विधानसभा चुनाव | अंतिम दिन 40 नाम निर्देशन पत्र दाखिल, पन्ना से शिवजीत, बृजेंद्र प्रताप और अनुपमा ने भरा पर्चा, पवई से प्रहलाद, मुकेश, भुवन, एवं अनिल ने दाखिल किया नामांकन

0
2412
जुलुश के रूप में नाम निर्देशन पत्र दाखिल करने के लिए समर्थकों के साथ जाते पन्ना से कांग्रेस प्रत्याशी शिवजीत सिंह।

* गुनौर सीट से शिवदयाल और राजेश ने जमा किया नाम निर्देशन पत्र

* भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष एवं सीनियर नेता जयप्रकाश चतुर्वेदी ने की बगाबत

* टिकिट वितरण से असंतुष्ट होकर पन्ना सीट से निर्दलीय नामांकन भरा

* महेंद्रपाल का टिकिट काटकर बसपा ने पन्ना से अनुपमा यादव को बनाया प्रत्याशी

* कांग्रेस के बागी भुवन विक्रम सिंह ने पवई से सपा प्रत्याशी के रूप दाखिल किया पर्चा

* क्षेत्रीय संघर्ष समिति में पड़ी फूट अनिल तिवारी ने आम आदमी पार्टी से चुनावी समर में उतरे

शादिक खान, पन्ना। रडार न्यूज   मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव 2018 के लिए नामांकन दाखिल करने के अंतिम दिन शुक्रवार 9 नवंबर को पन्ना जिले की तीनों विधानसभा सीटों पर सर्वाधिक 40 उम्मीदवारों द्वारा नाम निर्देशन पत्र दाखिल किये गए। जिसमें विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र पवई के लिए 16, गुनौर के लिए 6 एवं पन्ना के लिए 18 अभ्यर्थियों ने नामांकन दाखिल किया है। अंतिम दिन पर्चे भरने वालों की भीड़ इसलिए जुटी क्योंकि गुरुवार शाम से लेकर शुक्रवार की सुबह तक पन्ना जिले का राजनैतिक और चुनावी परिदृश्य लगातार बदलता रहा। सबकुछ इतनी तेजी से और नाटकीय तरीके से घटित हुआ कि लोग दंग रह गए। लंबे इंतजार के बाद पन्ना सीट पर कांग्रेस ने जहां गुरुवार को दोपहर में अपना पत्ता खोलते हुए प्रत्याशी के रूप शिवजीत सिंह के नाम का आधिकारिक तौर पर ऐलान किया वहीं बीजेपी ने अंतिम समय में पवई के टिकिट में फेरबदल का अप्रत्याशित निर्णय लेते हुए वहां से पूर्व घोषित प्रत्याशी बृजेंद्र प्रताप सिंह को पन्ना सीट पर स्थानांतरित कर पवई से प्रहलाद लोधी को अपना उम्मीदवार घोषित कर दिया।
सामूहिक रूप से नामांकन दाखिल करने जाते भाजपा प्रत्याशी पवई से प्रहलाद सिंह लोधी, पन्ना से बृजेंद्र प्रताप सिंह और गुनौर सीट से राजेश कुमार वर्मा।
इस बीच गुरुवार देर रात बहुजन समाज पार्टी ने पन्ना सीट से महेन्द्र पाल वर्मा का टिकिट घोषित करने के महज कुछ घंटे के ही अंतराल में काटते हुए उत्तर प्रदेश के समाजवादी पार्टी के नेता चरन सिंह यादव की पत्नी अनुपमा यादव को अपना प्रत्याशी बनाते हुए उनके नाम पर सिंबल (बी-फार्म) जारी कर दिया। उधर, पवई से समाजवादी पार्टी पार्टी प्रत्याशी के तौर पर नामांकन दाखिल कर चुके प्रहलाद लोधी के भाजपा में शामिल होते ही उन्हें पार्टी ने क्षेत्रीय उम्मीदवार की मांग के मद्देनजर टिकिट दे दी। प्रहलाद के पाला बदलते ही समाजवादी पार्टी ने पवई सीट से कांग्रेस के बागी युवा कांग्रेस के कार्यवाहक जिलाध्यक्ष भुवन विक्रम सिंह को साईकिल की सवारी के लिए अधिकृत कर दिया।
पवई सीट से नामांकन दाखिल करते हुए आम आदमी पार्टी प्रत्याशी अनिल तिवारी।
कांग्रेस से निष्कासित दिग्गज नेता अनिल तिवारी आम आदमी पार्टी की झाड़ू लेकर पवई का राजनैतिक कचरा साफ करने चुनावी अखाड़े में कूद पड़े। अंतिम समय में हुई इस जबरदस्त उठापटक में टिकिट प्राप्त करने और टिकिट से वंचित रहने पर बागी हुए उम्मीदवारों ने चुनावी महासमर में उतरने के लिए शुक्रवार को अपने नामांकन दाखिल कर दिए। नाम निर्देशन पत्र जमा करने का अंतिम दिन होने के कारण शुक्रवार को सुबह 11 बजे से ही कलेक्ट्रेट परिसर में स्थित तीनों विधानसभा क्षेत्रों के रिटर्निंग ऑफिसर के कार्यालयों में उम्मीदवार अपना नाम निर्देशन पत्र प्रस्तुत करने के लिए पहुंचने लगे थे।

