जमा हो गये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here