महादंगल : अखाड़े में उतरे देश के नामी पहलवानों ने दिखाए खतरनाक दावं-पेंच

0
1649
जांघिया दांव लगाकर प्रतिद्वंदी को पछाड़ने का प्रयास करता पहलवान।

नयागांव में महिला पहलवानों ने भी ठोकी ताल

कुश्ती कला का प्रदर्शन देखने उमड़े धरमपुर क्षेत्र के हजारों लोग

विजेता प्रतिभागियों को मिली शील्ड और नकद पुरुष्कार

पन्ना। रडार न्यूज  दंगल के भव्य आयोजनों को लेकर पन्ना जिले का धरमपुर क्षेत्र प्रदेश और राष्ट्रीय स्तर अपनी पहचान कायम कर चुका है। गत दिवस यहां के नयागांव में महान क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद की जयंती के उपलक्ष्य पर छत्रसाल व्यायाम शाला पन्ना के तत्वाधान में एवं कांग्रेस नेता मनोज केशरवानी के सौजन्य से विराट ईनामी महादंगल आयोजित हुआ। जिसमें देश के कई जाने-माने पहलवानों ने अखाड़े में उतरकर ताल ठोंकी और प्रतिद्वंदी को पछाड़ने के लिए जोर आजमाइश करते हुए जमकर पसीना बहाया साथ ही एक से बढ़कर एक खतरनाक दावं-पेंच भी दिखाए। महादंगल में महिला पहलवानों के मुकाबले और पंजाब के जल्लाद पहलवान व मेरठ से आये संदीप राणा पहलवान लोगों के बीच आकर्षण का केंद्र रहे।

उत्साह के साथ मुकाबलों का आनंद उठाते दर्शक।

हरियाणा के सुशील पहलवान और झांसी के बालमुकुंद पहलवान ने अपने शारीरिक सौष्ठव और शानदार कला कौशल से क्षेत्रवासियों दिल जीत लिया। वहीं हरियाणा, पंजाब और दिल्ली की महिला पहलवानों ने भी अपनी कुश्ती कला का प्रदर्शन किया जिसमें महिलाओं की फाइनल कुश्ती पंजाब की गुरुप्रीत पहलवान ने जीती। संदीप राणा पहलवान ने हरियाणा के पहलवान को हराकर 51000 रुपए और शील्ड के रूप में प्रथम पुरस्कार प्राप्त किया। पन्ना जिले से कुश्ती के क्षेत्र में की सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले फूलचंद पहलवान को दंगल आयोजन कमेटी द्वारा से सम्मानित किया गया। इसके अलावा पन्ना के हफीज पहलवान और दिल्ली के पहलवान के बीच काफी देर तक बेहद रोमांचक और संघर्षपूर्ण मुकाबला चला लेकिन लेकिन इसका कोई नतीजा नहीं निकल सका। अर्थात दोनों की कुश्ती बराबर रही।

पहलवानों ने दिखाये ये दावं-पेंच
विराट ईनामी महादंगल में उपस्थित अथितिगण।

महादंगल के इस विशाल आयोजन में कई राज्यों से आये दर्जनों पहलवान अखाड़े में उतरे। जिनके बीच दोपहर 2 बजे से शाम लगभग 6 बजे तक लगभग दो दर्जन से भी अधिक कुश्तियां हुई। इस दौरान पहलवानों ने अपने प्रतिद्वंदी को धूल चटाने के लिए के दमखम दिखाते हुए मुख्य रूप से निकाल दांव, कलाजंग दांव, जांघिया दांव टंगी दांव, सांडितोड़,धोबी पछाड़ और बगलडूब आदि दावं-पेंच खूब आजमाए। अंत में विजेता पहलवानों को शील्ड-मेडल और नगद राशि से सम्मानित किया गया। इस अवसर बतौर अतिथि पूर्व सांसद लोकेन्द्र सिंह,कांग्रेस नेता एवं व्यवसायी मनोज केशरवानी, शिवजीत सिंह भैया राजा पूर्व मंडी उपाध्यक्ष पन्ना, राजेन्द्र नामदेव खेरमाई, मनोज दिवेदी, अजय पाण्डेय, सफीक खान, पप्पू राजा पूर्व सरपंच, रामेश्वर यादव पूर्व सरपंच, प्रेमचंद केशरवानी, पंकज साहू, मुहम्मद अली उपस्थित रहे।

अखाड़े में उतरे बगैर पुलिस जवानों ने बहाया पसीना

विराट ईनामी अंतर्राज्यीय महादंगल को लेकर क्षेत्र के लोगों में अपार उत्साह देखा गया। जिसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि बारिश के बाबजूद हजारों लोग कुश्ती के मुकाबलों को देखने के लिए स्वप्रेरणा से न सिर्फ नयागांव पहुंचे बल्कि 4-5 घंटे तक डटे रहते हुए मुकाबलों का जमकर आनंद उठाया।

महिला पहलवानों के मुकाबलों में जमकर तालियां बजीं।

दर्शकों में बड़ी संख्या में महिलायें, वृद्धजन और बच्चे शामिल रहे। एक तरफ जहां पहलवान अखाड़े में पसीना बहा रहे थे वहीं दूसरी तरफ उत्साहित और रोमांचित दर्शकों की भारी भीड़ को काबू करने के लिए पुलिस बल को खासी मशक्कत करनी पड़ी। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए अतिथियों ने अपने उद्बोधन में इस आयोजन और व्यवस्थाओं की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि कुश्ती एक ऐसा प्राचीन खेल है जिससे शारीरिक और मानसिक दोनों तरह का विकास होता है। कुश्ती लड़ने वाले व्यक्ति धूम्रपान, नशाखोरी से दूर रहते हैं और ब्रह्मचर्य का पालन करते हैं। ऐसे व्यक्ति जिस गांव-जिस शहर में रहते हैं,वहां का नाम देश-विदेश में रोशन होता है। इस प्रकार के कार्यक्रमों से क्षेत्र में छिपी प्रतिभाओं को स्वयं को निखारने का मौका मिलता है। जिससे वे आगे जाकर अपने गांव- जिले का नाम रोशन करने में कामयाब होते हैं। अंत में महादंगल के संयोजक संजय सिंह ने सभी का आभार व्यक्त किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here