हीरों की नीलामी | मजदूर बना करोड़पति, 42 कैरेट का नायाब हीरा 2.55 करोड़ में बिका

0
1352
बहुमूल्य हीरा को दिखाता मजदूर मोतीलाल प्रजापति और समीप खड़े उसके भाई।

* झाँसी के ज्वेलर्स राहुल अग्रवाल ने सर्वोच्च बोली लगाकर हीरा खरीदा

* 57 साल बाद मजदूर मोतीलाल को मिला था दूसरा सबसे बड़ा हीरा

* पन्ना में एक और मजदूर को मिला उज्जवल क़िस्म का हीरा

शादिक खान, पन्ना। रडार न्यूज   हीरों के खनन लिए विश्व विख्यात मध्यप्रदेश के पन्ना जिले में करीब ढ़ाई माह पूर्व मजदूर मोतीलाल प्रजापति को मिला उज्जवल किस्म का बेशकीमती नायाब हीरा 2 करोड़ 55 लाख रुपये में बिका है। 42 कैरेट 59 सेंट वजन के इस हीरे को पन्ना में चल रही हीरों की नीलामी में झाँसी, उत्तर प्रदेश के ज्वेलर्स राहुल अग्रवाल ने सर्वोच्च बोली लगाकर खरीदा है। इस हीरे के लिए 6 लाख रुपये प्रति कैरेट की दर से बोली लगाई गई। उधर, नीलामी में उम्मीद से अधिक राशि मिलने से मजदूर मोतीलाल और उसके भाई रघुवीर प्रजापति करोड़पति बन गए हैं। हीरे की चमक से दुर्दिन रुपी अँधेरा मिटने और सम्मानपूर्वक खुशहाल जिंदगी की तमन्ना पूरी होने की ख़ुशी दोनों भाईयों के चेहरों पर साफ़ झलक रही है। इनकी जिंदगी ने जिस तेजी से करवट ली है, उससे एक बार फिर यह यह साबित हुआ है कि “रत्नगर्भा वसुंधरा पन्ना में लोगों की किस्मत चमकते देर नहीं लगती, यहां किस्मत जब किसी पर मेहरबान होती है तो वह एक झटके में ही रंक से राजा बन जाता है।”

महीने भर की मेहनत में हुए मालामाल

पन्ना में चल रही हीरों की शासकीय नीलामी का दृश्य।
मालूम होकि जिला मुख्यालय पन्ना के समीप ग्राम कृष्णा कल्याणपुर में पट्टा लेकर हीरे की उथली खदान लगाने वाले मजदूर मोतीलाल प्रजापति और उसके भाई को महज महीने भर की मेहनत में ही 9 अक्टूबर 2018 को 42 कैरेट 59 सेंट का उज्जवल किस्म का बेशकीमती नायाब हीरा मिला था। पन्ना जिले की उथली हीरा खदानों में पिछले 57 साल में मिले नायब हीरों की सूची में यह दूसरा सबसे बड़ा और जैम क्वॉलिटी का हीरा है। जिला मुख्यालय पन्ना में स्थित देश के एकमात्र हीरा कार्यालय के आधिकारिक रिकॉर्ड के अनुसार पूर्व में 15 अक्टूबर 1961 में पन्ना के ही रसूल मोहम्मद को महुआटोला की उथली खदान में 44 कैरेट 55 सेंट का सबसे बड़ा हीरा मिला था।

सम्मानपूर्वक करेंगे जीवन यापन

मजदूर मोतीलाल प्रजापति को मिले नायाब हीरे को देखते डीके साहू ।
बहुमूल्य हीरे को अच्छा भाव मिलने की खबर फैलने के बाद से मोतीलाल प्रजापति और उसके भाईयों के घर पर उत्सव जैसा माहौल है। रंक से राजा बने प्रजापति परिवार के सदस्यों की ख़ुशी का ठिकाना नहीं है। पन्ना के बेनीसागर मोहल्ला स्थित इनके घर पर दोपहर से ही परचितों और रिश्तेदारों का आना-जाना लगा है। श्रमिक मोतीलाल ने “रडार न्यूज” को बताया कि ईश्वर की असीम अनुकंपा उसे बहुमूल्य हीरे के रूप में छप्पर फाड़कर मिल गया है। वह खुद को भाग्यशाली मानता कि उसे महज महीने भर की मेहनत में ही बेशकीमती बड़ा हीरा मिल गया जबकि अधिकांश लोग पूरी जिंदगी खदान खोदते रहते हैं और उन्हें एक अदद हीरा नहीं मिलता। मोतीलाल ने कहा कि हीरे की बिक्री से जो राशि प्राप्त होगी उसे वह और उसके भाई आपस में बांट लेंगे। अपने बच्चों का विवाह करने के बाद शेष राशि से वह कोई व्यवसाय करेंगे ताकि मजदूरी छोड़कर सम्मानपूर्वक जीवनयापन संभव हो सके।

एक और मजदूर की चमकी किस्मत

पन्ना के हीरा कार्यालय में अपने हीरे को दिखाता मजदूर राधेश्याम सोनी एवं समीप खड़े उसके दोस्त।
उज्जवल किस्म के हीरों की धरती पन्ना में कब किसकी किस्मत चमक उठे अंदाजा लगाना मुश्किल है। मजदूर मोतीलाल प्रजापति के करोड़पति बनने की चर्चाओं के बीच शनिवार 29 दिसम्बर को यहां एक और मजदूर राधेश्याम सोनी को 18.13 कैरेट वजन का बेशकीमती जैम क्वॉलिटी का हीरा मिला है। इस हीरे की कीमत भी एक करोड़ से अधिक होने की चर्चाएं हैं। पन्ना के समीपी ग्राम जनकपुर निवासी मजदूर राधेश्याम सोनी को यह हीरा कृष्णा कल्याणपुर(पटी) में स्थित उथली हीरा खदान में मिला है। राधेश्याम पेशे से लघु कृषक और मजदूर हैं, आर्थिक तंगी के चलते आभाव की जिंदगी जी रहे इस युवा ने अपनी किस्मत आजमाने के लिए अपने दोस्तों के साथ मिलकर हीरा खदान लगाई थी। आज जब खदान में निकली कंकड़ युक्त चाल (ग्रेवल) को अनाज की तरह बीनने के दौरान एक बेहद तेज चमकदार सफ़ेद पत्थर दिखा तो राधेश्याम सोनी और उसके साथियों के चेहरों पर ख़ुशी की लहर दौड़ गई। यह कोई मामूली पत्थर नहीं बल्कि बेशकीमती रत्न हीरा था, जिसे पाने की तमन्ना वे न जाने कब से संजों रहे थे। उक्त हीरे को लेकर राधेश्याम आज पन्ना के हीरा कार्यालय पहुंचे जहां उनके द्वारा हीरे को जमा कराया गया है।

इनका कहना है-

“पन्ना की उथली खदानों में इतने बड़े साइज का जैम क्वालिटी के हीरे मिलने से जहां मजदूर करोड़पति बना है वहीं विभाग को भी हीरे की नीलामी से अच्छा-खासा राजस्व प्राप्त हुआ है। राधेश्याम सोनी को मिला हीरा भी उज्जवल किस्म का अच्छा हीरा है, इसे आगामी नीलामी में बिक्री हेतु रखा जायेगा।”

संतोष सिंह बघेल, जिला हीरा अधिकारी पन्ना।