विधानसभा क्षेत्र पन्ना

पन्ना से नाम निर्देशन पत्र दाखिल करने के लिए पति के साथ जाती सपा प्रत्याशी अनुपमा सिंह यादव।
आखिरी दिन पन्ना विधानसभा क्षेत्र क्रमांक- 60 से कांग्रेस के उम्मीदवार शिवजीत सिंह, भारतीय जनता पार्टी से बृजेंद्र प्रताप सिंह, बहुजन समाज पार्टी से अनुपमा चरन सिंह यादव, जन अधिकार पार्टी से महेंद्र पाल वर्मा, जयप्रकाश चतुर्वेदी ने निर्दलीय, नरेंद्र कुमार ने भारतीय जनता पार्टी, दशरथ सिंह यादव ने समाजवादी पार्टी, अंकित ने निर्दलीय, साधू ने निर्दलीय, प्रमोद कुमार सिंह निर्दलीय, राष्ट्रीय महान गणतंत्र पार्टी से श्रीमती नीलम, जयराम निर्दलीय, सपाक्स एवं निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर शालिगराम ने, वृहत्तर भारत प्रजातंत्र सेवा पार्टी से पुष्पेन्द्र कुमार पयासी, विष्णु ने निर्दलीय, उदया आत्मानन्द ने निर्दलीय, लोकपाल सिंह ने निर्दलीय और बहुजन समाज पार्टी से कमलाकांत दुबे ने नामांकन पत्र दाखिल किए हैं।

विधानसभा क्षेत्र पवई

पवई सीट से नाम निर्देशन पत्र जमा करने जाते भाजपा प्रत्याशी प्रहलाद सिंह लोधी।

शुक्रवार 9 नवंबर को विधानसभा क्षेत्र क्रमांक- 58 पवई से नाम निर्देशन पत्र दाखिल करने वालों में समाजवादी पार्टी एवं भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी प्रहलाद सिंह लोधी, कांग्रेस से मुकेश नायक, समाजवादी पार्टी से भुवन विक्रम सिंह, आम आदमी पार्टी से अनिल तिवारी, कमलेश कुमार ने निर्दलीय, कुलदीप तिवारी ने शिवसेना, जन अधिकार पार्टी से गंगाराम कुशवाहा, नन्दू प्रसाद कुशवाहा ने निर्दलीय, प्रकाश ने निर्दलीय, राष्ट्रीय लोक समता पार्टी से बलवान कुशवाहा, मनसुख लाल ने निर्दलीय, गोंडवाना गणतंत्र पार्टी से महिपाल सिंह, मुकेश कुमार ने निर्दलीय, भारतीय शक्ति चेतना पार्टी से राजू, बहुजन समाज पार्टी से सीताराम पटेल एवं सपाक्स पार्टी से रामनजर ने पर्चा भरा है।

विधानसभा क्षेत्र 59 गुनौर

गुनौर सीट से नामांकन पत्र दाखिल करते कांगेस प्रत्याशी शिवदयाल बागरी।
अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित पन्ना जिले के गुनौर विधानसभा क्षेत्र क्रमांक-59 से नाम निर्देशन पत्र आरओ को प्रस्तुत करने वालों में कांग्रेस के उम्मीदवार शिवदयाल बागरी, भारतीय जनता पार्टी से राजेश कुमार वर्मा, समाजवादी पार्टी एवं निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर बेटूलाल चौधरी ने, सपाक्स पार्टी और निर्दलीय अभ्यर्थी के रूप में खिलावन ने, रामरूप ने निर्दलीय और बहुजन समाज पार्टी से इंजीनियर जीवन लाल सिद्धार्थ ने नामांकन पत्र दाखिल किए हैं उल्लेखनीय है कि पन्ना, पवई और गुनौर विधानसभा क्षेत्र से कुछ अभ्यर्थियों ने एक से अधिक नाम निर्देशन पत्र प्रस्तुत किये है। पन्ना से दशरथ सिंह यादव और गुनौर से इंजीनियर जीवन लाल सिद्धार्थ ने एक ही पार्टी से दूसरी बार नामांकन दाखिल क्या किया है। जबकि कुछ उम्मीदवारों ने अलग-अलग राजनैतिक दल से और कुछ ऐसे भी हैं जिनके द्वारा एक नाम निर्देशन पत्र किसी राजनैतिक दल के उम्मीदवार के रूप में तथा दूसरा नाम निर्देशन पत्र निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर भरा गया है।

