एमपी में अब घर के अंदर भी सुरक्षित नहीं है बेटियां

0
1464

घर में सो रही युवती का अपरहण कर किया गेंगरेप

आरोपियों में पूर्व सरंपच के पुत्र भी शामिल, पीड़िता के भाई से है पुरानी रंजिश 

पन्ना। रडार न्यूज कानून में बदलाव कर बलात्कार के आरोपियों को मौत की सजा देेने सहित अन्य कठोर प्रावधान करने के बावजूद बलात्कार की घटनायें कम होने का नाम नहीं ले रही है। बलात्कार के मामलों में मध्यप्रदेश की स्थिति सबसे खराब है। यहां अब घर की चार दिवारी के अंदर भी महिलायें और बेटियां महफूज नहीं है। मध्यप्रदेश के पन्ना जिले के रैपुरा थाना क्षेत्र में 21 वर्षीय युवती के साथ हुई गैंगरेप की शर्मशार करने वाली घटना इसका प्रमाण है। थाना क्षेत्र के ग्राम ताखौरी की निवासी अनीता (परिवर्तित नाम) 3 जून 2018 की रात्रि में घर के अंदर आंगन में सो रही थी। देर रात उसके घर की बाउण्ड्रीबाॅल फांद कर आये 6 युवक अपरहरण कर उसे अपने साथ ले गये। लगभग 24 घंटे तक अनीता को बंधक बनाकर सभी आरोपियों ने बारी-बारी से उसे अपनी हवस का शिकार बनाया।

जिला चिकित्सालय कटनी में भर्ती गैंगरेप पीड़िता के बाजू से खड़ी उसकी मां।

उधर जवान बेटी के रहस्यमय तरीके से लापता होने से परेशान परिजनों द्वारा आसपास खोजबीन करने के बाद 4 जून को रैपुरा थाना पुलिस को इसकी सूचना दी गई। युवती के लापता होने की घटना को गंभीरता से लेते हुए पुलिस ने गुम इंसान का मामला दर्ज किया। देर रात्रि युवती के पिता ने फोन पर पुलिस को बताया कि बिहारी यादव की पत्नी ने सूचना दी है कि उसकी बेटी बेहोसी की हालत में खेत में पड़ी है। अचेत हालत में मिली अनीता को पुलिस वाहन से इलाज हेतु रैपुरा स्वास्थ्य केन्द्र लाया गया जहां प्राथमिक उपचार के बाद कटनी के लिए रेफरल कर दिया गया। मंगलवार को अनीता के पूर्णतः होश में आने पर रैपुरा थाना प्रभारी सुरेन्द्र द्विवेदी ने कटनी जिला चिकित्सालय पहुंचकर महिला पुलिस की मदद से घटना के संबंध में उसके बयान दर्ज किये गये। जिसमें अनीता ने अपने साथ हुई दंरिदगी की पूरी दांस्ता बंया करते हुए बताया कि पूर्व सरपंच पुत्र रामू यादव व राजेन्द्र यादव निवासी ग्राम किशुनपाटन एवं उनके चार साथियों संतोष यादव, बहादुर यादव, लालू यादव, राजाभईया यादव सभी निवासी ग्राम ताखौरी ने रात्रि में ही गांव के बाहर ले जाकर ने बारी-बारी से उसकी आबरू लूटी। इस दौरान बेबस और असहाय अनीता रोती-गिड़गिड़ाती और भगवान की वास्ता देती रही है लेकिन इन कामांध दारिंदों को उस पर जरा भी रहम नहीं आया। रैपुरा थाना प्रभारी ने बताया कि सामूहिक दुष्कर्म का शिकार युवती के बयानों की वीडियोग्राफी कराई गई है, उसी के आधार पर सभी 6 आरोपियों के खिलाफ प्रकरण पंजीबद्ध किया जा रहा है।

भाई से है आरोपियों के पिता का विवाद-

          सामूहिक दुष्कर्म का शिकार बनी अनीता के पिता जीवनलाल और भाई कमलकिशोर (सभी परिवर्तित नाम) ने जानकारी देते हुए बताया कि आरोपियों रामू यादव और राजेन्द्र यादव से पिता साहब सिंह यादव से उनका पुराना विवाद चल रहा है। दरअसल कमलकिशोर रोजगार सहायक के पद पर पदस्थ है। साहब सिंह यादव के सरपंच रहते हुए उसके पुत्र संतोष याादव व साथियों ने कमलकिशोर के ऊपर हमला कर दिया था। इस मामले में आरोपियों को जेल जाना पड़ा था। इधर शासकीय कार्य में बाधा डालने की शिकायत पर जनपद पंचायत शाहनगर में सरपंच साहब सिंह के विरूद्ध धारा 40 की कार्यवाही करते हुए उसे पद से प्रथक कर दिया था। पीड़िता के भाई के अनुसार सरपंची गंवाने की कसक में बदला लेने के उद्देश्य से ही साहब सिंह यादव के बेटों ने अपने दोस्तों के साथ मिलकर इस घिनौनी घटना का अंजाम दिया है।

इनका कहना है-

            ‘‘पीड़िता के बयानों के आधार पर उसके साथ गैंगरेप करने वाले 6 आरोपियों के खिलाफ प्रकरण पंजीबद्ध किया जा रहा है। वर्तमान में सभी आरोपी फरार है जिन्हें शीघ्र ही गिरफतार किया जायेगा। दुष्कर्म पीड़िता के भाई और आरोपियों के बीच पुरानी रंजिश है। जिसमें आपराधिक प्रकरण पंजीबद्ध है।‘‘
                                                                                             -सुरेन्द्र द्विवेदी, थाना प्रभारी रैपुरा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here