भारत बंद | अजयगढ़ में पुलिस से हुई झूमाझटकी, अमानगंज में साईकिल रैली निकली

0
1133

डीजल-पेट्रोल की मूल्य वृद्धि के खिलाफ सड़कों पर उतरे कांग्रेसी

भाजपा की गलत नीतियों के कारण आम आदमी पर पड़ रही महंगाई की मार

अजयगढ़/अमानगंज। रडार न्यूज   डीजल-पेट्रोल और रसोई गैस की बेतहाशा तेजी से बढ़ती कीमतों के विरोध में कांग्रेस के भारत बंद का सोमवार 10 सितम्बर को पन्ना जिले के अजयगढ़ कस्बा में खासा असर देखने को मिला। शांतिपूर्ण बंद के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पुतला दहन करने को लेकर कांग्रेस नेताओं और पुलिस के बीच झूमाझटकी हो गई। कांग्रेस के नेताओं से पुतला छीनने के लिए पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी। जिससे कुछ देर के लिए तनावपूर्ण माहौल निर्मित हो गया। हालांकि बंद का नेतृत्व कर रहे ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष राकेश गर्ग एडवोकेट के दखल के बाद स्थिति सामान्य हो गई। इसके पूर्व कांग्रेस नेताओं ने जुलूस की शक्ल में पैदल मार्च करते हुए व्यापारियों से भारत बंद के लिए समर्थन माँग फलस्वरूप व्यापारियों ने अपनी दुकानें बंद कर लीं। वहीं इस पूर्व घोषित बंद के आव्हान के मद्देनजर कई दुकानदारों ने तो सुबह अपनी दुकानें ही नहीं खोली। जबकि कुछ दुकानों के शटर दोपहर बाद खुले। अजयगढ़ में बंद को लेकर किसी भी अप्रिय स्थिति से निपटने के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम रहे। बाजार बंद कराने के पश्चात कांग्रेस नेता नगर के हृदय स्थल जयस्तंभ चौक पर सड़क में धरने पर बैठ गए। इस दौरान प्रदर्शनकारियों द्वारा महंगाई के मुद्दे पर भाजपा की केंद्र और राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई ।

भाजपाईयों का दोहरा चरित्र हुआ उजागर

आमआदमी को राहत देने के लिए महंगाई पर तुरंत लगाम लगाने की मांग को लेकर राज्यपाल के नाम ब्लॉक कांग्रेस कमेटी अजयगढ़ द्वारा तहसीलदार को ज्ञापन सौंपा गया। जिसमें कोंग्रस ने डीजल-पेट्रोल और रसोई गैस के दाम कम ना होने पर उग्र आंदोलन करने की चेतावनी दी है। इस अवसर पर प्रदर्शनकारियों ने कहा कि महंगाई के मुद्दे पर पूरा देश-दुनिया भाजपा के बड़बोले नेताओं का सफ़ेद झूंठ देख चुकी है। डीजल-पेट्रोल और रसोई गैस के आसमान छूते मूल्य के कारण आमआदमी के घर का बजट बिगड़ गया। रोजमर्रा की जरुरत सामान महंगा होने गरीब के लिए परिवार का भरण-पोषण मुश्किल हो चूका है। डीजल-पेट्रोल और रसोई गैस पर भारी-भरकम टैक्स लेकर भाजपा की सरकारें देश के जनमानस को खुलेआम लूट रही हैं। आम नागरिक महंगाई के मुद्दे पर इनकी कथनी-करनी का अंतर बेहतर तरीके से समझ चुका है। अच्छे दिन आने का झांसा देने वालों को जनता विधानसभा और लोकसभा चुनाव में मुँहतोड़ जबाब देगी। इस प्रदर्शन में मुख्य रूप से ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष राकेश गर्ग, रामओतार तिवारी, धर्मेन्द्र प्रताप सिंह, श्रीराम पाठक, मोहम्मद अबरार, चन्द्रभान यादव, प्रेम कुमार पांडेय, सुखदेव मिश्रा, अरविंद सिंह बुंदेला, सगीर बेग, आशीष यादव, प्रबल चौबे, साधना अवस्थी, फरहा खान, यूनिश खान, मेहबूब, अब्दुल खान, आकाश जाटव, करामत उल्ला, राघवेंद्र सिंह परमार,जीतू यादव, शेख मोहमद, राहुल श्रीवास, सहित बड़ी संख्या में कांग्रेसी कार्यकर्ता उपस्थित रहे

साईकिल चलाकर जताया विरोध

डीजल-पेट्रोल और रसोई गैस की मूलय वृद्धि का विरोध में अमानगंज के कांग्रेस नेताओं ने साईकिल रैली निकालकर प्रदर्शन किया। साईकिल में सवार होकर कांग्रेस नेता नगर भ्रमण कर व्यापारियों से अपील कर दुकानें बंद कराते रहे। किसान कांग्रेस के प्रदेश महामंत्री भूपेंद्र बुंदेला के नेतृत्व में हुए इस विरोध प्रदर्शन के दौरान कांग्रेसियों ने आम लोगों को बताया कि कुछ साल पहले तक नरेंद्र मोदी,सुषमा स्वराज, अरुण जेटली और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सहित भाजपा के सभी छोटे बड़े नेता महंगाई के मुद्दे पर किस तरह बड़ी-बड़ी बातें करते थे, लेकिन आज महंगाई जब वास्तव में डायन बनकर आमआदमी का निवाला छीन रही है तो भाजपाई निर्लज्जता के साथ चुप्पी साधे बैठे हैं। नगर परिषद अध्यक्ष हक्कुन दहायत और पूर्व नगर कांग्रेस अध्यक्ष वसीम खान कहा कि जब डॉलर की तुलना भारतीय रुपया और डीजल-पेट्रोल के दाम सौ के आंकड़े की और तेजी से बढ़ रहे तो मोदी जी और दूसरे भाजपाई देश को जबाब देने से बचने के लिए दुबके हुए बैठे है। छप्पन इंच के सीने से अब दहाड़ सुनाई नहीं देती। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली कांग्रेस की सरकार के समय अंतर्राष्ट्रीय बाजार में जब कच्चे तेल की कीमत 100 डॉलर प्रति बैरल से अधिक थीं तब देश में डीजल-पेट्रोल 65-70 रूपए प्रति लीटर बिकता था। रसोई गैस के दाम भी लगभग 400 रुपये थे। पिछले चार साल में कच्चे तेल की कीमत सिर्फ 40 डॉलर प्रति बैरल के आसपास रही है। फिर भी नरेंद्र मोदी और शिवराज सरकार ने आम आदमी को कोई राहत नहीं दी। उल्टा टैक्स बढ़ाया है जिससे महंगाई के कारण आमआदमी की कमर टूट चुकी है। वर्तमान में अंतर्राष्ट्रीय बाजार में जब कच्चे तेल की कीमत 100 डॉलर से भी कम है फिर भी देश में पेट्रोल-डीजल के दाम आग लगी है। साईकिल रैली का समापन तहसील कार्यलय में हुआ जहां महंगाई के मुद्दे पर राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा गया। ज्ञापन सौंपने वालों में अभिषेक दुवेदी, नितेश पांडेय, आशीष दुबे, अश्वनी भटनागर, कमल सिंह राजपूत, अतहर खान, सतीश दुबे, गजराज सिंह राजपूत, कोमल यादव, सत्यम तिवारी, कल्लू खान, मुन्ना तिवारी, छंगा वंशकार, सहित अन्य कांग्रेस कार्यकर्त्ता उपस्तिथ रहे ।