गाजे-बाजे के साथ भरा पर्चा

पवई सीट से नाम निर्देशन पत्र दाखिल करते कांगेस प्रत्याशी मुकेश नायक।
सर्दी के आगाज के साथ ही पन्ना जिले में सियासी पारा चढ़ गया है। नामांकन दाखिल करने के आखिरी दिन पन्ना में उत्सव सा माहौल रहा। विधानसभा चुनाव के महासमर में उतरने के लिए शुक्रवार 9 नवंबर को अभ्यर्थियों में अपार उत्साह उत्साह और जूनून देखा गया। फलस्वरूप पन्ना से कांग्रेस प्रत्याशी शिवजीत सिंह, भाजपा प्रत्याशी बृजेंद्र प्रताप सिंह, पवई से भाजपा के उम्मीदवार प्रहलाद सिंह लोधी, कांग्रेस से मुकेश नायक, समाजवादी पार्टी से भुवन विक्रम सिंह और आम आदमी पार्टी से अनिल तिवारी तथा गुनौर सीट से कांग्रेस के प्रत्याशी शिवदयाल बागरी, भाजपा के राजेश कुमार वर्मा अपनी-अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं-पदाधिकारियों और समर्थकों की फौज के साथ नामांकन दाखिल करने पहुंचे। फूलमाला पहने अभ्यर्थी हाथ जोड़कर लोगों का अभिवादन करते हुए जुलुस के रूप में कलेक्ट्रेट पहुंचे। इस बीच ढ़ोल-नगाड़ों की गूंज और आतिशबाजी जारी रही। वहीं उत्साही समर्थक अपने उम्मीदवार की जीत के नारे लगाते रहे।

प्रत्याशियों को लेकर रही यह चर्चा

पन्ना सीट से पर्चा दाखिल करने के बाद हाथ जोड़कर लोगों का अभिवादन करते कांगेस प्रत्याशी शिवजीत सिंह।
आखिरी समय में टिकिट बदलकर पन्ना से भाजपा प्रत्याशी घोषित किये गए ब्रजेंद्र प्रताप सिंह जब पर्चा भरने पहुंचे तो उनके साथ पन्ना विधानसभा क्षेत्र के प्रमुख पार्टी नेता नजर नहीं आये। नारेबाजी करते हुए बृजेंद्र के साथ चल रहे अधिकांश समर्थक भी पन्ना के बजाय उनके पुराने निर्वाचन क्षेत्र पवई के ही रहे। पन्ना सीट से मंत्री कुसुम सिंह मेहदेले का टिकिट कटने से नाराज मेहदले परिवार के सदस्यों व उनके अधिकांश समर्थकों ने बृजेंद्र सहित अन्य अभ्यर्थियों से दूरी बनाये रखी। उधर, कांग्रेस की जिलाध्यक्ष दिव्यरानी सिंह अपनी पार्टी के किसी भी प्रत्याशी के साथ पर्चा दाखिल कराने नहीं आईं। पन्ना से कांग्रेस प्रत्याशी शिवजीत सिंह के साथ सबसे अधिक समर्थक और कुछेक लोगों को छोड़कर क्षेत्र के अधिकांश पार्टी नेता उनका पर्चा भरवाने पहुंचे।
पवई सीट से समाजवादी पार्टी प्रत्याशी युवा नेता भुवन विक्रम सिंह माँ आशारानी सिंह के साथ।
कांग्रेस से टिकिट न मिलने और बसपा से कुछ ही घंटे के अंदर टिकिट कटने से महेंद्र पाल वर्मा और उनके साथ आये समर्थक काफी निराश दिखे। महेंद्र पाल ने बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती पर टिकिट बेंचने का आरोप लगाया। उन्होंने कलेक्ट्रेट परिसर में मीडिया कर्मियों से चर्चा में कहा कि बसपा सुप्रीमो मायावती ने मेरा टिकिट काटकर पन्ना सीट से चरन सिंह यादव की पत्नी को 5 करोड़ रुपये में टिकिट दिया है। उधर पवई सीट से समाजवादी पार्टी से भुवन विक्रम सिंह, आम आदमी पार्टी से अनिल तिवारी और बहुजन समाज पार्टी से सीताराम पटेल के नामांकन दाखिल करने को क्षेत्रीय संघर्ष समिति की एकता में बिखराब के तौर देखा जा रहा है। कलेक्ट्रेट के बाहर जुटे विभिन्न दलों से जुड़े लोगों लोगों के बीच यह सब बातें चर्चा का विषय बनीं रहीं। पन्ना विधानसभा सीट से प्रमुख दलों के प्रत्याशियों में शिवजीत सिंह को छोड़कर अन्य उम्मीदवारों के बाहरी होने को लोग अजब संयोग बताते हुए चर्चा करते रहे।