चरण सिंह की सक्रियता से पन्ना में बढ़ी सियासी सरगर्मी

0
1676
रोजा अफ्तार के दौरान मुस्लिम भाईयों के साथ सपा नेता चरण सिंह यादव।

सबके सहयोग से पन्ना के विकास को मिलेगा नया आयाम-श्री यादव

पन्ना। रडार न्‍यूज समाजवादी पार्टी के नेता एवं पूर्व विधायक दीपनारायण सिंह यादव के छोटे भाई चरण सिंह यादव ने आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर पन्ना में अपनी सक्रियता तेज कर दी है। सोमवार 11 जून को श्री यादव द्वारा यहां होटल सान्वी लैण्डमार्क में रमजान के मुबारक महीने के अवसर पर रोजेदारों के लिए रोजा अफ्तार का भव्य आयोजन किया गया। जिसमें बड़ी संख्या में मुस्लिम समाज के लोग शामिल हुए। समाजवादी पार्टी नेता चरण सिंह की इस पहल को राजनैतिक विशलेषक एमवाई (मुस्लिम़-यादव) समीकरण को मजबूत करने की कवायद के रूप मेें देख रहे है। हालांकि रोजा अफ्तार के बाद पत्रकारों से संक्षिप्त चर्चा में श्री यादव ने स्पष्ट किया कि पन्ना के विकास और यहां के लोगों की खुशहाली के लिए उन्हें समाज के सभी वर्गों के समर्थन की दरकार है। हम समाजवादी लोगों के लिए हर धर्म, जाति और सम्प्रदाय के लोगों का सदैव ही बराबर महत्व रहा है। आगामी विधानसभा चुनाव में पन्ना सीट से चुनावी समर में उतरने संबंधी सवाल का सीधेतौर पर कोई जबाब न देेते हुए चरण सिंह यादव ने सधे शब्दों में सिर्फ इतना ही कहा कि पन्ना से उनका लगाव और रिश्ता पुराना है, जिसे वे और अधिक मजबूत बनाना चाहते है। यहां के लोगों को साथ लेकर पन्ना के पिछड़ेपन को दूर करने लिए कुछ सार्थक पहल करना चाहता हूं। लोगों का प्यार और सहयोग मिला तो निश्चित ही हीरों की नगरी को उसका हक दिलाने में कोई कसर नहीं छोडूंगा।

जनप्रतिनिधियों ने किया निराश-

पत्रकारों के सवालों का जबाब देते समाजवादी पार्टी नेता चरण सिंह यादव।

एक सवाल के जबाब में उन्होंने किसी का नाम लिये बगैर बड़ा ही संतुलित उत्तर देते हुए कहा कि जिस जिले से लगातार मंत्री बनते रहे हो वहां की बदहाली देखकर दुख होता है। पन्ना के लोगों ने अपनी तरफ से कोई कसर नहीं छोड़ी, नेताओं को भरपूर समर्थन दिया लेकिन वे जनाकांक्षाओं की कसौटी पर खरे नहीं उतरे। जहां का हीरा पूरी दुनिया में विख्यात है वहां डायमण्ड पार्क का निर्माण न करके इंदौर में डायमण्ड पार्क बनाकर पन्ना के हितों पर कुठाराघात किया जा रहा है। विश्वविद्यालय की स्थापना और मेडिकल काॅलेज की स्थापना के मामले में भी पन्ना की घोर उपेक्षा की गई। दुख की बात यह है कि यहां के जनप्रतिनिधियों ने विकास की इन महत्वपूर्ण सौगातों को दिलाने के लिए कोई ठोस पहल नहीं की। अत्याधिक पिछड़ेपन और बदहाली का ही यह दुष्परिणाम है कि इस जिले से प्रत्येक वर्ष बड़ी तादाद में काम के आभाव में मजदूर महानगरों के लिए पलायन कर जाते है।

समाजसेवा है उद्देश्य-

श्री यादव ने जोर देते हुए कहा कि वे अपने व्यक्तिगत सम्पर्कों और स्थानीय लोगों की मदद से पन्ना मेें उपलब्ध प्राकृतिक संसाधनों से ही यहां के विकास को गति देने के लिए हर संभव प्रसास करेंगे। उन्होंने बताया कि विकास के ऐसे माॅडल को अपनाया जायेगा जिससे पर्यावरण संरक्षण भी होगा और लोगों को रोजगार भी मिलेगा। उल्लेखनीय है कि हाल ही में उत्तरप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव पन्ना के प्रवास पर आये थे। उस दौरान सपा नेता चरण सिंह उनके स्वागत को लेकर वृहद इंतजाम किये थे। मालूम हो कि श्री यादव उत्तरप्रदेश के झांसी जिले के मूल निवासी है। बेहद ही विनम्र और मिलनसार स्वभाव के चरण सिंह ने कहा कि राजनीति मेरे लिए समाजसेवा का माध्यम है। मैं भले ही किसी पद तक न पहुंच पांऊ लेकिन बिना पद के समाजसेवा करने से मुझे कोई नहीं रोक सकता। अपनी भावी योजनाओं और कार्यक्रमों के संबंध मेें उन्होंने बताया कि स्थानीय लोगों से चर्चा उपरांत अपने गृह जिले की तर्ज पर यहां भी प्रत्येक वर्ष गरीब परिवारों की 151 बहिनों का स्वयं के खर्च पर सामूहिक विवाह कार्यक्रम आयोजित करने के प्रयास किये जायेगें।

कांग्रेस और भाजपा के खेमें में बढ़ी चिंता-

उल्लेखनीय है कि चरण सिंह यादव का अच्छा खासा औद्योगिक साम्रज्य है। जोकि कई प्रांतों में फैला हुआ है। रोजा अफ्तार में दिल खोलकर खर्च करने वाले सपा नेता चरण सिंह यादव की पन्ना मेें बढ़ती सक्रियता से कांग्रेस और भाजपा के खेमों में हड़कम्प मचा है। लोगों की जुबान पर यह आम चर्चा है कि पन्ना सीट से चरण सिंह यदि चुनावी समर में यदि साईकिल पर सवार होकर उतरते है तो भाजपा और कांग्रेस के प्रत्याशियों के लिए जीत की राह आसान नहीं होगी। उत्तरप्रदेश से सटी पन्ना विधानसभा सीट पर खासकर तराई अंचल मेें समाजवादी पार्टी का मजबूत आधार है। पिछले दो विधानसभा चुनावों में समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार रहे राजकुमार जैन को मिले वोट इसका प्रमाण है कि तीसरे दल से मजबूत प्रत्याशी के आने पर भाजपा और कांग्रेस के जीत के समीकरण बिगड़ सकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here