वर्चुअल क्लॉस-रूम में पढ़ेेेेगें सरकारी स्‍कूलों के बच्‍चे

0
656
प्रतीकात्‍मक फोटो

प्रदेश के 224 सरकारी स्कूलों में बनाये गये वर्चुअल क्लॉस-रूम

छात्रवृत्ति वितरण के लिये मिशन वन क्लिक 

भोपाल। प्रदेश में कक्षा-9 से 12 तक पढ़ने वाले विद्यार्थियों को डिजिटल स्टडी मटेरियल के माध्यम से अध्यापन कराने के लिये विकासखण्ड-स्तर के 224 सरकारी विद्यालयों का चयन किया गया है। इन विद्यालयों में वर्चुअल क्लॉस-रूम बनाये गये हैं। चयनित विद्यालय में एक कक्ष को लर्निंग एण्ड के रूप में विकसित किया गया है, जिसमें आवश्यक उपकरण कम्प्यूटर, टी.व्ही., प्रोजेक्टर और कैमरा स्थापित किये गये हैं। वर्चुअल क्लॉस के माध्यम से अध्यापन कार्य विद्यार्थियों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने में सहायक सिद्ध हुआ है। प्रदेश के दूरस्थ ग्रामीण अंचल के विद्यार्थियों के लिये यह कक्षाएँ उपयोगी साबित हुई हैं। इससे सभी विद्यार्थियों के लिये उत्कृष्ट अध्यापन एवं सीखने की प्रक्रिया रुचिकर एवं प्रभावी हुई है। वर्चुअल क्लॉस-रूम का उपयोग राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा मिशन के अंतर्गत प्रशिक्षित स्रोत शिक्षकों द्वारा शिक्षण कार्य के लिये किया जा रहा है।

मिशन वन क्लिक से छात्रवृत्ति वितरण-

प्रदेश के स्कूलों में पढ़ने वाले छात्रों को विभिन्न विभागों की ओर से दी जाने वाली छात्रवृत्ति को ऑनलाइन कर दिया गया है। आठ विभागों की 30 प्रकार की छात्रवृत्ति समग्र शिक्षा पोर्टल के माध्यम से ऑनलाइन वितरित करने के लिये स्कूल शिक्षा विभाग को नोडल विभाग बनाया गया है। इस प्रक्रिया में सभी सरकारी, गैर-सरकारी स्कूल, शिक्षण संस्थाओं में अध्ययनरत करीब एक करोड़ 48 लाख विद्यार्थियों की प्रोफाइल को ऑनलाइन कर छात्रवृत्ति की गणना की गई है। प्रत्येक स्कूली विद्यार्थी का समग्र यूनिक आई.डी. के आधार पर उसके स्कूल के डाइस कोड के साथ मेपिंग कर कक्षावार, स्कूलवार नामांकन ऑनलाइन किये जाने के लिये समग्र शिक्षा पोर्टल तैयार किया गया है। वर्ष 2017-18 में मिशन वन क्लिक में विद्यार्थियों की छात्रवृत्ति उनके बैंक खाते में ट्रांसफर की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here